जेट एयरवेज के फाउंडर नरेश गोयल को लेकर ED का बड़ा खुलासा!

News18Hindi
Updated: August 24, 2019, 10:33 PM IST
जेट एयरवेज के फाउंडर नरेश गोयल को लेकर ED का बड़ा खुलासा!
प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने शनिवार को कहा कि जेट एयरवेज के फाउंडर नरेश गोयल ने टैक्स से बचने की कई योजनाएं तैयार कीं और इसके जरिए बड़ी मात्रा में पैसा का गबन कर उसे विदेश भेजा.

प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने शनिवार को कहा कि जेट एयरवेज के फाउंडर नरेश गोयल ने टैक्स से बचने की कई योजनाएं तैयार कीं और इसके जरिए बड़ी मात्रा में पैसा का गबन कर उसे विदेश भेजा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 24, 2019, 10:33 PM IST
  • Share this:
प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने शनिवार को कहा कि जेट एयरवेज के फाउंडर नरेश गोयल ने टैक्स से बचने की कई योजनाएं तैयार कीं और इसके जरिए बड़ी मात्रा में पैसा का गबन कर उसे विदेश भेजा. ईडी ने शुक्रवार को नरेश गोयल, उनकी कंपनियों और साझेदार एजेंसियों के दिल्ली और मुंबई स्थित दर्जनों परिसरों पर छापेमारी की थी. ईडी ने विदेशी विनिमय कानून (फेमा) के कथित उल्लंघन के आरोप के आधार पर ये तलाशियां लीं.

छापेमारी में मिले कई बड़े सबूत- ईडी की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि तलाशी में कई संदिग्ध दस्तावेज तथा डिजिटल सबूत जब्त किए गए.

>> ईडी ने कहा कि प्राथमिक जांच से इस बात के संकेत मिलते हैं कि अपनी घरेलू और विदेशी कंपनियों के जरिये गोयल ने कर से बच निकलने के लिए कई योजनाएं तैयार की थीं. उनके जरिए संदेहास्पद लेन-देन के जरिये भारी मात्रा में धन विदेश भेजा गया.

>> एजेंसी ने कहा कि गोयल कई विदेशी कंपनियों को परोक्ष तौर पर नियंत्रित करते हैं, जिनमें से कुछ कर चोरी की पनाहगाह समझे जाने वाले विदेशी स्थानों पर पंजीकृत हैं.

जेट एयरवेज के दफ्तर पर लग चुका है ताला (फाइल फोटो)


>> ईडी ने कहा, ‘इनमें से कुछ कंपनियों को विमानन पट्टा अनुबंध, विमान रख-रखाव अनुबंध तथा कुछ अन्य मदों के नाम पर संदेहास्पद तरीके से और बढ़ा-चढ़ा कर भुगतान किए गए.

>> यह पाया गया कि समूह की ही दुबई स्थित एक कंपनी को कमीशन के रूप में बढ़ा-चढ़ाकर भारी मात्रा में भुगतान किया गया. वह कंपनी जेट एयरवेज की विशेष विदेशी बिक्री एजेंट का काम करती थी.’
Loading...

>> एजेंसी ने कहा, जांच से पता चलता है कि गोयल कुछ ऐसे बैंक खातों के लाभार्थी मालिक हैं, जिनमें भारी धनराशि जमा की गई.

>> उसने कहा, ‘प्रथमदृष्ट्या प्रतीत होता है कि इन लेन-देन में फेमा के विभिन्न प्रावधानों का उल्लंघन किया गया.

>> आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि विदेश में अघोषित संपत्ति रखने के आरोप के आधार पर एजेंसी आने वाले दिनों में मनी लॉन्ड्रिंग रोकथाम अधिनियम के तहत गोयल के खिलाफ मामला दर्ज कर सकती है.



कौन है नरेश गोयल- बीकॉम पास नरेश गोयल ने 1967 में एक ट्रैवल एजेंसी में 300 रुपये मासिक वेतन पर पहली नौकरी शुरू की. इराक, जॉर्डियन एयरलाइन के रीजनल मैनेजर की नौकरी की. रिजर्वेशन, सेल्स मैनेजर का काम किया. 1991 में ओपन स्काई पॉलिसी के बाद एयरलाइन का आवेदन दिया.

>> 5 मई 1993 को जेट का आगाज हुआ. पहले साल 7 लाख 30 हजार यात्रियों को सफर, 2005 में विदेशी उड़ानों की शुरुआत की. एयरलाइन का सालाना टर्नओवर 2009 में 14 अरब डॉलर तक पहुंच गया. गोयल देश के 20 सबसे अमीरों में शामिल हो गए. 27 साल पहले नरेश व अनीता गोयल ने जेटएयरवेज बनाई.

ये भी पढ़ें-'जेट एयरवेज का ऑपरेशन बंद होने से बेरोज़गार हुए 16 हजार परमानेंट कर्मचारी'

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 24, 2019, 6:58 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...