अब LIC का क्लेम सेटलमेंट हुआ और आसान, जानें क्या किया गया बदलाव और क्या हैं नए नियम

LIC ईमेल के द्वारा भेजे गए लाइफ सर्टिफिकेट तो स्वीकार कर लेगी

LIC ईमेल के द्वारा भेजे गए लाइफ सर्टिफिकेट तो स्वीकार कर लेगी

LIC ने कहा कि पॉलिसीहोल्डर की मृत्यु होने की स्थिति में देरी के कारण म्युनिसिपल डेथ सर्टिफिकेट मिलने में देरी होने पर उनके नॉमिनी मृत्यु के अन्य प्रमाण दे सकेंगे. इससे पहले क्लेम सेटलमेंट के लिए डेथ सर्टिफिकेट देना अनिवार्य था.

  • Share this:

नई दिल्ली.  एक तरफ जहां देश में कोरोना वायरस से हर दिन हजारों मौतें हो रही है तो वहीं दूसरी तरफ उनके परिजन इस स्थिति में उस वक्त बेहद परेशान हो जाते है कि मरने वाली की पॉलिसी हो और उसके लिए क्लेम सेटलमेंट की प्रक्रिया शुरू होती है. कंपनियों के अपने-अपने नियम होते है. जिसके चलते कई बार परिजनों को खासा परेशान होना पड़ता है. यही वजह है कि कोरोना वायरस के मामले बढ़ने के बीच देश की सबसे बड़ी इंश्योरेंस कंपनी लाइफ इंश्योरेंस कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया (LIC) ने क्लेम सेटलमेंट में अपने पॉलिसीहोल्डर्स को बड़ी राहत दी है. LIC ने क्लेम सेटलमेंट के लिए जरूरी डॉक्युमेंट्स मृत्यु प्रमाणपत्र के बदले मृत्यु के वैकल्पिक प्रमाणों को मान्यता दी है. 


LIC ने कहा कि पॉलिसीहोल्डर की मृत्यु होने की स्थिति में देरी के कारण म्युनिसिपल डेथ सर्टिफिकेट मिलने में देरी होने पर उनके नॉमिनी मृत्यु के अन्य प्रमाण दे सकेंगे. इससे पहले क्लेम सेटलमेंट के लिए डेथ सर्टिफिकेट देना अनिवार्य था. लेकिन अब पॉलिसी होल्डर डेथ सर्टिफिकेट के बदले डिस्चार्ज समरी या डेथ समरी दे सकते हैं जिसमें मृत्यु की तारीख और समय किसी भी मान्यता प्राप्त अस्पताल द्वारा अंकित हो. 


इस बात का रखना होगा ध्यान

क्लेम सेटलमेंट के लिए सरकार, एंप्लॉयी स्टेट इंश्योरेंस कॉरपोरेशन, सशस्त्र बलों और कॉरपोरेट हॉस्पिटल्स की ओर से जारी डेथ समरी को भी स्वीकार करेगी. इसमें मृत्यु का दिन और समय होना चाहिए.  हालांकि, इस डॉक्यूमेंट पर LIC के क्लास वन अधिकारी या 10 वर्षों से अधिक के अनुभव वाले डिवेलपमेंट ऑफिसर के काउंटर साइन होना जरूरी है.


ये भी पढ़ें -  ये है दिल्ली का वो बाजार जहां 1 लाख रुपये की बाइक मिलती है 30 हजार रुपये में


लाइफ सर्टिफिकेट जमा करने अनिवार्यता भी फिलहाल नहीं

इसके साथ ही अंतिम क्रिया या दफनाने का प्रमाणपत्र भी देना होगा. वहीं, दूसरे मामलों में पहले की तरह ही मृत्यु प्रमाण पत्र देना होगा. LIC ने कैपिटल रिटर्न वाले एन्युयिटीज (annuities ) के लिए लाइफ सर्टिफिकेट जमा करने के नियम को 31 अक्टूबर 2021 तक के लिए खत्म कर दिया है. इसके साथ ही LIC ईमेल के द्वारा भेजे गए लाइफ सर्टिफिकेट तो स्वीकार कर लेगी. साथ ही पॉलिसीधारक अब मैच्योरिटी क्लेम्स के लिए भी डॉक्युमेंट्स पास के किसी भी LIC ऑफिस में जमा करा सकेंगे. LIC ने क्लेम के तेजी से सेटलमेंट के लिए NEFT आधारित रिकॉर्ड क्रिएशन शुरू किया है. हाल के दिनों में कुछ इंश्योरेंस कंपनियों की ओर से क्लेम सेटलमेंट को लेकर परेशान करने की शिकायतें मिली थी. इसके बाद कंपनी ने यह कदम उठाया है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज