अपना शहर चुनें

States

14,500 करोड़ के फ्रॉड मामले में एक्टर डिनो मोरिया और डीजे अकील को समन जारी

अभिनेता डिनो मोरिया को ईडी के समन
अभिनेता डिनो मोरिया को ईडी के समन

फर्जी कंपनियां बनाकर बैंकों को हजारों करोड़ रुपये का चूना लगाने वाले स्टर्लिंग बॉयोटेक कंपनी के मालिक संदेसरा ब्रदर्स को लेकर प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने अभिनेता डिनो मोरिया और डीजे अकील को समन जारी किया है.

  • Share this:
फर्जी कंपनियां बनाकर बैंकों को हजारों करोड़ रुपये का चूना लगाने वाले स्टर्लिंग बॉयोटेक कंपनी के मालिक संदेसरा ब्रदर्स को लेकर प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने अभिनेता डिनो मोरिया और डीजे अकील को समन जारी किया गया है. न्यूज एजेंसी पीटीआई के मुताबिक, ईडी ने दोनों को पूछताछ के लिए बुलाया है. आपको बता दें कि संदेसरा स्कैम पंजाब नेशनल बैंक (PNB) स्कैम से भी बड़ा बताया जा रहा हैं. स्टर्लिंग बॉयोटेक कंपनी लिमिटेड और संदेसरा ग्रुप के मेन प्रमोटर नितिन संदेसरा, चेतन संदेसरा और दीप्ति संदेसरा ने फर्जी कंपनियां बनाकर कई बैंकों को करीब 14,500 करोड़ रुपये का चूना लगाया. वहीं, हीरा कारोबारी नीरव मोदी और उसके मामा मेहुल चोकसी ने पीएनबी बैंक में 11,400 करोड़ रुपये का घोटाला किया था.

अभिनेता डिनो मोरिया और डीजे अकील को समन जारी- ईडी ने अपने बयान में कहा है कि अभिनेता डीनो और लोकप्रिय डीजे अकील को प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) के समक्ष बयान देने को कहा गया है क्योंकि उसे सबूत मिले हैं कि गुजरात की कंपनी ने दोनों को कुछ पैसा दिया था.

डिनो मोरिया और डीजे अकील




उन्होंने बताया कि उनसे इन भुगतान के संबंध में पूछताछ की जाएगी और उनके बयान धनशोधन रोकथाम अधिनियम (पीएमएलए) के तहत दर्ज किए जाएंगे. डीनो मोरिया एक मॉडल हैं और कई हिंदी फिल्मों में भी अभिनय कर चुके हैं. वहीं अकील एक लोकप्रिय डीजे हैं. इस संबंध में प्रतिक्रिया के लिए दोनों से तत्काल संपर्क नहीं हो पाया.
ये भी पढ़ें-PNB स्कैम से भी बड़ा है संदेसरा ब्रदर्स का घोटाला, बैंकों को लगाया 14500 करोड़ का चूना: ED

कौन है इसमें मुख्य आरोपी
इस मामले में स्टर्लिंग बायोटेक के साथ ही कंपनी के डायरेक्टर्स चेतन जयंतीलाल संदेसरा, दीप्ति चेतन संदेसरा, राजभूषण ओमप्रकाश दीक्षित, नितिन जयंतीलाल संदेसरा और विलास जोशी, सीए हेमंत गर्ग आदि को आरोपी बनाया गया था.

प्रवर्तन निदेशालय का कार्यालय


जारी हुआ था लुकआउट नोटिस
फरार चल रहे संदेसरा ब्रदर्स के खिलाफ ईडी के अनुसार लुकआउट नोटिस भी जारी हुआ था. सीबीआई की एफआईआर के अनुसार संदेसरा बंधुओं की कंपनी स्टर्लिंग बायोटेक ने आंध्रा बैंक की अगुआई वाले बैंकों के संघ से 5000 करोड़ रुपये ऋण लिए थे, जिन्हें चुकाया नहीं गया. यह एनपीए बन गया.

ईडी के एक अधिकारी के मुताबिक, स्टर्लिंग बायोटेक लिमिटेड (SBL) ने भारतीय बैंकों से इंडियन और फॉरिन दोनों तरह की करेंसी में लोन हासिल किया था. संदेसरा ब्रदर्स ने ये लोन आंध्रा बैंक, यूको बैंक, स्टेट बैंक ऑफ इंडिया. इलाहाबाद बैंक और बैंक ऑफ इंडिया से ले रखा है.

अब तक ज़ब्त हुई 9000 करोड़ से ज्यादा की प्रॉपर्टी
ईडी ने इस मामले की जांच के तहत स्टर्लिंग बायोटेक की 9,000 करोड़ रुपये से अधिक की संपत्ति जब्त की. इसमें नाइजीरिया में तेल रिग, पोत, एक कारोबारी विमान और लंदन में एक आलीशान फ्लैट शामिल है. इस कार्रवाई के दौरान ईडी को कई दस्तावेज भी मिले, जिससे पता चलता है कि संदेसरा ग्रुप ने शेल कंपनियों के जरिये भारतीय बैंकों की विदेशी ब्रांच से 9000 करोड़ रुपये का लोन लिया था.

आम बजट 2019 की सही और सटीक खबरों के लिए न्यूज18 हिंदी पर आएं. वीडियो और खबरों  के लिए यहां क्लिक करें
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज