Bullet Train: पीएम मोदी के ड्रीम प्रोजेक्ट को पूरा करेगी Larsen and Toubro, सिर्फ 2 घंटे में पहुंचेंगे अहमदाबाद से मुंबई

लार्सन एंड टूब्रो को पीएम मोदी के ड्रीम प्रोजेक्ट का कॉन्ट्रैक्ट मिला
लार्सन एंड टूब्रो को पीएम मोदी के ड्रीम प्रोजेक्ट का कॉन्ट्रैक्ट मिला

इन्फ्रास्ट्रक्चर सेक्टर की दिग्गज कंपनी लार्सन एंड टूब्रो (Larsen and Toubro) को पीएम मोदी (PM Modi) के ड्रीम प्रोजेक्ट का कॉन्ट्रैक्ट मिल गया है. सरकार ने कंपनी को बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट (Bullet Train project) के लिए 25,000 करोड़ रुपये का ठेका दिया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 29, 2020, 9:50 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली: इन्फ्रास्ट्रक्चर सेक्टर की दिग्गज कंपनी लार्सन एंड टूब्रो (Larsen and Toubro) को पीएम मोदी (PM Modi) के ड्रीम प्रोजेक्ट का कॉन्ट्रैक्ट मिल गया है. सरकार ने कंपनी को बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट (Bullet Train project) के लिए 25,000 करोड़ रुपये का ठेका दिया है. यह ठेका मुंबई-अहमदाबाद के बीच बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट को पूरा करने के लिए दिया है. बता दें इस प्रोजेक्ट में L&T के साथ-साथ टाटा प्रोजेक्ट-जे कुमार इंफ्रा, एनसीसी-अफकॉस इंफ्रा और इरकॉन इंटरनेशनल-जेएमसी प्रोजेक्ट इंडिया भी रेस में शामिल थीं.

कंपनी के CEO ने दी जानकारी
एलएंडटी के मुख्य कार्यपालक अधिकारी (CEO) और प्रबंध निदेशक एस एन सुब्रमणियम ने बुधवार को वित्तीय परिणाम की घोषणा के दौरान कहा, ‘‘हमने सरकार से अब तक का सबसे बड़ा कॉन्ट्रैक्ट हासिल किया है. यह 25,000 करोड़ रुपये का आर्डर है. यह हमारे लिये सबसे बड़ा कॉन्ट्रैक्ट है. साथ ही इतनी बड़ी राशि का यह सबसे बड़ा सिंगर प्रोजेक्ट आर्डर है, जिसे सरकार ने दिया है.

यह भी पढ़ें: ऑनलाइन शॉपिंग करने से पहले जानें लें No Cost EMI से जुड़ी सभी बातें, वरना लग सकता है आपको चूना
4 साल में पूरा करना है प्रोजेक्ट


उन्होंने कहा कि कॉन्ट्रैक्ट के तहत परियोजना को चार साल में पूरा करना है. नेशनल हाई स्पीड रेल कॉरपोरेशन ने 24 सितंबर को अहमदाबाद-मुंबई बुलेट रेल परियोजना के लिये करीब 1.08 लाख करोड़ रुपए की बोलियों को खोला था. इसमें परियोजना का गुजरात में पड़ने वाला हिस्सा शामिल है.

2 घंटे में अहमदाबाद से मुंबई पहुंच जाएंगे
सरकार के बुलेट ट्रेन लाने के बाद अहमदाबाद से मुंबई दो घंटे में पहुंचा जा सकेगा. इस प्रोजेक्ट में करीब 47 प्रतिशत हिस्से को गुजरात में वापी से वड़ोदरा के बीच रखा जाएगा.

इन कंपनियों ने भी लिया था हिस्सा
NHSRCL ने कहा कि कुल 7 कंपनियों ने बिडिंग में हिस्सा लिया था. बता दें इसमें Afcons Infrastructure Limited IRCON International Limited JMC Projects India Ltd-Consortium and NCC Limited Tata Project Ltd. - J.Kumar Infra Projects Ltd. - HSR Consortium शामिल थीं.

मुंबई-अहमदाबाद रूट पर बनेगा ये प्रोजेक्ट
मुंबई-अहमदाबाद रूट पर इस समय करीब 32 ट्रेनें चलती हैं. तेजस एक्सप्रेस भी इस रूट में शामिल है. इसके अलावा इस रूट पर हवाई उड़ानों का भी संचालन काफी ज्यादा होता है.

कौन कर रहा इस प्रोजेक्ट की फंडिग?
इस टेंडर में वापी और वडोदरा के बीच 237 किमी लंबे कॉरिडोर का निर्माण होगा. इसमें चार स्टेशन वापी, बिलिमोर, सूरत और भरूच और सूरत डिपो शामिल हैं. इस बीच में 24 नदियां होंगी और 30 रोड क्रॉसिंग होंगे. मुंबई-अहमदाबाद बुलेट ट्रेन कॉरिडोर की कुल लागत 1.08 लाख करोड़ है और इसके लिए जापान इंटरनेशनल कोऑपरेशन एजेंसी फंडिंग कर रही है.

यह भी पढ़ें: 1 नवंबर से बदल जाएंगे आपके पैसों से जुड़े ये 7 नियम, आपकी जेब पर पड़ेगा सीधा असर

किसने लगाई थी कितने करोड़ की बोली?
आपको बता दें NHSRCL ने सरकार के इस प्रोजेक्ट के लिए लगभग 83 फीसदी जमीन पहले ही ले थी. यह पूरी जमीन गुजारत में है. टाटा की अगुवाई वाले ग्रुप ने 28 हजार करोड़ रुपए की बोली लगाई थी. अफकॉस इंफ्रा की अगुवाई वाले ग्रुप ने 37 हजार की बोली लगाई थी. वहीं, इन दोनों ग्रुप की तुलना में एलएंडटी ने 3 हजार करोड़ और 12 हजार करोड़ रुपए कम की बोली लगाई थी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज