लाइव टीवी

कभी छोटी सी दुकान से शुरू हुई हल्दीराम, अब वीडियोकॉन को खरीदने की तैयारी में जुटी

News18Hindi
Updated: November 19, 2019, 10:54 AM IST
कभी छोटी सी दुकान से शुरू हुई हल्दीराम, अब वीडियोकॉन को खरीदने की तैयारी में जुटी
वीडियोकॉन को खरीदने की होड़ में हल्दीराम (Haldiram) के अलावा 8 और कंपनियां शामिल है.

दिवाला कानून के तहत बिक रही वीडियोकॉन इंडस्ट्रीज (Videocon Industries) को खरीदने में हल्दीराम (Haldiram), वेदांता (Vedanta) और इंडोनेशिया के बिलियनेयर रॉबर्ट हार्तोनो सहित कुल आठ निवेशकों ने दिलचस्पी दिखाई है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 19, 2019, 10:54 AM IST
  • Share this:
मुंबई. देश की बड़ी स्नैक्स बनाने वाली कंपनी हल्दीराम (Haldiram) अब वीडियोकॉन इंडस्ट्रीज (Videocon Industries) को खरीदने की तैयारी में है. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, दिवाला कानून के तहत बिक रही वीडियोकॉन इंडस्ट्रीज (Videocon Industries) को खरीदने में हल्दीराम (Haldiram), वेदांता (Vedanta) और इंडोनेशिया के बिलियनेयर रॉबर्ट हार्तोनो (Indonesian billionaire Robert Hartono) सहित कुल आठ निवेशकों ने इच्छा जाहिर की है.  अंग्रेजी के बिजनेस अखबार इकोनॉमिक टाइम्स में छपी खबर के मुताबिक, आठ निवेशकों ने औपचारिक तौर पर  एक्सप्रेशंस ऑफ इंटरेस्ट (EoI) जमा किया है. वे जल्द ही ड्यू डिलिजेंस (सौदे से पहले कंपनी की जांच) शुरू कर सकते हैं.

क्यों बिक रही है वीडियोकॉन इंडस्ट्रीज- वीडियोकॉन के लिए खरीदार ढूंढने की प्रक्रिया औपचारिक रूप से अगस्त में शुरू हुई थी. वीडियोकॉन इंडस्ट्रीज (Videocon Industries) का कारोबार कई क्षेत्रों में फैला है. इस कंपनी पर स्टेट बैंक ऑफ इंडिया की अगुआई वाले लेंडर्स के एक ग्रुप का 20,000 करोड़ रुपये बकाया है, जिसके बाद इसने खुद को दिवालिया घोषित कर दिया.

>> कई लोकल और इंटरनेशनल ऑपरेटर्स को मिले 122 टेलीकॉम लाइसेंस छह साल पहले सुप्रीम कोर्ट की तरफ से खारिज किए जाने के बाद वीडियोकॉन आर्थिक समस्याओं में घिर गई थी.

>> कंपनी मोबाइल टेलीफोनी ऑफरिंग के लिए लाइसेंस और स्पेक्ट्रम में मोटी रकम लगाने वाले ऑपरेटर्स में शामिल रही है.

ये भी पढ़ें- एक छोटी सी दुकान से हल्दीराम (Haldiram) ऐसे बनी नंबर-1 स्नैक्स कंपनी



>> वीडियोकॉन इंडस्ट्रीज ऑयल बिजनेस में घाटे के कारण संकट में आई थी. कंपनी ने कुछ एसेट बेचकर बैंक कर्ज चुकाने की कोशिश की, लेकिन इसमें उसे खास कामयाबी नहीं मिली. बैंक 2016 से विभिन्न स्कीमों के तहत समाधान की कोशिश कर रहे थे.
Loading...

>> वीडियोकॉन इंडस्ट्रीज के चैयरमैन वेणुगोपाल धूत के खिलाफ सीबीआई जांच भी चल रही है. यह मामला आईसीआईसीआई बैंक की एमडी चंदा कोचर के पति दीपक कोचर से जुड़ा है.

>> आरोप है कि धूत ने दीपक कोचर की कंपनी में पैसे लगाए. इसके बाद आईसीआईसीआई बैंक ने कंपनी को कर्ज दिया था. मार्केट रेगुलेटर सेबी भी चंदा कोचर के खिलाफ हितों के टकराव की जांच कर रहा है.

अब क्या होगा- मीडिया रिपोर्ट्स में बताया गया है कि वीडियोकॉन में दिलचस्पी लेने वाले बाकी निवेशकों में एक सरकारी ऑइल एंड गैस कंपनी के अलावा, स्ट्रैटेजिक और फाइनेंशियल इन्वेस्टर्स शामिल हैं. इंडोनेशिया के हार्तोनो परिवार भी कंपनी में हिस्सा खरीदने के इच्छुक है.

ये भी पढ़ें-24 लाख कारोबारियों पर बड़ी कार्रवाई करने जा रही है मोदी सरकार, जानें वजह?



>> हार्तोनो परिवार के पास इंडोनेशिया के सबसे बड़े बैंक और तंबाकू कंपनी का मालिकाना हक है और वह अपने इलेक्ट्रॉनिक्स बिजनस के लिए बनाई गई होल्डिंग कंपनियों में से एक के जरिए बोली लगा रहा है. यह परिवार 38 अरब डॉलर की नेटवर्थ के साथ एशिया के पांच सबसे अमीर परिवारों में शामिल है.

>> वीडियोकॉन से जुड़ा इन्सॉल्वेंसी वाला मामला SBI की तरफ से कंपनी को पिछले साल NCLT में घसीटे जाने के बाद से मुकदमेबाजी से घिरा रहा है.

>> SBI ने शुरुआत में कंपनी के खिलाफ इन्सॉल्वेंसी प्रोसीडिंग्स शुरू कराने के लिए 15 अलग अलग याचिकाएं दीं, लेकिन संभावित खरीदारों की तरफ से कंपनी की सभी यूनिट्स का कामकाज एकदूसरे से मिले होने के फीडबैक पर प्रोसीडिंग्स को कंसॉलिडेट करने की कोशिश शुरू कर दी.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 19, 2019, 10:19 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...