Lockdown in Delhi: 'बाजार बंद होने से रोजाना 600 करोड़ रुपये के व्यापार को होगा नुकसान, जरूरी सामान की आपूर्ति होती रहेगी'

बाजार बंद होने से दिल्‍ली में रोजाना 600 करोड़ रुपये के व्‍यापार का नुकसान होगा

बाजार बंद होने से दिल्‍ली में रोजाना 600 करोड़ रुपये के व्‍यापार का नुकसान होगा

देश की राजधानी दिल्ली में 19 अप्रैल की रात 10 बजे से 26 अप्रैल तक लॉकडाउन (Lockdown in Delhi) लगाने का फैसला किया गया है. सोमवार को दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) ने 26 अप्रैल तक जरूरी सेवाओं को छोड़ दिल्ली को पूरी तरह बंद रखने को लेकर ऐलान किया है. इससे अगले 6 दिनों तक दिल्ली के बाजार भी बंद रहेंगे. व्‍

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 20, 2021, 10:56 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. देश की राजधानी दिल्ली में 19 अप्रैल की रात 10 बजे से 26 अप्रैल तक लॉकडाउन (Lockdown in Delhi) लगाने का फैसला किया गया है. सोमवार को दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) ने 26 अप्रैल तक जरूरी सेवाओं को छोड़ दिल्ली को पूरी तरह बंद रखने को लेकर ऐलान किया है. इससे अगले 6 दिनों तक दिल्ली के बाजार भी बंद रहेंगे. व्‍यापारियों के संगठन कॉन्‍फेडरेशन ऑ आल इंडिया ट्रेडर्स (CAIT) का आकलन है कि लॉकडाउन से दिल्‍ली में रोजाना 600 करोड़ रुपये के व्‍यापार का नुकसान होगा. हालांकि, कैट ने केजरीवाल सरकार ने इस फैसले का स्‍वागत किया है. CAIT के राष्ट्रीय महामंत्री प्रवीन खंडेलवाल ने इसे एक बहुत ही जरूरी कदम बताया है और कहा है की दिल्ली में लगातार बढ़ रहे कोविड मामलों के मद्देनजर कैट पिछले कई दिनों से दिल्ली में लॉक डाउन लगाने की मांग कर रहा था.

जरूरी सामानों की आपूर्ति होती रहेगी

कैट ने सभी आशवस्त किया है की दिल्ली में सभी प्रकार से आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति की जाएगी जिससे आम लोगों को लॉक डाउन से कोई असुविधा न हो. खंडेलवाल ने दिल्ली के उपराजयपाल अनिल बैजल और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल से आग्रह किया है कि वे दिल्ली को पांच भाग सेंट्रल, पूर्व, पश्चिम, उत्तरी और दक्षिणी दिल्ली में विभाजित कर पांच नोडल अधिकारियों को नामांकित करें जिनके साथ सहयोग करते हुए सभी जोन में कैट टीम के लोग आपूर्ति एवं अन्य कार्यों में सरकार के सहभागी बन सकें.

ये भी पढ़ें- Bank Holidays: कल कई राज्यों में बंद रहेंगे बैंक, कोरोनाकाल में घर से निकलने से पहले चेक करें ये लिस्ट
प्रतिदिन 600 करोड़ रुपये का व्यापार को नुकसान

खंडेलवाल ने बताया की एक मोटे अनुमान के अनुसार दिल्ली में लॉक डाउन की अवधि के दौरान प्रतिदिन लगभग 600 करोड़ रुपये का व्यापार नहीं होगा जबकि देश के अन्य राज्यों में लॉक डाउन, आंशिक लॉक डाउन, रात्रि कर्फ्यू एवं अन्य बंदिशों के चलते प्रतिदिन लगभग 10 हजार करोड़ रुपये का व्यापार नहीं हो पा रहा है. इसके अलावा निर्यात की वस्तुओं के व्यापार पर भी बुरा असर पड़ा है किन्तु क्योंकि कोरोना के संक्रमण की श्रंखला को रोकना जरूरी है इस वजह से व्यापारी किसे एक कड़वा घूंट मान कर पीने की मजबूरी मान रहे हैं क्योंकि जिस तादाद में मेडिकल व्यवस्था चरमरा गई है, उसको देखते हुए बाजार बंद करने के अलावा दूर कोई रास्ता नहीं बचा है .
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज