GST चोरी के मामले में बड़ी कार्रवाई! देशभर में कंपनियों पर छापे

जीएसटी की इंटेलिजेंस विंग टैक्स चोरी के मामले में बड़ी कार्रवाई कर रही है. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, देशभर में टायर बनाने वाली कंपनियों के यहां छापे पड़े है.

News18Hindi
Updated: March 15, 2019, 12:05 PM IST
GST चोरी के मामले में बड़ी कार्रवाई! देशभर में कंपनियों पर छापे
जीएसटी की इंटेलिजेंस विंग टैक्स चोरी के मामले में बड़ी कार्रवाई कर रही है. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, देशभर में टायर बनाने वाली कंपनियों के यहां छापे पड़े है.
News18Hindi
Updated: March 15, 2019, 12:05 PM IST
जीएसटी की इंटेलिजेंस विंग टैक्स चोरी के मामले में बड़ी कार्रवाई कर रही है. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, देशभर में टायर बनाने वाली कंपनियों के यहां छापे पड़े है. आपको बता दें कि पिछले दो दिन में  जीएसटी अधिकारियों ने 224 करोड़ रुपये की टैक्स धोखाधड़ी पकड़ी है. इसे आठ कंपनियों के एक समूह ने अंजाम दिया है जिन्होंने 1,289 करोड़ रुपये के फर्जी बिल बनाए. इस मामले में एक संदिग्ध को गिरफ्तार किया गया है और 19.75 करोड़ रुपये बरामद कर लिए गए हैं. इन कंपनियों ने टीएमटी सरिया इत्यादि उत्पादों की वास्तव में आपूर्ति किए बिना 1,289 करोड़ रुपये के फर्जी बिल तैयार किए और इस पर करीब 224 करोड़ रुपये का इनपुट टैक्स क्रेडिट लिया. अब तक पकड़ी 20 हजार करोड़ की चोरी-केंद्र सरकार ने चालू वित्त वर्ष में अब तक 20,000 करोड़ रुपये की वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) चोरी पकड़ी है. सरकार जीएसटी फर्जीवाड़ों को रोकने और नई अप्रत्यक्ष कर व्यवस्था के नियमों का अधिक से अधिक पालन सुनिश्चित करने के लिए अधिक से अधिक उपाय करेगी. कर विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बुधवार को यह जानकारी दी. (ये भी पढ़ें-कारोबारियों के लिए खुशखबरी! GST रिटर्न्स पर मिली ये राहत)

टैक्स चोरी से कलेक्शन में आई गिरावट?- माल एवं सेवा कर (जीएसटी) संग्रह फरवरी, 2019 में घटकर 97,247 करोड़ रुपए रहा. यह इससे पिछले महीने के 1.02 लाख करोड़ रुपए के मुकाबले कम है. वित्त मंत्रालय ने बयान जारी कर कहा कि 28 फरवरी, 2019 तक बिक्री रिटर्न या जीएसटीआर-3बी भरने वालों की संख्या 73.48 लाख रही. (ये भी पढ़ें-GST काउंसिल की अगले हफ्ते होगी बैठक, इस मुद्दे पर होगी चर्चा)
Loading...

वित्त सचिव एस सी गर्ग ने यह स्वीकार किया है कि सरकार चालू वित्त वर्ष में इनडायरेक्‍ट टैक्‍स कलेक्‍शन का लक्ष्य संभवत: हासिल नहीं कर पाएगी. हालांकि उन्‍होंने यह उम्‍मीद किया कि सरकार डायरेक्‍ट टैक्‍स कलेक्‍शन के लक्ष्य को समय से हासिल कर लेगी. गर्ग ने एक कार्यक्रम में कहा, ‘‘डायरेक्‍ट टैक्‍स के मोर्चे पर हम काफी हद तक आशान्वित हैं. हालांकि, इनडायरेक्‍ट टैक्‍स कलेक्‍शन लक्ष्य से कुछ कम रहेगा. ’’ हालांकि, उन्होंने यह नहीं बताया कि इनडायरेक्‍ट टैक्‍स कलेक्‍शन लक्ष्य से कितना कम रहेगा.
Loading...

और भी देखें

पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...