बड़ी खबर! एक बार फिर से बढ़ सकती है दूध की कीमत, ये है वजह

मानसून में देरी और अभी तक हुई कम बारिश के चलते कच्चे दूध की कीमतें तेजी से बढ़ रही है. ऐसे में कंपनियां फिर से दूध की कीमतें बढ़ाने की तैयारी में है.

News18Hindi
Updated: July 11, 2019, 6:22 PM IST
बड़ी खबर! एक बार फिर से बढ़ सकती है दूध की कीमत, ये है वजह
फिर इतने रुपये तक बढ़ सकती हैं दूध की कीमतें, ये हैं वजह
News18Hindi
Updated: July 11, 2019, 6:22 PM IST
आम आदमी के लिए एक बार फिर से दूध पीना महंगा हो सकता है. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, मानसून सीजन डेयरी बिजनेस के लिए बेहद अहम होता है. लेकिन मानसून में देरी और अभी तक ज्यादातर बड़े डेयरी बिजनेस वाले राज्यों में हुई कम बारिश के चलते चारे का उत्पादन घट गया है. ऐसे में किसानों को गाय और भैसों के पर खर्च ज्यादा करना पड़ रहा है. लिहाजा किसानों की लागत बढ़ने से कच्चे दूध के दाम बढ़ गए है. ऐसी स्थिति के बाद पिछले महीने अमूल जैसी बड़ी कंपनियां दूध के दाम 2 रुपये प्रति लीटर तक बढ़ा दिए. इसीलिए अब माना जा रहा है कि किसानों की लागत बढ़ने के बाद कंपनियां फिर से कीमतें बढ़ाने का फैसला ले सकती है.

आपको बता दें कि पिछले महीने अमूल ने दूध के दाम 2 रुपये प्रति लीटर बढ़ा दिए. साथ ही, अन्य मिल्क प्रोडेक्ट की कीमतें भी बढ़ गई है.

क्यों महंगा होगा दूध! अंग्रेजी के बिजनेस वेबसाइट फाइनेंशियल एक्सप्रेस की खबर में मदर डेयरी फ्रूट एंड वेजिटेबल प्राइवेट लिमिटेड की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि मानसून में देरी से कच्चे दूध का किसानों को दिया जाने वाला दाम बढ़ गया है. लेकिन अगले कुछ दिनों में मानसून के रफ्तार पकड़ने की उम्मीद है. इसीलिए कंपनी इस पूरे मामले पर नज़र बनाए हुए है.

ये भी पढ़ें-किसानों के लिए खुशखबरी! अब सीधे खाते में आएगी ये सब्सिडी

>> वहीं, पराग मिल्क फूड लिमिटेड की ओर से दिए गए बयान में कहा गया है कि लंबी गर्मी और मानसून में देरी से चारे की सप्लाई कमी आ गई है और इससे दूध की कमी हो गई है. ऐसे में कच्चे दूध की कीमतें बढ़ गई हैं.

>> लेकिन मौजूदा स्थिति को देखर पूरी उम्मीद है कि मानसून फिर से रफ्तार पकड़ेगा और बारिश में बढ़ोतरी होगी. लिहाजा चारे की सप्लाई की स्थिति में सुधार होने से ऐसा लग रहा है कि अगले 1-2 माह में दूध की कीमतें सामान्य हो जाएंगी.
First published: July 11, 2019, 6:02 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...