सुप्रीम कोर्ट का आदेश: आम्रपाली बिल्डर की तरह यूनिटेक का भी होगा फोरेंसिक ऑडिट

सुप्रीम कोर्ट ने आम्रपाली बिल्डर के बाद यूनिटेक पर भी कड़ी कार्रवाई की है. कोर्ट ने यूनिटेक की सभी 74 कंपनियों के ऑडिट करने का आदेश दिया.

News18Hindi
Updated: December 7, 2018, 6:28 PM IST
सुप्रीम कोर्ट का आदेश: आम्रपाली बिल्डर की तरह यूनिटेक का भी होगा फोरेंसिक ऑडिट
सांकेतिक तस्वीर
News18Hindi
Updated: December 7, 2018, 6:28 PM IST
सुप्रीम कोर्ट ने आम्रपाली बिल्डर के बाद यूनिटेक पर भी कड़ी कार्रवाई की है. कोर्ट ने यूनिटेक की सभी 74 कंपनियों के ऑडिट करने का आदेश दिया.  कोर्ट ने कहा है कि जो साल 2006 से यूनिटेक की सभी 74 कंपनियों और उनकी सहायक कंपनियों के खातों का ऑडिट करेगी. कोर्ट में संजय चंद्रा की ओर से पेश वकीलों ने उनकी ज़मानत के किये कई बार आग्रह किया, लेकिन कोर्ट ने साफ कर दिया कि जब तक फोरेसिंक ऑडिट नहीं हो जाता, तब तक ज़मानत की अर्जी पर विचार नहीं होगा.आपको बता दें कि हजारों घर खरीदारों से पैसे लेकर घर नहीं देने के मामले मेंयूनिटेक के मालिक संजय चंद्रा और अजय चंद्रा 16 महीनों से जेल में बंद हैं.

ये भी पढ़ें-मोदी सरकार का बड़ा तोहफा, 40% बढ़ाया पेंशन स्कीम में योगदान, ऐसे मिलेगा आपको फायदा

नहीं मिलेगी ज़मानत-
>> सुप्रीम कोर्ट का आदेश- आम्रपाली की तरह यूनिटेक का भी फोरेंसिक ऑडिट होगा.

>> फ़ोरेंसिक आडिट होने तक यूनिटेक के प्रमोटर संजय चंद्रा को ज़मानत नहीं मिलेगी.

ये भी पढ़ें-आप भी ले सकते हैं इंडियन ऑयल का पेट्रोल पंप, जानिए पूरा प्रॉसेस

ऑडिटर नियुक्त करने का आदेश- सुप्रीम कोर्ट ने ऑडिटर नियुक्त करने का आदेश दिये जो साल 2006 से यूनिटेक की सभी 74 कंपनियों और उनकी सहायक कंपनियों के खातों का ऑडिट करेगी.
Loading...

ये भी पढ़ें-बैंक में अब Aadhaar जरूरी नहीं! ग्राहकों को देने होंगे ये 5 डॉक्यूमेंट

शुक्रवार को होगी सुनवाई- सुप्रीम कोर्ट ने दोनों फोरेंसिक ऑडिटर को अगले शुक्रवार को कोर्ट में पेश होने के लिए कहा है.

ये भी पढ़ें-LIC की बेस्ट पॉलिसी! रोजाना सिर्फ 9 रुपये खर्च कर मिलेंगे 4.56 लाख रुपये

पांच संपत्तियां बेचने का आदेश- इससे पहले सुप्रीम कोर्ट यूनिटेक की दिल्ली-एनसीआर में पांच ऐसी संपत्तियां जो साफ हैं, उन्हें बेचने का आदेश दे चुका है. इनमें नोएडा और रोहिणी के अम्यूजमेंट पार्क में हिस्सेदारी, गुरुग्राम में पांच एकड़ से ज्यादा भूमि शामिल हैं .
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर