होम /न्यूज /व्यवसाय /एलटीसी के फाइनल सेटलमेंट के लिए मिली मोहलत, अब इस तारीख तक जमा कर सकते हैं बिल

एलटीसी के फाइनल सेटलमेंट के लिए मिली मोहलत, अब इस तारीख तक जमा कर सकते हैं बिल

सरकार ने कोरोना के मामले बढ़ने के कारण हो रही मुश्किलों को देखते हुए अंतिम तारीख बढ़ाने का फैसला किया है.

सरकार ने कोरोना के मामले बढ़ने के कारण हो रही मुश्किलों को देखते हुए अंतिम तारीख बढ़ाने का फैसला किया है.

एलटीसी स्पेशल कैश पैकेज स्कीम स्कीम के लिए बिल अब 31 मई तक जमा कराए जा सकते हैं. पहले यह तारीख 30 अप्रैल की थी.

    नई दिल्ली. सरकारी कर्मचारियों के लिए एलटीसी स्पेशल कैश पैकेज स्कीम का फायदा लेने की अंतिम तारीख बढ़ गई है. केंद्र सरकार के फैसले के मुताबिक अब इसके लिए 31 मई तक बिल जमा किए जा सकेंगे. पहले इस स्कीम के लिए अंतिम तारीख 30 अप्रैल की थी.
    केंद्र सरकार ने कोरोना के मामले बढ़ने के कारण हो रही मुश्किलों को देखते हुए अंतिम तारीख बढ़ाने का फैसला किया है. हालांकि, इस स्कीम के लिए खरीदारी करने की निर्धारित तारीख 31 मार्च, 2021 को नहीं बदला गया है. इससे उन सरकारी कर्मचारियों को मदद मिलेगी जो इस स्कीम का लाभ लेना चाहते थे लेकिन निर्धारित अवधि में बिल जमा नहीं कर सके थे. पिछले वर्ष कोरोना के कारण यात्रा पर प्रतिबंध और इकोनॉमी की रफ्तार धीमी पड़ने के बाद सरकार ने यह स्कीम घोषित की थी.
    यह भी पढ़ें : Success Story : माता-पिता की देखभाल के लिए नौकरी छोड़ टीपीए बिजनेस किया, अब 3000 करोड़ का पोर्टफोलियो

    LTC किराए और लीव एनकैशमेंट के बदले सरकारी कर्मचारियों को एडवांस देने का प्रावधान
    केंद्र सरकार ने पिछले वर्ष ब्लॉक 2018-21 के दौरान सरकारी कर्मचारियों के लिए लीव ट्रैवल कंसेशन (LTC) के बदले स्पेशल पैकेज की घोषणा की थी. इसका उद्देश्य सरकारी कर्मचारियों की ओर से खपत को बढ़ावा देना था और इसका लाभ इस वर्ष 31 मार्च तक उठाया जा सकता था. LTC कैश वाउचर स्कीम में LTC किराए और लीव एनकैशमेंट के बदले सरकारी कर्मचारियों को एडवांस देने का प्रावधान था.
    यह भी पढ़ें : एनपीए से निपटने जून में शुरू हो सकता है बैड बैंक, सरकारी-प्राइवेट बैंकों की होगी भागीदारी 

    एक से अधिक बिलों को स्वीकार किया जा सकता है
    सामान की खरीदारी सरकारी कर्मचारी के जीवनसाथी या LTC किराए के लिए पात्र परिवार के किसी सदस्य के नाम पर भी की जा सकती थी. इसमें एक से अधिक बिलों को स्वीकार किया जा सकता था. खरीदारी पिछले वर्ष स्कीम का ऑर्डर जारी होने के बाद सेस इस वर्ष 31 मार्च तक की जा सकती थी. खरीदारी में 12 प्रतिशत और अधिक का गुड्स एंड सर्विसेज टैक्स (GST) होना चाहिए और इसके लिए भुगतान ऑनलाइन माध्यम से करने की शर्त थी.
    यह भी पढ़ें :  ड्रीम कार खरीद रहे हैं तो इन पांच बातों का जरूर ध्यान रखें, कीमतों में होगा फायदा 

    Tags: Business, Business news, Business news in hindi, LTC, Modi government

    टॉप स्टोरीज
    अधिक पढ़ें