खुशखबरी! RBI ने NEFT और RTGS के चार्ज किए खत्म, जानिए अब क्या होगा आप पर असर

NEFT-RTGS Charges: रिज़र्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) ने आम आदमी के लिए बड़ा ऐलान किया है. आरबीआई ने RTGS और NEFT पर बैंकों के साथ RBI की ओर से वसूले जाने वाले चार्जेस को पूरी तरह से हटा दिया है. इसका मतलब साफ है कि ग्राहक अब बैंकों की ओर से वसूले जाने वाले चार्जेस ही चुकाएंगे.

  • Share this:
NEFT-RTGS Charges: रिज़र्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) ने आम आदमी के लिए बड़ा ऐलान किया है. आरबीआई ने RTGS और NEFT पर बैंकों के साथ अपनी ओर से वसूले जाने वाले चार्जेस को पूरी तरह से हटा दिया है. इसका मतलब साफ है कि ग्राहक अब बैंकों की ओर से वसूले जाने वाले चार्जेस ही चुकाएंगे. ऐसे में RTGS और NEFT करना सस्ता हो जाएगा. RBI अगले एक हफ्ते में इससे जुड़ा सर्कुलर जारी करेगा. आपको बता दें कि  RTGS (Real-time gross settlement) लाखों रुपये ट्रांसफर करने का एक बेहतरीन माध्यम है. जैसा कि नाम है, यह सिस्टम वैसे ही काम करता है यानी बिजनेस ऑवर्स में तो कुछ सेकंड में पैसा ट्रांसफर हो जाता है. इसके विपरीत एनईएफटी (NEFT या national electronic funds transfer) में किसी खास समय में ही पैसा ट्रांसफर होता है.

RBI का बड़ा फैसला- रिजर्व बैंक ने बैंक ट्रांजेक्शन चार्ज हटा दिया है. बड़े ट्रांजेक्शन के लिए इस्तेमाल होने वाले रियल टाइम ग्रॉस सेटलमेंट सिस्टम यानी RTGS फंड ट्रांसफर और नेशनल इलेक्ट्रॉनिक फंड ट्रांसफर (NEFT) के लिए चार्ज हटा दिया है.

>> जिसके बाद बैंक भी अपने ग्राहकों के लिए चार्ज कम कर सकते हैं. शीर्ष बैंक ने ये कदम डिजिटल पेमेंट को बढ़ावा देने के लिए उठाया है. RBI ने कहा है कि बैंकों को ग्रहाकों तक ये लाभ पहुंचाना चाहिए और उन्हें इन चार्ज को कम करना चाहिए. बैंक को इस संबंध में निर्देश एक हफ्ते के अंदर मिल जाएंगे.



आपको बता दें कि RTGS ट्रांजैक्शन (इंटरनेट के जरिए पैसों का लेन-देन) वास्तविक समय में होती है. जब आप ट्रांजेक्शन करते हैं तो दूसरे अकाउंट में तुरंत पैसा ट्रांसफर होता है. दूसरे-चौथे शनिवार को बैंक की छुट्टी के साथ-साथ ये सर्विस बंद रहती है. वहीं, रविवार और बैंक की जब-जब छुट्टी होती है ये सर्विस बंद रहती है.





RTGS से कितना पैसा कर सकते हैं ट्रांसफर-आरटीजीएस (RTGS) से मुख्य रूप से 2 लाख रुपये या उससे ज्यादा रकम ट्रांसफर की जाती है. हालांकि इसके लिए खास समय निश्चित है. आरटीजीएस का रखरखाव करने वाले रिजर्व बैंक (RBI) ने हाल में आरटीजीएस ट्रांसफर की टाइमिंग में डेढ़ घंटे तक का विस्तार भी किया है.

RTGS की टाइमिंग-आरबीआई ने पिछले महीने ही कहा था कि कस्टमर ट्रांजैक्शन की टाइमिंग शाम 4.30 बजे से बढ़ाकर 6.00 बजे करने का फैसला किया गया है. नई टाइमिंग 1 जून से लागू हो गई हैं.

क्या होता है NEFT-नेशनल इलेक्ट्रॉनिक फंड ट्रांसफर (NEFT) देश में बैंकों के जरिये फंड ट्रांसफर करने यानी एक से दूसरी जगह भेजने का तरीका है. इस तरीके का फायदा आम ग्राहक या कंपनियां उठाकर किसी दूसरी ब्रांच या किसी दूसरे शहर की शाखा में किसी भी व्यक्ति या संगठन अथवा कंपनी को भेज सकते हैं. आज की तारीख में लगभग हर बैंक ने एनईएफटी तकनीकी को अपना लिया है. इसके जरिये फंड भेजने के लिए ग्राहकों को सभी तरह की जानकारी भेजनी होती है.

सोमवार से शुक्रवार तक सुबह आठ बजे से शाम सात बजे के बीच हर घंटे यह काम करता है. शनिवार को आठ बजे से दोपहर एक बजे के बीच हर घंटे एनईएफटी काम करता है. एनईएफटी आज काफी इस्तेमाल किया जा रहा है.

ये भी पढ़ें-

किराना दुकान से जल्द ATM कार्ड के जरिए ले सकेंगे कैश

इन दो चुनौतियों से निपटने के लिए मोदी ने उठाए ये कदम!

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading