इस वजह से दूध इतने रुपये तक हो सकता है महंगा, कंपनियों की तैयारी पूरी

इस वजह से दूध इतने रुपये तक हो सकता है महंगा, कंपनियों की तैयारी पूरी
इस वजह से दूध इतने रुपये तक हो सकता है महंगा, कंपनियों की तैयारी पूरी

सर्दियों में दूध की सप्लाई में मामूली 2 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है. वहीं, डिमांड में तेजी से इजाफा हो रहा है. इसीलिए कंपनियों ने दूध के दाम 2-3 रुपये प्रति लीटर तक बढ़ाने की तैयारी कर ली है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 3, 2019, 12:29 PM IST
  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
नए साल के पहले हफ्ते में आपकी जेब पर बोझ बढ़ सकता है. डेयरी कंपनियों ने दूध की कीमतें बढ़ाने की तैयारी कर ली है. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, दूध की मांग के मुकाबले सप्लाई गिर रही है. सर्दी के मौसम में किसानों को कम रिटर्न मिलने के कारण दूध का उत्पादन घट गया है. इस मौसम में आमतौर पर सप्लाई अच्छी रहती है पर इस बार ऐसा नहीं है.

बढ़ सकती है कीमतें- अंग्रेजी के बिजनेस न्यूजपेपर इकोनॉमिक्स टाइम्स में छपी खबर के मुताबिक, अमूल ब्रांड की मालिक कंपनी गुजरात कोऑपरेटिव मिल्क मार्केटिंग फेडरेशन के प्रबंध निदेशक आरएस सोढी ने कहा है कि 2019 में दूध की कीमतें बढ़ना तय है. स्किम्ड मिल्क पाउडर का कम स्टॉक और पिछले साल के मुकाबले सप्लाई कम होना इसके पीछे बड़ा कारण है. (ये भी पढ़ें-मोदी सरकार का फैसला-प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना के लिए बनेगी नेशनल हेल्थ अथॉरिटी)

क्यों बढ़ेंगी कीमतें- सोढी ने कहा कि सर्दियों में दूध की सप्लाई में 15 फीसदी की बढ़ोतरी के मुकाबले इस साल सिर्फ 2 फीसदी की बढ़ोतरी आई है. अमूल एक दिन में 248 लाख लीटर दूध की खरीद करता है.मिल्क पाउडर की उपलब्धता और कमोडिटी के स्थिर दामों के कारण वर्ष 2017 के बाद से अब तक दूध के दाम नहीं बढ़े हैं. (ये भी पढ़ें-मोदी का मास्टर प्लान: कर्ज माफ नहीं लेकिन हर किसान को मिलेंगे इतने हज़ार रुपए!)



बीते साल दूध की कीमतें बढ़ाने की मांग को लेकर महाराष्ट्र में किसानों ने बड़ा आंदोलन भी चलाया था और दूध की सप्लाई बंद कर दी थी. दूध किसानों ने जून में स्वामीनाथन आयोग की सिफारिशें लागू करने की मांग करते हुए बड़े पैमाने पर आंदोलन चलाया था और पूरे महाराष्ट्र में दूध की सप्लाई ठप कर दी थी.(ये भी पढ़ें-बैंक ऑफ बड़ौदा में देना और विजया बैंक के विलय को मिली मंजूरी, ग्राहकों पर होगा ये असर!)



कुल मिलाकर प्रति पशु दूध उत्पादन, किसानों की दशा और दूध की कीमतों का असर इस साल आम आदमी को भुगतान पड़ेगा. नतीजतन, कोऑपरेटिव डेयरियों की मांग से सप्लाई कम रहने वाली है.

 
First published: January 3, 2019, 11:33 AM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading