LIC IPO Latest News: 400 से 600 रुपये रह सकती है एक शेयर की कीमत

फिलहाल 29 करोड़ पॉलिसियों के साथ जीवन बीमा कंपनी का पेड-अप कैपिटल 100 करोड़ रुपये है.

फिलहाल 29 करोड़ पॉलिसियों के साथ जीवन बीमा कंपनी का पेड-अप कैपिटल 100 करोड़ रुपये है.

सरकार ने एलआईसी (LIC) की ऑथोराइज्ड कैपिटल को 100 करोड़ रुपये से बढ़ाकर 25,000 करोड़ रुपये करने का प्रस्ताव किया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 10, 2021, 3:43 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. लाइफ इंश्योरेंस कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया यानी एलआईसी (Life Insurance Corporation of India) के इनिशियल पब्लिक ऑफरिंग यानी (IPO) को लेकर चर्चाओं का बाजार गर्म है. 1 फरवरी को बजट पेश करते हुए वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (Nirmala Sitharaman) ने एलआईसी का आईपीओ लाने की बात कही थी. वहीं, इस आईपीओ में एक शेयर की कीमत 400 से 600 रुपये रह सकती है.

फिलहाल 29 करोड़ पॉलिसियों के साथ जीवन बीमा कंपनी का पेड-अप कैपिटल 100 करोड़ रुपये है. सरकार ने एलआईसी (LIC) की ऑथोराइज्ड कैपिटल को 100 करोड़ रुपये से बढ़ाकर 25,000 करोड़ रुपये करने का प्रस्ताव किया है. इसे 10 रुपये प्रत्येक के 2,500 करोड़ शेयरों में बांटा जाएगा.

ये भी पढ़ें- खुशखबरी! ICICI और Flipkart अपने कर्मचारियों को लगवाएगी कोविड-19 का टीका, फ्री में मिलेगी ये सेवा

LIC IPO में 10 फीसदी हिस्सा पॉलिसीधारकों के लिए रिजर्व
आईपीओ के बाद पांच साल तक सरकार एलआईसी में कम से कम 75 फीसदी हिस्सेदारी रखेगी. सूचीबद्धता के पांच साल बाद कंपनी में सरकार की हिस्सेदारी कम से कम 51 फीसदी रहेगी. वित्त राज्यमंत्री अनुराग ठाकुर ने पिछले महीने कहा था कि एलआईसी के आईपीओ में कम से कम 10 फीसदी हिस्सा पॉलिसीधारकों के लिए आरक्षित रहेगा. इसके साथ ही आगे ठाकुर ने कहा था कि सरकार कंपनी की बहुलांश शेयरधारक बनी रहेगी. साथ ही उसका प्रबंधन पर भी नियंत्रण रहेगा, जिससे पॉलिसीधारकों का हित सुरक्षित रहेगा.

ये भी पढ़ें- Ration Card: राशन कार्ड में दर्ज व्यक्ति की मौत या गलत जानकारी दे कर राशन लेने पर अब होगी इतने साल की सजा

बजट भाषण में वित्तमंत्री ने कही ये बात



वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने अपने बजट भाषण में कहा था कि एक अप्रैल से शुरू होने वाले नए वित्त वर्ष में एलआईसी का आईपीओ आएगा. फिलहाल एलआईसी में सरकार की शतप्रतिशत हिस्सेदारी है. सूचीबद्धता के बाद बाजार पूंजीकरण के लिहाज से यह देश की सबसे बड़ी कंपनी हो जाएगी. इसका अनुमानित मूल्यांकन आठ से दस लाख करोड़ रुपये होगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज