बंद हो चुकी है LIC पॉलिसी तो ऐसे करें वापस शुरू, 15 अक्टूबर तक ही है समय

अगर आपके पास LIC की कोई पालिसी है जो बंद हो चुकी हैं जो अब आप चालू कराना चाहते हैं तो ये काम अब आप आसानी से कर सकेंगे.

News18Hindi
Updated: September 10, 2018, 9:46 AM IST
बंद हो चुकी है LIC पॉलिसी तो ऐसे करें वापस शुरू, 15 अक्टूबर तक ही है समय
अगर आपके पास LIC की कोई पालिसी है जो बंद हो चुकी हैं जो अब आप चालू कराना चाहते हैं तो ये काम अब आप आसानी से कर सकेंगे.
News18Hindi
Updated: September 10, 2018, 9:46 AM IST
भारत की सबसे बड़ी बीमा कंपनी लाइफ इंश्योरेंस कॉरपोरेशन (LIC) की कोई पॉलिसी ली हुई है. तो ये खबर आपके लिए जानना बहुत जरूरी है. क्योंकि LIC अपने कस्टमर्स को लिमिटेड समय सीमा के लिए एक फैसिलिटी दे रहा है जो आपके भी काम आ सकती है.

अगर आपके पास LIC की कोई पालिसी है जो बंद हो चुकी हैं जो अब आप चालू कराना चाहते हैं तो ये काम अब आप आसानी से कर सकेंगे. लेकिन इस मौके का लाभ आप 15 अक्टूबर तक ही उठा सकते हैं.  LIC ने ट्वीट कर ये जानकारी दी है. आगे जानें कैसे रिन्यू कर सकते हैं आप अपनी पालिसी.

Loading...
क्या है LIC की रिवाइवल पालिसी?
रिवाइवल का मतलब है बंद बीमा पॉलिसी को चालू करना पालिसिधारक के लिए एक जीवन बीमा पालिसी खरीदने का मुख्य कारण यह है की जब उसकी अचानक मृत्य हो जाये तो उसके बाद उसके परिवार को वित्तीय सहायता दी जाए. लेकिन समय पर प्रीमियम का भुगतान न करने के कारण आपकी पालिसी की योजना विफल हो जाती है, और पूरे प्रयास बेकार हो जाते हैं.

इस योजना में लगाएं 200 रुपए रोजाना, 20 साल बाद मिलेंगे 34 लाख रुपये



यदि पालिसी अमाउंट पे करने का मोड वार्षिक,अर्ध-वार्षिक या तिमाही होता है तो LIC मिनिमम 30 दिन का ग्रेस अवधि देती है, और यदि महीने की है तो 15 दिन का. यदि किसी पालिसी का भुगतान 6 महीने या उससे अधिक अवधी में नहीं किया जाता है तो पॉलिसी समाप्त हो जाती है, यानि पालिसी lapse हो जाती है.

इन 5 ऑप्शन के तहत बंद और लैप्स हुई पालिसी को चालू किया जा सकता है: 

  1. सामान्य पुनर्चलन (Ordinary Revival): सामान्य योजना के तहत LIC पालिसी के सभी भुगतान न किए गए प्रीमियम की लम्प सम प्रीमियम राशि में मौजूदा दर पर ब्याज के साथ भुगतान करके रिन्यू किया जा सकता. ब्याज की वर्तमान दर 9.5% वार्षिक है.


LIC की इस पॉलिसी में सिर्फ 103 रुपये रोजाना बचाकर मिल जाएंगे 13 लाख

  1. विशेष पुनच्रलन (Special Revival): यदि कोई पॉलिसी धारक लम्प सम सभी प्रीमियमों का भुगतान करने में असमर्थ है, तो वह विशेष रिवाइवल योजना के तहत अपनी पालिसी को रिन्यू कर सकता है. इस योजना में प्रारंभ होने की तिथि को आगे-पीछे बढ़ाया जा सकता है और पॉलिसीधारक को उसकी उम्र (REVIVAL के समय) के अनुसार केवल एक प्रीमियम का भुगतान करना होगा. इसके साथ ही विशेष REVIVAL योजना के तहत एलआईसी पॉलिसी के REVIVAL के लिए निम्नलिखित शर्तों को पूरा करना जरूरी है.


>> संपूर्ण पॉलिसी अवधि में विशेष पुनर्चलन (Special Revival) केवल एक बार किया जा सकता है.

>> विशेष REVIVAL को केवल 3 वर्षों के भीतर LAPSE हुई पालिसी को ही अनुमति दी जाती है.

>> पॉलिसी में कोई सरेंडर वैल्यू नहीं ली जानी चाहिए , यह ऑप्शन पॉलिसी के प्रारंभ होने की तारीख से 3 साल के भीतर प्रयोग किया जा सकता है.

LIC की ये पॉलिसी हो चुकी हैं बंद, अगर आपके पास है तो जानिए अब क्या करें?

  1. किस्तों द्वारा पुनर्चलन (Installments Revival): यदि पॉलिसीधारक लम्प सम सभी प्रीमियम का भुगतान करने में असमर्थ हैं तो वह अपनी पालिसी को रिवाइवल  करने के लिए इस योजना का उपयोग कर सकते हैं इस योजना के तहत वह तुरंत जरूरी राशि का भुगतान करके अपनी पालिसी को पुन: चालू कर सकता है.


>> वार्षिक पद्धति के भुगतान में, वार्षिक प्रीमियम का आधा हिस्सा.

>> छमाही वार्षिक मोड में, एक छमाही प्रीमियम.

>> तिमाही मोड के भुगतान में, 2 तिमाही प्रीमियम.

>> मासिक भुगतान विधि में, 6 मासिक प्रीमियम, बाकी बकाया प्रीमियम को किश्तों में दो साल के भीतर चुकाया जाना है. जरूरी हो तो पॉलिसी अवधि के अनुसार नियमित प्रीमियम डीजीएच और मेडिकल रिपोर्ट के साथ दिया जायेगा.

LIC आपके पैसों से ऐसे करता है करोड़ों रुपये की कमाई!

  1. उत्तरजीविता बेनिफिट कम-रिवाइवल स्कीम (Survival Benefit cum- Revival Scheme): MONEY बैंक के मामले में, मनी बैंक टाइप पॉलिसी को MONEY बैंक (एस बी) का उपयोग करके रिवाइवल किया जा सकता है.


अब घर दिलाएगा आपको पेंशन, SBI समेत कई बैंकों ने शुरू की नई स्कीम

  1. लोन-सह-पुनर्चलन योजना (Loan Cum-Revival Scheme): यदि पॉलिसी REVIVAL तिथि पर सरेंडर वैल्यू प्राप्त कर लेती है तो इस पालिसी पर ऋण लिया जा सकता है तथा ऋण को पालिसी को चालू करने में उपयोग किया जाता है. यदि ऋण REVIVAL राशि से कम है, तो पॉलिसीधारक को बाकी राशी का भुगतान करना होगा. अगर रिवाइवल की रकम लोन अमाउंट से कम है तो शेष राशि का भुगतान पॉलिसीधारक को दिया जाएगा.

Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर