Home /News /business /

lic lost the crown of 5th most valuable company in 4 trading sessions shares closed at new lows jst

LIC ने 4 कारोबारी सत्रों में गंवाया 5वीं सबसे मूल्यवान कंपनी का ताज, नए लो पर बंद हुए थे शेयर

एलआईसी ने आईपीओ के जरिए करीब 21000 करोड़ रुपये जुटाए हैं.

एलआईसी ने आईपीओ के जरिए करीब 21000 करोड़ रुपये जुटाए हैं.

एलआईसी ने पिछले 4 कारोबारी सत्रों में अपने बाजार मूल्यांकन एक बड़ा हिस्सा गंवा दिया है. कंपनी के शेयरों ने निवेशकों को लगातार निराश किया है. शुक्रवार को एलआईसी के शेयर एक नए लो साथ बंद हुए. लगातार हो रही इस गिरावट ने निवेशकों को दुविधा में डाल दिया है.

अधिक पढ़ें ...

नई दिल्ली. देश का सबसे बड़ा आईपीओ लाने वाली एलआईसी ने केवल 4 कारोबारी सत्रों में अपने बाजार मूल्यांकन का एक बड़ा हिस्सा गंवा दिया है. शुक्रवार को एनएसई पर एलआईसी के शेयर अब तक के अपने न्यूनतम स्तर 825 रुपये पर बंद हुए. यह अपने उच्चतम स्तर 918 रुपये से करीब 10 फीसदी टूट चुका है.

मनीकंट्रोल  के अनुसार, एलआईसी का बाजार मूल्यांकन अब तक 77,600 करोड़ रुपये नीचे आ चुका है. शुक्रवार को हुई गिरावट के बाद एलाआईसी के पास अब भारत की 5वीं सबसे मूल्यवान लिस्टेड कंपनी का खिताब भी नहीं रहा. शुक्रवार को इसके मूल्यांकन में करीब 22 हजार करोड़ रुपये की गिरावट आई. एलआईसी को पछाड़कर एचयूएल एक बार फिर पांचवीं सबसे मूल्यवान लिस्टेड कंपनी बन गई है.

ये भी पढ़ें- LIC के शेयर ने बनाया नया Low, जानिए निवेशकों को अब क्या करना चाहिए?

निवेशकों की दुविधा

एलआईसी ने अपने पॉलिसीधारकों और कर्मचारियों को शेयरों की कीमत में कुछ छूट दी थी. उसके बावजूद वे लोग घाटे में चल रहे हैं. निवेशकों को यह समझ नहीं आ रहा कि वे इस शेयर को रखें या बेचें. जिनके पास ये शेयर अभी तक है उन्हें इसे बेचने में काफी घाटे का सामना करना पड़ेगा. वहीं, अगर वे इस शेयर को रखते हैं तो संभवत: ये आगे और नीचे जाएगा. बता दें कि पॉलिसीहोल्डर्स को एलआईसी शेयर के प्राइस पर 60 रुपये और कर्मचारियों को 45 रुपये की छूट थी. यह शेयर निवेशकों को 942 रुपये पर अलॉट हुए थे. अगर पॉलिसीहोल्डर्स या कर्मचारियों के लिए डिस्काउंट को भी जोड़ा जाए तब भी काफी नुकसान में हैं. रिटेल इन्वेस्टर्स का भी हाल यही है क्योंकि कर्मचारियों की तरह उन्हें भी 45 रुपये का डिस्काउंट मिला था.

अब क्या करें निवेशक

एंजेल वन के प्रमुख सलाहकार अमर देव सिंह ने FinancialExpress को बताया कि वैश्विक मुद्रास्फीति से जुड़ी चिंताओं के साथ-साथ आर्थिक विकास को लेकर निवेशकों की भावनाओं का एलआईसी पर नकारात्मक प्रभाव पड़ा है. सिंह का मानना है कि बीमा कारोबार में एलआईसी एक शीर्ष कंपनी है और निवेशकों को लंबी अवधि के लिए स्टॉक में बने रहना चाहिए. उन्होंने आने वाले वर्षों में बिजनेस में अच्छी संभावनाओं का अनुमान लगाया है.

ये भी पढ़ें- Prudent corporate Advisory की 5% प्रीमियम पर हुई लिस्टिंग, 660 रुपये पर खुले शेयर

बाजार का हाल

शुक्रवार को बाजार में तेजी देखने को मिली. सेंसेक्स 1534 अंक बढ़कर 54,326 के स्तर पर बंद हुआ. जबकि निफ्टी ने 456 अंकों की छलांग लगाकर 16,266 का स्तर छुआ. लेकिन एलआईसी के शेयर इस प्रभाव से अछूते रहे.

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर