लाइव टीवी

PF खाताधारकों के लिए बड़ी खबर! इस वजह से लाखों कर्मचारियों को लग सकता है झटका

News18Hindi
Updated: January 20, 2020, 4:32 PM IST
PF खाताधारकों के लिए बड़ी खबर! इस वजह से लाखों कर्मचारियों को लग सकता है झटका
PF खाताधारकों के लिए बड़ी खबर

EPFO से जुड़े लाखों वेतनभोगियों (Pensioner) को जल्द बड़ा झटका लग सकता है. इस बात की अटकलें हैं कि ईपीएफओ जल्द ही ब्याज दरों में कटौती कर सकता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 20, 2020, 4:32 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. वेतनभोगियों (Pensioner) को जल्द लग सकता है बड़ा झटका. PF की ब्याज दरें घटने का अनुमान लगाया जा रहा है. हाल ही में खबरें आई हैं कि इस वित्त वर्ष में ब्याज दर में 15 से 25 बेसिस पॉइंट्स की कमी की जा सकती है. अगर ऐसा हुआ तो कर्मचारियों के पीएफ खाते में जमा गाढ़ी कमाई पर अपेक्षाकृत कम रिटर्न मिलेगा. बता दें कि लाखों वेतनभोगी को नियमित तौर पर अपनी सैलरी का एक हिस्सा ईपीएफओ के पास निवेश करना पड़ता है. भविष्य के लिए जमा की जाने वाली इस धनराशि पर उसे साल के आखिर में ब्याज मिलता है. अगर अटकलें सही साबित हुईं तो 31 मार्च 2020 को खत्म होने वाले वित्त वर्ष से पहले झटका लग सकता है. बता दें कि ईपीएफओ ने 2018-19 में 8.65 प्रतिशत के दर से ब्याज दिया है.

ये भी पढ़ें: 1.80 लाख लगाकर शुरू करें ये खास बिजनेस, हर महीने हो सकती है 1 लाख की कमाई

एक मीडिया रिपोर्ट में सरकारी कर्मचारियों के हवाले से आशंका जताई गई है कि अर्थव्यवस्था में सुस्ती, कर्ज बाजार में घटते रिटर्न आदि वजहों से कर्मचारियों को झटका देने वाला फैसला लिया जा सकता है. ऐसे में अगर ब्याज दरों में 15 से 25 बेसिस पॉइंट की भी कमी की गई तो हैरानी नहीं होनी चाहिए.



कहा जा रहा है कि इस महीने के आखिर तक ईपीएफओ की सालाना दर का ऐलान किया जा सकता है. बता दें कि 2018-19 में 8.65 प्रतिशत की दर से भुगतान करने के बाद ईपीएफओ के पास 151 करोड़ रुपये की सरप्लस रकम बची थी. वहीं, 2017-18 में भुगतान के बाद यह सरप्लस रकम 586 करोड़ रुपये थी.



ये भी पढ़ें: SBI ने घटाया FD पर ब्याज, ये बैंक देता है फिक्स्ड डिपॉजिट पर ज्यादा इंटरेस्ट

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 20, 2020, 3:23 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading