LIC ने 8 कंपनियों में अपनी पूरी हिस्सेदारी बेची! HDFC Bank सहित इन 5 कंपनियों में भी घटाया स्टेक

दिसंबर तिमाही तक स्टॉक मार्केट में लिस्टेट कंपनियों में LIC की हिस्सेदारी 3.7% थी

दिसंबर तिमाही तक स्टॉक मार्केट में लिस्टेट कंपनियों में LIC की हिस्सेदारी 3.7% थी

Q4 में LIC ने जिन 10 कंपनियों में अपनी हिस्सेदारी सबसे ज्यादा घटाई है, उनमें से 8 कंपनियों में LIC ने अपने स्टेक को जीरो (Zero) कर लिया है. यानी 8 कंपनियों में LIC ने अपनी हिस्सेदारी बेच दी है. मार्च तिमाही के दौरान शेयर बाजार में जबरदस्त तेजी दिखी थी और सेंसेक्स (Sensex) से साथ निफ्टी (Nifty) अपने ऑल-टाइम हाई पर पहुंच गए थे.

  • Share this:

नई दिल्ली. वित्त वर्ष 2020-21 की अंतिम तिमाही में देश की सबसे बड़ी इंश्योरेंस कंपनी एलआईसी यानी लाइफ इंश्योरेंस कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया (LIC) ने कई कंपनियों में अपनी हिस्सेदारी घटाई है जिनमें एचडीएफसी बैंक (HDFC Bank) जैसी कंपनियां शामिल हैं. लेकिन चौथी तिमाही में एलआईसी ने जिन 10 कंपनियों में अपनी हिस्सेदारी सबसे ज्यादा घटाई है, उनमें से 8 कंपनियों में एलआईसी ने अपने स्टेक को जीरो कर लिया है. यानी 8 कंपनियों में एलआईसी ने अपनी हिस्सेदारी बेच दी है.


 मार्च तिमाही के दौरान शेयर बाजार में जबरदस्त तेजी दिखी थी और सेंसेक्स से साथ निफ्टी अपने ऑल-टाइम हाई पर पहुंच गए थे. इस दौरान  निफ्टी में 5% से अधिक की उछाल आई. इस तेजी के देखते हुए एलआईसी ने जमकर प्रॉफिट बुकिंग की और स्टॉक मार्केट में लिस्टेड कुल कंपनियों में अपनी हिस्सेदारी को घटाकर 3.66% कर लिया, जो अभी तक का सबसे लो लेवल है. प्राइम डेटाबेस के द्वारा जुटाये गए आंकड़ों के मुताबिक, दिसंबर तिमाही तक स्टॉक मार्केट में लिस्टेट कंपनियों में एलआईसी की हिस्सेदारी 3.7% थी, वहीं पिछले साल के चौथी तिमाही में यह 3.88% और जून 2012 में यह अपने रिकॉर्ड हाई 5% पर था. एलआईसी की शेयरहोल्डिंग में केवल उन कंपनियों को शामिल किया गया है जिनमें इसकी हिस्सेदारी 1% से अधिक है.


केवल फ्री प्लोट शेयर यानी नॉन-प्रमोटर होल्डिंग की बात करें तो मार्च तिमाही में एलआईसी की ऑनरशिप 7.39% हो गया है जो पिछले साल की समान तिमाही में 7.33% था. शेयर के नंबर्स की ऑनरशिप के मामले में भी बढ़ोतरी हुई है और यह NSE के कुल शेयर का 0.85% हो गया है, जो दिसंबर तिमाही में 0.84% था.


इन कंपनियों में बेची पूरी हिस्सेदारी


एलआईसी ने चौथी तिमाही में जिन 8 कंपनियों में अपनी पूरी हिस्सेदारी बेच दी है, उनमें सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया शामिल है. इस बैंक में एलआईसी ने अपनी 4.20% हिस्सेदारी बेची है. वहीं एलआईसी ने Hindustan Motors में अपने 3.56% शेयर, यूनियन बैंक ऑफ इंडिया में 3.22% शेयर बेचे हैं. वहीं, ज्योति स्ट्रक्चर्स में 1.94%, Morepan Laboratories में 1.69% शेयर, RPSG Ventures में 1.66%, Insecticides India में 1.50% और डालमिया भारती सुगर में अपनी 1.50% शेयर बेचे हैं, इन कंपनियों में अब एलआईसी की कोई हिस्सेदारी नहीं है.


ये भी पढ़ें - Standard Chartered DigiSmart Credit Card: मिंत्रा पर पाएं 20% तो ग्रोफर्स पर 10% डिस्काउंट, जानें कार्ड के फीचर्स





इन कंपनियों में घटाई सबसे ज्यादा हिस्सेदारी


एलआईसी ने जिन कंपनियों में सबसे ज्यादा हिस्सेदारी घटाई है, उनमें HDFC बैंक शामिल है. LIC ने HDFC Bank के 2095.57 करोड़ रुपये के शेयर बेचे हैं. इसी के साथ Maruti Suzuki के 1,181.27 करोड़ रुपये के शेयर, यूनियन बैंक ऑफ इंडिया में 651.25 करोड़ रुपये के शेयर, कोटक महिंद्रा बैंक (Kotak Mahindra Bank) में 542.66 करोड़ रुपये के शेयर और एशियन पेंट्स में 463.08 करोड़ रुपये के शेयर बेचे.


इन कंपनियों में सबसे अधिक बढ़ाई हिस्सेदारी


मार्च तिमाही में जिन कंपनियों में एलआईसी ने अपनी हिस्सेदारी सबसे अधिक बढ़ाई है, उनमें रेल विकास निगम लिमिटेड, New India Assurance, बजाज ऑटो (Bajaj Auto), टाटा कम्युनिकेशंस, जम्मू एंड कश्मीर बैंक, अडाणी टोटल गैस, Alembic Pharma, PI Industries, अरबिंदो फार्मा (Aurobindo Pharma) और बायोकॉन (Biocon) शामिल हैं.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज