इधर देश के 101 जिलों में फैलीं टिड्डियां उधर ईरान में तैयार हो रहा है इनका नया दल

इधर देश के 101 जिलों में फैलीं टिड्डियां उधर ईरान में तैयार हो रहा है इनका नया दल
दोबारा बढ रहा है टिड्डियों का खतरा (Demo Pic)

101 जिले तक फैल चुकी हैं टिड्डियां, ईरान में पैदा हो रहे नए दल को मारने की चुनौती

  • Share this:
नई दिल्ली. एक तरफ केंद्र सरकार टिड्डियों (Locust)  के नियंत्रण का दावा कर रही है तो दूसरी तरफ वो तमाम कोशिशों को चकमा देती हुई देश के 101 जिले तक फैल चुकी हैं. नौ राज्यों के किसानों (Farmers) पर इनकी मार पड़ी है. इसके बाद केंद्र सरकार ने हेलीकाप्टर से स्प्रे करवाने का फैसला लिया है. यह कोशिश कितनी कामयाब होगी यह तो समय ही बताएगा उधर, इनकी नई ब्रिड ईरान में तैयार हो रही है.

खाद्य एवं कृषि संगठन (FAO- Food and Agriculture Organisation) की रिपोर्ट बता रही है कि टिड्डी का पतिंगा अवस्था वाली आबादी का निर्माण ईरान (Iran) के सिस्तान-बलूचिस्तान क्षेत्र में हो रहा है. यह आने वाले महीनों में भारत की ओर पलायन करेगा और दोबारा फसलों की तबाही का कारण बनेगा. वर्तमान टिड्डी दलों से ही मुश्किल में पड़ी सरकार की कोशिश है कि नए दल को भारत आने से पहले से ही मार दिया जाए. इसके लिए एचआईएल इंडिया लिमिटेड ने ईरान को टिड्डी नियंत्रण कार्यक्रम के लिए 25 मीट्रिक टन मैलाथियान (95% यूएलवी) भेजा है.

कहां है टिड्डियों का ज्यादा आतंक



केंद्र सरकार का दावा है कि उसने 2,33,487 हेक्टेयर क्षेत्र में टिड्डी नियंत्रण किया है. सबसे ज्यादा मध्य प्रदेश के 40 जिलों में इनका प्रकोप रहा है. राजस्थान में 31 और यूपी के 13 जिले प्रभावित हैं. इसके अलावा हरियाणा, बिहार, छत्तीसगढ़, महाराष्ट्र, गुजरात और पंजाब में भी इनकी मौजूदगी है.



ये भी पढ़ें: कैसे चाइनीज सामान के लिए मजबूर होते गए भारतीय लोग?

केंद्र सरकार ने 3,00,000 लीटर मैलाथिओन खरीद की स्वीकृति दे दी. कृषि यंत्रीकरण पर उप-मिशन के तहत राजस्थान राज्य सरकार के लिए 800 ट्रैक्टर स्थापित स्प्रे यंत्रों की खरीद के लिए सहायता राशि मंजूर की गई.

 टिड्डी दल, टिड्डी दल का हमला, टिड्डी भगाने के उपाय, locust attack, pakistani locust attacks, Ministry of Agriculture, india-Pakistan border, भारत-पाकिस्तान, पाकिस्तानी टिड्डी दल का अटैक, कृषि मंत्रालय, राजस्थान, ड्रोन, Drone, ईरान, Iran
टिड्डी दल की वजह से किसानों को काफी नुकसान हुआ है. (File)


वर्तमान में वाहनों पर लगे छिड़काव उपकरणों के साथ 60 नियंत्रण दलों के माध्यम से टिड्डी नियंत्रण की रणनीति है. 200 से ज्यादा केंद्रीय कर्मचारी राजस्थान, मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh), पंजाब, गुजरात, महाराष्ट्र, छत्तीसगढ़, हरियाणा, उत्तर प्रदेश और बिहार राज्यों में काम कर रहे हैं.

ये भी पढ़ें-एक स्पेलिंग ने किसानों के डुबोए 4200 करोड़ रुपये, ऐसे ठीक होगी गलती

कृषि मंत्रालय के मुताबिक टिड्डी नियंत्रण के लिए जैसलमेर, बाड़मेर, जोधपुर, बीकानेर व नागौर में 12 ड्रोन (drone) तैनात किए गए हैं. टिड्डी नियंत्रण के लिए भारत ड्रोन का उपयोग करने वाला दुनिया का पहला देश बन गया है. एक ड्रोन एक घंटे में 16-17 हेक्टेयर और 4 घंटे में 70 हेक्टेयर क्षेत्र कवर कर सकता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading