Home /News /business /

LIC IPO : बैंकर से लेकर बाबू तक, एलआईसी को ‘अरामको’ बनाने में जमकर बहा रहे हैं पसीना

LIC IPO : बैंकर से लेकर बाबू तक, एलआईसी को ‘अरामको’ बनाने में जमकर बहा रहे हैं पसीना

मार्केट एक्सपर्ट्स के मुताबिक एलआईसी का आईपीओ एक तरह से भारत के लिए अरामको (Aramco) मोमेंट साबित हो सकता है.

मार्केट एक्सपर्ट्स के मुताबिक एलआईसी का आईपीओ एक तरह से भारत के लिए अरामको (Aramco) मोमेंट साबित हो सकता है.

माना जा रहा है कि LIC न्यूनतम 5 फीसदी हिस्सेदारी बेचकर आईपीओ से 10 अरब डॉलर जुटा सकती है. सरकार लिस्टिंग के लिये जमकर मेहनत कर रही है. इसी महीने के आखिर में सेबी के पास प्रॉस्‍पेक्‍ट डॉक्‍यूमेंट जमा हो सकते हैं.

नई दिल्‍ली. LIC IPO new update : एलआईसी आईपीओ ने कइयों की नींद उड़ा रखी है. बैंकर से लेकर बाबू तक ने इसकी लिस्टिंग की तैयारी में रात-दिन एक कर रखा है. वैश्विक बाजार विशेषज्ञों का भी मानना है कि एलआईसी की लिस्टिंग (LIC Listing) न सिर्फ भारत के कैपिटल मार्केट, बल्कि भारत की इकोनॉमिक ग्रोथ के लिए अहम घटनाक्रम होगा. इससे देश की इमेज पर भी बहुत असर होगा.

मार्केट एक्सपर्ट्स के मुताबिक एलआईसी का आईपीओ (LIC IPO) एक तरह से भारत के लिए अरामको (Aramco) मोमेंट साबित हो सकता है. इसीलिये एलआईसी आईपीओ की धमाकेदार लिस्टिंग (LIC IPO Listing) के लिये सरकार ने अपनी पूरी ताकत झोंक रखी है. अरामको दिग्गज गल्फ तेल कंपनी है जिसकी 2940 करोड़ डॉलर (2.19 लाख करोड़ रुपये) की लिस्टिंग दुनिया में सबसे बड़ी है.

ये भी पढ़ें : Best SIP for 5 Years: लॉन्ग टर्म इन्वेस्टमेंट के लिए बेस्ट हैं ये एसआईपी, बैंक एफडी से भी अधिक रिटर्न

LIC IPO बदल सकती है भारत की छवि

एलआईसी के पास करीब 50 हजार करोड़ डॉलर (37.20 लाख करोड़ रुपये) के एसेट्स हैं और इसकी वैल्यू करीब 20.3 हजार करोड़ डॉलर (15.12 लाख करोड़ रुपये) है. आईपीओ के जरिए एलआईसी 1 हजार करोड़ डॉलर (74.38 हजार करोड़ रुपये) जुटा सकती है. जो एक तरह से दुनिया की तीसरी बड़ी बीमा कंपनी होगी. बीलैंड इंटेरेस्ट्स इंक एंड रोजर्स होल्डिंग्स के चेयरमैन जेन्स बीलैंड रोजर्स ने फाइनेंशियल एक्‍सप्रेस को बताया कि लिस्टिंग के बाद भारत की वैश्विक छवि बदल सकती है. रोजर्स पिछले कुछ दशकों से उभरते बाजारों में निवेश कर रहे हैं. एलआईसी आईपीओ कि लिस्टिंग प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की मार्केट-ओरिएंटेड रिफॉर्मर की छवि को मजबूत कर सकती है. इससे बजट घाटे को भी काबू में करने को भी मदद मिलेगी.

दो साल से तैयारी

अभी तक की सबसे बड़ी स्टॉक लिस्टिंग के लिए एलआईसी दो साल से तैयार हो रही है.  इसकी अस्‍सेट लगभग 500 अरब डॉलर और वैल्युएशन 203 अरब डॉलर होने का अनुमान लगाया गया है. 2,000 ब्रांच, 1,00,000 से ज्यादा कर्मचारी और 28.6 करोड़ पॉलिसी के साथ एलआईसी भारत की सबसे बड़ी बीमा कंपनी (Insurance company) है. यह साल में एक बार ही अपना हिसाब-किताब देती है. इस कारण उसकी वैल्यू से जुड़े आंकड़े सार्वजनिक रूप से उपलब्ध नहीं है. इन आंकड़ों में ही असेट्स की कुल वैल्यू के साथ भविष्य में होने वाला लाभ शामिल होता है.

एलआईसी के आईपीओ का प्रॉस्पेक्टस (LIC IPO Prospects) इस महीने के आखिरी हफ्ते में बाजार नियामक सेबी के पास दाखिल हो सकता है. केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने लिस्टिंग के लिए मार्च तक की डेडलाइन सेट की है. ड्राफ्ट आईपीओ प्रॉस्पेक्टस में बेचे जाने वाले शेयरों की संख्या के साथ उनकी वैल्यू बताई जाएगी.

बड़े निवेशकों से संपर्क

इकॉनोमिक टाइम्‍स की खबर के मुताबिक, लिस्टिंग का प्रबंधन करने वाले 10 बैंकों ने जीआईसी आरई, कनाडा पेंशन प्लान इनवेस्टमेंट बोर्ड, ब्लैकरॉक इंक और आबू धाबी इनवेस्टमेंट अथॉरिटी सहित ज्यादातर सभी बड़े फंडों से बात की है, जिनकी शेयर खरीदने में दिलचस्पी हो सकती है.

ये भी पढ़ें : Budget 2022 : घर खरीदारों और डेवलपर्स को बड़ी राहत देगा केंद्र! रियल एस्‍टेट सेक्‍टर ने की है Tax Incentives की मांग

दिन-रात काम कर रहे हैं अधिकारी

आईपीओ की डेडलाइन जैसे-जैसे करीब आ रही है, सरकारी अधिकारियों पर दबाव बढ़ता जा रहा है. विनिवेश विभाग के अधिकारी रात-रात भर जागकर काम कर रहे हैं. सैकड़ों फाइलिंग्स को रिचेक किया जा रहा है. बैंकर्स ने अपनी छुट्टियां रद्द कर दी है. एलआईसी अपने एजेंटों को एसएमएस भेज रही है और समाचार-पत्रों में खूब विज्ञापन दिये जा रहे हैं.

Tags: IPO, LIC IPO, Share market

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर