Home /News /business /

Life Insurance लेते समय कभी ना करें ये गलती, नहीं मिलेगा क्लेम

Life Insurance लेते समय कभी ना करें ये गलती, नहीं मिलेगा क्लेम

टर्म लाइफ इंश्योरेंस जितना जल्दी लेंगे उतना ही प्रीमियम कम होगा. इसे लेने में जितना देरी करेंगे यह उतना ही महंगा होता जाएगा.

टर्म लाइफ इंश्योरेंस जितना जल्दी लेंगे उतना ही प्रीमियम कम होगा. इसे लेने में जितना देरी करेंगे यह उतना ही महंगा होता जाएगा.

ये सही है कि इंश्योरेंस हमारी बचत का ही एक हिस्सा है. लेकिन इसे निवेश के तौर पर नहीं देखना चाहिए. इसके अलावा ज्यादातर लोग लाइफ इंश्योरेंस पॉलिसी को खुद के फायदे के हिसाब से लेते हैं. जबकि जीवन बीमा का पॉलिसी होल्डर को सीधे तौर पर शायद ही कभी कोई लाभ होता है.

अधिक पढ़ें ...

    life Insurance News: इंश्योरेंस का जिक्र आते ही जीवन बीमा यानी लाइफ इंश्योरेंस दिमाग में आता है. ज्यादातर लोग बीमा को निवेश के तौर पर लेते हैं. भविष्य की आर्थिक जरूरतों को ध्यान में रखते हुए लाइफ इंश्योरेंस की पॉलिसी लेते हैं. ये सही है कि इंश्योरेंस हमारी बचत का ही एक हिस्सा है. लेकिन इसे निवेश के तौर पर नहीं देखना चाहिए. इसके अलावा ज्यादातर लोग लाइफ इंश्योरेंस पॉलिसी को खुद के फायदे के हिसाब से लेते हैं. जबकि जीवन बीमा का पॉलिसी होल्डर को सीधे तौर पर शायद ही कभी कोई लाभ होता है. हां, पॉलिसी होल्डर पर निर्भर लोगों के भले के लिए इसे खरीदा जाता है. हमारे ना होने पर लाइफ इंश्योरेंस हम पर निर्भर लोगों की वित्तीय जरूरतों को पूरा करने में मदद करता है.

    अक्सर ऐसे मामले देखने में आए हैं कि समय पर प्रीमियम का भुगतान करने के बाद भी लाइफ इंश्योरेंस के फायदे पॉलिसी होल्डर के परिजनों को नहीं मिल पाते हैं. बीमा कंपनियां कुछ ना कुछ कमी बताकर खासकर पॉलिसी होल्डर की गलती बताकर क्लेम को रोक देती हैं. इसलिए किसी भी कंपनी से लाइफ इंश्योरेंस लेते समय कंपनी और पॉलिसी होल्डर के बीच कुछ भी छिपा हुआ नहीं होना चाहिए. कंपनी को अपनी पॉलिसी के तमाम फायदे, टर्म कंडीशन आदि के बारे में विस्तार से बताना चाहिए. यही खुलापन पॉलिसी होल्डर का बीमा कंपनी के साथ होना चाहिए. अपनी बीमारी या आदत के बारे में स्पष्ट रूप से चर्चा करनी चाहिए.

    कई लोग ज्यादा प्रीमियम से बचने के चक्कर में बीमा कंपनी को पूरी जानकारी नहीं देते हैं. इस तरह की गलतियों की वजह से इंश्योरेंस कंपनियां क्लेम को खारिज कर देती हैं. इससे पॉलिसी को खरीदने का पूरा मकसद बेकार चला जाता है.

    Mutual Funds से चाहिए ज्यादा रिटर्न, जोखिम भी होगा कम, अपनाएं ये टिप्स

    टर्म इंश्योरेंस पर दें ध्यान (Term Insurance Plan)
    हर कोई चाहता है कि उसके बाद उसके परिवार को किसी तरह की परेशानी ना उठानी पड़े, इसके लिए वह तमाम योजनाओं में निवेश करता है. अगर पॉलिसी होल्डर अपने परिवार को लेकर कोई जोखिम नहीं उठाना चाहता तो उसे टर्म इंश्योरेंस जरूर लेना चाहिए.

    Income Tax Return: क्लेम के मुकाबले कम मिला टैक्स रिफंड? जानें क्या है वजह

    ज्यादातर लोग टर्म इंश्योरेंस को फिजूल खर्चा समझते हैं. हालांकि कोरोना महामारी के बाद लोगों को टर्म इंश्योरेंस का महत्व समझ आ गया है. हममें से कई लोग टर्म इंश्योरेंस खरीदने से बचने के पीछे तर्क देते हैं कि अन्य इंश्योरेंस में लाइफ कवर शामिल है. टर्म इंश्योरेंस का मकसद ही पॉलिसी होल्डर के बाद परिवार की आर्थिक जरूरतों को पूरा करना है. इसलिए जिस प्रकार हम परिवार के लिए घर बनाते हैं, बच्चों को अच्छी शिक्षा दिलाते हैं, उसी प्रकार भविष्य में किसी अप्रिय घटना की स्थिति में परिवार को आर्थिक सुरक्षा के लिए टर्म इंश्योरेंस जरूर लेना चाहिए.

    टर्म लाइफ इंश्योरेंस जितना जल्दी लेंगे उतना ही प्रीमियम (Insurance Premium) कम होगा. इसे लेने में जितना देरी करेंगे यह उतना ही महंगा होता जाएगा.

    सही जानकारी दें
    लाइफ इंश्योरेंस पॉलिसी लेते समय बीमा कंपनी को अपने ऊपर निर्भर लोगों की सही जानकारी देनी चाहिए. अगर बीमा कंपनी को आप पर निर्भर लोगों के बारे में सही जानकारी नहीं होगी तो क्लेम हासिल करने में दिक्कत आएगी.

    Tags: Insurance, Insurance Policy, Life Insurance Corporation of India (LIC)

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर