लाइव टीवी

10 सरकारी बैंकों के मर्जर पर वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने दिया बड़ा बयान, कही ये बातें

News18Hindi
Updated: February 27, 2020, 9:54 AM IST
10 सरकारी बैंकों के मर्जर पर वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने दिया बड़ा बयान, कही ये बातें
सरकार ने पिछले साल अगस्त 2019 में देश के 10 बड़े सरकारी बैंकों का चार बैंकों में मर्जर करने का फैसला लिया था.

पीएनबी (Punjab National Bank) इस साल विलय के बाद दूसरा सबसे बड़ा बैंक बन जाएगा. इसके अलावा सिंडिकेट बैंक (Syndicate Bank) का केनरा बैंक (Canara bank) और इलाहाबाद बैंक (Allahabad Bank) का इंडियन बैंक (Indian Bank) के साथ विलय होगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 27, 2020, 9:54 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (Finance Minister of India) ने सरकारी बैंकों (PSU Bank) के प्रस्तावित विलय को लेकर कहा कि इसका प्रोसेस तय समय के अनुसार ही आगे बढ़ रहा है. सरकार ने 10 सरकारी बैंकों को मिलाकर चार बड़े बैंक बनाने का फैसला किया है. वित्त मंत्री ने कहा कि बैंक विलय को लेकर कोई अनिश्चितता नहीं है और प्रक्रियाएं निर्धारित समयसीमा के अनुसार आगे बढ़ रही हैं. ये बातें वित्त मंत्री ने सरकारी बैंकों के प्रमुखों के साथ हुई समीक्षा बैठक के बाद प्रेस कॉन्फ्रेंस में कही. आपको बता दें कि सरकार ने पिछले साल अगस्त 2019 में देश के 10 बड़े सरकारी बैंकों का चार बैंकों में मर्जर करने का फैसला लिया था. यूनाइटेड बैंक ऑफ इंडिया (United Bank of India) और ओरिएंटंल बैंक ऑफ कॉमर्स (Oriental Bank of Commerce) का विलय पंजाब नेशनल बैंक (Punjab National Bank) में होगा.

पीएनबी विलय के बाद दूसरा सबसे बड़ा बैंक होगा. इसके अलावा सिंडिकेट बैंक (Syndicate Bank) का केनरा बैंक (Canara bank) और इलाहाबाद बैंक (Allahabad Bank) का इंडियन बैंक (Indian Bank) के साथ विलय होगा. इसी प्रकार आंध्रा बैंक (Andhra Bank) और कॉरपोरेशन बैंक (Corporation Bank) का यूनियन बैंक ऑफ इंडिया (Union Bank of India) के साथ विलय होगा.

इससे ग्राहकों पर क्या असर होगा- 

(1) ग्राहकों को नया अकाउंट नंबर और कस्टमर आईडी मिल सकता है.(2) जिन ग्राहकों को नए अकाउंट नंबर या IFSC कोड मिलेंगे, उन्हें नए डिटेल्स इनकम टैक्स डिपार्टमेंट, इंश्योरंस कंपनियों, म्यूचुअल फंड, नेशनल पेंशन स्कीम (एनपीएस) आदि में अपडेट करवाने होंगे.SIP या लोन EMI के लिए ग्राहकों को नया इंस्ट्रक्शन फॉर्म भरना पड़ सकता है.



(2) नई चेकबुक, डेबिट कार्ड और क्रेडिट कार्ड इशू हो सकता है. फिक्स्ड डिपॉजिट (एफडी) या रेकरिंग डिपॉजिट (आरडी) पर मिलने वाले ब्याज में कोई बदलाव नहीं होगा. जिन ब्याज दरों पर व्हीकल लोन, होम लोन, पर्सनल लोन आदि लिए गए हैं, उनमें कोई बदलाव नहीं होगा.

(3) कुछ शाखाएं बंद हो सकती हैं, इसलिए ग्राहकों को नई शाखाओं में जाना पड़ सकता है. मर्जर के बाद एंटिटी को सभी इलेक्ट्रॉनिक क्लीयरिंग सर्विस (ECS) निर्देशों और पोस्ट डेटेड चेक को क्लीयर करना होगा.



पिछले साल अप्रैल में हुआ था इन बैकों का विलय- 1 अप्रैल 2019 से बैंक ऑफ बड़ौदा में विजया बैंक और देना बैंक मर्ज हो चुके हैं. यह देश का पहला थ्री वे मर्जर था. इससे पहले SBI में पांच सहयोगी बैंकों और भारतीय महिला बैंक का विलय हुआ था, जो अप्रैल 2017 से प्रभाव में आया. 5 सहयोगी बैंक स्टेट बैंक ऑफ पटियाला, स्टेट बैंक ऑफ बीकानेर एंड जयपुर, स्टेट बैंक ऑफ मैसूर, स्टेट बैंक ऑफ त्रावणकोर और स्टेट बैंक ऑफ हैदराबाद थे.

ये भी पढ़ें-SBI ने ग्राहकों को दी बड़ी सुविधा, करेंगे ये काम तो घर खरीदना हो जाएगा सस्ता

कोरोना वायरस के प्रभावों पर कड़ी नजर
वित्त मंत्री ने यह भी कहा है कि सरकार घरेलू अर्थव्यवस्था पर कोरोना वायरस के प्रभावों को लेकर सजग है और इस पर करीबी नजर रखे हुए है. दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था चीन में कोरोना वायरस बीमारी से 2,700 से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है और कम से कम 80,000 लोग इससे संक्रमित हुए हैं. इस वायरस के फैलने के कारण भारतीय विमानन कंपनियों समेत कई एयरलाइंस ने चीन के लिए अपनी कुछ उड़ानें रद्द की हैं.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 27, 2020, 9:17 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर