किसानों के लिए बड़ी खुशखबरी! ये कंपनी खेती के लिए मुफ्त में दे रही है किराए पर ट्रैक्टर

किसानों के लिए बड़ी खुशखबरी! ये कंपनी खेती के लिए मुफ्त में दे रही है किराए पर ट्रैक्टर
कृषि उपकरण बनाने वाली कंपनी ट्रैक्टर्स एंड फार्म इक्विपमेंट लिमिटेड (टैफे) ने मुफ्त ट्रैक्टर रेंटल सेवा के जरिये पिछले दो महीने में एक लाख एकड़ से अधिक जमीन पर खेती में छोटे किसानों की मदद की है.

कृषि उपकरण बनाने वाली कंपनी ट्रैक्टर्स एंड फार्म इक्विपमेंट लिमिटेड (टैफे) ने मुफ्त ट्रैक्टर रेंटल सेवा के जरिये पिछले दो महीने में एक लाख एकड़ से अधिक जमीन पर खेती में छोटे किसानों की मदद की है.

  • Share this:
नई दिल्ली. कृषि उपकरण बनाने वाली कंपनी ट्रैक्टर्स एंड फार्म इक्विपमेंट लिमिटेड (टैफे) ने मुफ्त ट्रैक्टर रेंटल सेवा के जरिये पिछले दो महीने में एक लाख एकड़ से अधिक जमीन पर खेती में छोटे किसानों की मदद की है. कंपनी ने बृहस्पतिवार को एक बयान में कहा कि इस सेवा की राजस्थान, उत्तर प्रदेश और तमिलनाडु में काफी मांग देखने को मिल रही है.

कंपनी ने कहा कि इस पेशकश के तहत वह जेफार्म सर्विसेज प्लेटफॉर्म के माध्यम से छोटे किसानों की मदद के लिये मुफ्त ट्रैक्टर रेंटिंग सेवाएं दे रही है. यह पेशकश 90 दिनों के लिये है और यह 30 जून 2020 तक उपलब्ध है.

ये भी पढ़ें:- भूल जाए नौकरी की टेंशन! लॉकडाउन में इस बिजनेस हर महीने होगी 1.5 लाख की कमाई



कंपनी का दावा है कि अभी तक इस सेवा का लाभ उठाकर छोटे किसान एक लाख एकड़ से अधिक रकबे में खेती कर चुके हैं. कंपनी ने बताया कि इस पेशकश के तहत जेफार्म सर्विसेज प्लेटफॉर्म पर 38,900 मैसी फर्ग्यूसन और आयशर ट्रैक्टर्स तथा 1,06,500 अन्य उपकरणों का पंजीकरण हुआ.
छोटे किसानों ने इन्हें जेफार्म सर्विसेज के माध्यम से किराये पर लिया. कंपनी ने छोटे किसानों के बदले किराये का भुगतान अपनी तरफ से ट्रैक्टर व उपकरण मालिकों को किया. इससे छोटे किसानों के साथ ही ट्रैक्टर मालिकों को भी लाभ हुआ.

श्री ओम प्रकाश (आई.ए.अस) - एग्रिकल्चर कमिशनर, डिपार्टमेंट ऑफ़ एग्रिकल्चर, राजस्थान सरकार ने कहा, “राजस्थान के किसानों को मुफ़्त किराए के आधार पर मैसी फर्ग्यूसन और आयशर ट्रैक्टर प्रदान करने की टैफे की इस अनूठी पहल को कृषक समुदाय द्वारा गहराई से सराहा गया है. छोटे किसान अपनी फसलों की कटाई और नए सत्र के लिए रोपण करने के लिए कोरोना वायरस लॉकडाउन के कारण संकट की स्थिति में थे. यह योजना सबसे उपयुक्त समय पर उनके हित में आई, जिससे उन्हें अपने कृषि संचालन कार्यों में मदद मिली और ट्रैक्टर किराए के माध्यम से आय भी हुई.”

ये भी पढ़ें:- कोरोना वायरस लॉकडाउन के बीच आम आदमी के लिए आई अच्छी खबर! सस्ती हुई ये चीज़ें
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज