LIC की नई पॉलिसी प्रीमियम से आय दोगुनी से ज्यादा हुई, जानें जून में कितनी की कमाई

चालू वित्त वर्ष के जून महीने में लाइफ इंश्योरेंस कंपनियों की नई प्रीमियम आय 94 फीसदी बढ़कर 32,241.33 करोड़ रुपये रही.

पीटीआई
Updated: July 14, 2019, 3:14 PM IST
LIC की नई पॉलिसी प्रीमियम से आय दोगुनी से ज्यादा हुई, जानें जून में कितनी की कमाई
जानें, LIC ने जून में नई पॉलिसी प्रीमियम से कितनी कमाई की!
पीटीआई
Updated: July 14, 2019, 3:14 PM IST
चालू वित्त वर्ष के जून महीने में लाइफ इंश्योरेंस कंपनियों की नई प्रीमियम आय 94 फीसदी बढ़कर 32,241.33 करोड़ रुपये रही. प्रीमियम से सबसे ज्यादा आय भारतीय जीवन बीमा निगम (LIC) की हुई है. बीमा नियामक इरडा के आंकड़ों से यह जानकारी मिली. इससे पहले, सभी 24 लाइफ इंश्योरेंस कंपनियों को जून 2018 में नई पॉलिसी से 16,611.57 करोड़ रुपये का प्रीमियम मिला था.

LIC की प्रीमियम आय हुई दोगुनी


देश की सबसे बड़ी जीवन बीमा कंपनी LIC की जून में नई पॉलिसी से प्रीमियम आय दोगुनी से ज्यादा बढ़कर 26,030.16 करोड़ रुपये रही. जून 2018 में यह आंकड़ा 11,167.82 करोड़ रुपये पर था. इसके साथ ही एलआईसी की बाजार हिस्सेदारी बढ़कर 74 फीसदी पर पहुंच गई. शेष 26 फीसदी हिस्सेदारी निजी बीमा कंपनियों के हिस्से में रही.



LIC ने जून में बेचीं 13.32 लाख पॉलिसी
LIC ने जून माह के दौरान 13.32 लाख पॉलिसी बेचीं और एक महीने में ही 25,000 करोड़ रुपये से अधिक का प्रीमियम जुटाया. इस दौरान, 23 निजी क्षेत्र की बीमा कंपनियों की नई प्रीमियम से आय 14.10 फीसदी की बढ़ोतरी के साथ 6,211.17 करोड़ रुपये रही, जो एक साल पहले की इसी अवधि में 5,443.75 करोड़ रुपये थी.

ये भी पढ़ें: PAN कार्ड और आधार के बदल गए ये नियम, जान लें होगा फायदा
Loading...

निजी कंपनियों की स्थिति
निजी क्षेत्र की कंपनियों में HDFC लाइफ का नया प्रीमियम 21 फीसदी बढ़कर 1,358.45 करोड़ रुपये रहा. SBI लाइफ का प्रीमियम 28.14 फीसदी बढ़कर 1,310.07 करोड़ रुपये रहा. ICICI प्रूडेंशियल लाइफ का प्रीमियम 26 फीसदी बढ़कर 897.98 करोड़ रुपये पर पहुंच गया.

अप्रैल-जून में नया प्रीमियम 65% बढ़ा
चालू वित्त वर्ष की बात करें तो अप्रैल-जून अवधि के दौरान 24 जीवन बीमा कंपनियों का नया प्रीमियम कुल मिलाकर 65 फीसदी बढ़कर 60,637.22 करोड़ रुपये करोड़ रुपये हो गया. अप्रैल-जून 2019-20 में एलआईसी की नई प्रीमियम आय 82 फीसदी बढ़कर 44,794.78 करोड़ रुपये रही.

ये भी पढ़ें: IT डिपार्टमेंट का मैसेज, 50 लाख तक है सैलरी तो रिटर्न के लिए भरें ये फॉर्म
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...