Jet Airways को बचाने के लिए आगे आई दुबई की रॉयल एयरलाइंस कंपनी

जेट एयरवेज में एतिहाद की 24 फीसदी हिस्सेदारी है. एतिहाद के प्रवक्ता ने बताया कि कंपनी ने आज इंडिया की जेट एयरवेज में निवेश करने में दिलचस्पी जताई है.

  • Share this:
संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) की बड़ी एविएशन कंपनी एतिहाद एयरवेज दुनिया में महंगी हवाई यात्राओं के लिए जान जाती है. अब इस कंपनी ने जेट एयरवेज के रिवाइवल के लिए कदम बढ़ाया है. शुक्रवार को एयरलाइन कंपनी के लिए बोली लगाने का आखिरी दिन था. जेट एयरवेज की पार्टनर कंपनी एतिहाद ने एयरलाइन में निवेश करने के लिए बोली लगाई है. दिलचस्प है कि 10 मई की डेडलाइन खत्म होने से सिर्फ कुछ मिनट पहले एतिहाद ने अपनी बोली सबमिट की थी.

अब आगे क्या- जेट एयरवेज में एतिहाद की 24 फीसदी हिस्सेदारी है. एतिहाद के प्रवक्ता ने बताया कि कंपनी ने आज इंडिया की जेट एयरवेज में निवेश करने में दिलचस्पी जताई है.

>> उन्होंने कहा कि दुनिया में इंडिया सबसे तेजी स बढ़ने वाला बाजार है. एतिहाद पिछले 15 महीनों से भारत में अहम स्टेकहोल्डर्स के साथ मिलकर बातचीत कर रही थी. (ये भी पढ़ें-अब आधे दामों में एयर इंडिया कराएगा हवाई सफर)



>> उन्होंने आगे बताया कि कंपनी जेट को रिवाइव करके कॉम्पिटिटिव एयरलाइन कंपनी बनाना चाहती है.





>> एतिहाद के प्रवक्ता ने कहा, वे जेट एयरवेज के इकलौते निवेशक नहीं बनना चाहते हैं. वह चाहते हैं कि कोई दूसरी एयरलाइन कंपनी जेट एयरवेज में मेजॉरिटी हिस्सेदारी ले. (ये भी पढ़ें-'कम सैलरी पर काम करने को तैयार हैं जेट एयरवेज कर्मचारी')

>> जेट एयरवेज में निवेश करने क लिए सिर्फ एतिहाद को ही चुना गया है. इसके अलावा जिन दूसरी कंपनियों को बोली लगाने के लिए चुना गया था उनमें नेशनल इनवेस्टमेंट एंड इंफ्रास्ट्रक्चर फंड यानी NIIF, TPG कैपिटल और इंडिगो पार्टनर्स हैं.


>> फंड की कमी के कारण जेट एयरवेज का कामकाज 17 अप्रैल से बंद है. हालांकि दो दिनों पहले ही कंपनी के फाउंडर नरेश गोयल ने 250 करोड़ रुपए एयरलाइन को मुहैया कराया था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading