LIC के IPO का कर रहे है इंतजार, तो अभी और धैर्य रखना हाेगा जनाब, इस वजह से हाे रही है देरी

पहले LIC का IPO FY21 में ही लॉन्च होना था

पहले LIC का IPO FY21 में ही लॉन्च होना था

विनिवेश के इस लक्ष्य को पूरा करने के लिए इस साल LIC का IPO बेहद महत्वपूर्ण है. अगर LIC का IPO इस साल नहीं आता है और सरकार BPCL डील को पूरा नहीं कर पाती है तो सरकार विनिवेश के लक्ष्य को प्राप्त करने में बड़े अंतर से चूक जाएगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 19, 2021, 7:58 PM IST
  • Share this:

नई दिल्ली. यदि आप भी देश की सबसे बड़ी इंश्योरेंस कंपनी (Insurance)लाइफ इंश्योरेंस ऑफ इंडिया (LIC) के IPO का इंतजार बेसब्री से कर रहे है ताे अभी भी आपकाे और ज्यादा धैर्य रखना हाेगा. ऐसा इसलिए क्याेंकि सूत्र बताते है कि इस साल LIC का IPO आने की संभावना कम है, और जिसकी वजह है केंद्र सरकार द्वारा अभी तक इसके लिए जरूरी सभी प्रक्रियाओं का पूरा नहीं कर पाना. जिसके चलते लोगों का इंतजार अभी और लंबा होने वाला है.  सूत्र यह भी बताते है कि यदि सरकार अगर सभी प्रक्रियाएं पूरी भी कर लेती है तो उसके बाद भी IPO लॉन्च करने में कम से कम 6 महीने का समय लग जाएगा. रिपोर्ट के मुताबिक, ऐसे में इस साल LIC की लिस्टिंग शेयर बाजार में होना मुश्किल लग रहा है. आपको केंद्र सरकार ने वित्त वर्ष 2021-22 के लिए पेश आम बजट में विनिवेश के जरिये 1.75 लाख करोड़ रुपये जुटाने का लक्ष्य रखा है.



विनिवेश के इस लक्ष्य को पूरा करने के लिए इस साल LIC का IPO बेहद महत्वपूर्ण है. अगर LIC का IPO इस साल नहीं आता है और सरकार BPCL डील को पूरा नहीं कर पाती है तो सरकार विनिवेश के लक्ष्य को प्राप्त करने में बड़े अंतर से चूक जाएगी.



2.1 लाख करोड़ रुपये जुटाने का लक्ष्य



मालूम हाे केंद्र सरकार ने वित्त वर्ष 2020-21 के लिए विनिवेश के जरिये 2.1 लाख करोड़ रुपये जुटाने का लक्ष्य रखा था. लेकिन LIC का IPO लॉन्च नहीं होने और BPCL के प्राइवेटाइजेशन से चूकने के कारण सरकार केवल 32,835 करोड़ रुपये ही जुटा पाई. पहले LIC का IPO FY21 में ही लॉन्च होना था, लेकिन फिर इसे FY22 के लिए शेड्यूल किया गया. आपको बता दे कि डिपार्टमेंट ऑफ इंवेस्टमेंट एंड पब्लिक ऐसेट मैनेजमेंट (DIPAM) के सेक्रेटरी तुहिन कांता पांडेय (Tuhin Kanta Pandey) ने कहा था कि LIC का IPO अक्टूबर, 2021 के बाद आएगा. DIPAM सेक्रेटरी ने कहा था कि केंद्र सरकार ने LIC के Disinvestment की प्रक्रिया शुरू करने के लिए जरूरी तैयारियां शुरू कर दी हैं. लेकिन अब इसका अक्टूबर में लॉन्च होना मुश्किल लग रहा है. 


ये भी पढ़ें - IIT मंडी ने तैयार किया सेल्फ क्लीनिंग फेस मास्क, सिर्फ राेकेगा ही नहीं वायरस काे खत्म भी कर देगा









LIC के वैल्यूएशन के बाद आएगा IPO



LIC के IPO से पहले कंपनी के वैल्यूएशन के लिए एक्चुअरियल फर्म Milliman Advisor को नियुक्त किया है। जबकि, Deloitte और SBI Capital को प्री-आईपीओ एडवाइजर नियुक्त किया गया है. मोदी सरकार (Modi Government) कई चरणों में LIC में अपनी 25% हिस्सेदारी बेचने की योजना बना रही है. सरकार की योजना पहले चरण में 10 फीसदी हिस्सेदारी ही बेचने की है. उसके बाद अन्य हिस्सेदारी को कई राउंड में बेची जाएगी. अभी के वैल्यूएशन के हिसाब से LIC में अपनी 10% हिस्सेदारी बेचने पर केंद्र सरकार को 80,000 करोड़ रुपये से 1 लाख करोड़ रुपये तक मिल सकते हैं.


अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज