ब्रह्मपुत्र पर बनेगा देश का सबसे लंबा ब्रिज, L&T को मिला ठेका, जानिए कब तक तैयार होगा ब्रिज

 L&T करेगी देश के सबसे बड़े रोड़ ब्रिज का निर्माण.
L&T करेगी देश के सबसे बड़े रोड़ ब्रिज का निर्माण.

ब्रह्मपुत्र नदी (Brahmaputra River) पर बनने वाले देश के सबसे बड़े रोड़ ब्रिज (road bridge) की लंबाई 20 किलोमीटर (20 kilometers) होगी. इस ब्रिज का निर्माण L&T 3,166 करोड़ रुपये में करेगी. जो की 2026-27 तक पूरा होने की संभावना है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 12, 2020, 8:01 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. लार्सन एंड टुब्रो लिमिटेड (L&T) ब्रह्मपुत्र नदी पर देश का सबसे बड़ा ब्रिज बनाने जा रही है. L&T को इस ब्रिज को बनाने के लिए 3,166 करोड़ रुपये में ठेका मिला है. आपको बता दें  L&T इस ब्रिज का निर्माण ब्रह्मपुत्र नदी पर करेगी. जो कि असम और मेघालय को जोड़ने का काम करेगा. ब्रह्मपुत्र नदी पर बनने वाला यह 4 लेन रोड़ ब्रिज देश का सबसे बड़ा ब्रिज होगा. जिसकी लंबाई 20 किलोमीटर होगी.  देश के सबसे बड़े रोड़ ब्रिज के निर्माण के लिए जापान इंटरनैशनल कोऑपरेशन एजेंसी (जीका) फाइनेंस करेगी. इस पुल का निर्माण राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 127बी पर धुबरी और फुलबारी के बीच किया जाएगा. जिससे असम और मेघालय के बीच की दूरी कम होगी. 

चीन में समंदर पर बना है दुनिया का सबसे लंबा-आपको बता दें कि ये 55 किलोमीटर लंबा है. हांगकांग-झुहाई एंड मकाऊ ब्रिज नदी या समुद्र, कहीं पर भी बना दुनिया का छठा सबसे लंबा पुल है. ये नया सी ब्रिज साउथ चाइना सी पर पर्ल रिवर डेल्टा के पूर्वी और पश्चिमी छोर को जोड़ता है. झुहाई चीनी मैनलैंड पर बसा शहर है, जो अब हांगकांग और मकाऊ, दोनों स्पेशल एडमिनिस्ट्रेटिव रीजन से जुड़ गया है. इस पुल में डुअल थ्री लेन है, जो समुद्र के ऊपर 22.9 किलोमीटर है जबकि 6.7 किलोमीटर समुद्र के नीचे सुरंगनुमा शक्ल में है. इसकी गहराई 44 मीटर तक है.पुल का बाक़ी हिस्सा ज़मीन पर बना है. सुरंग के दोनों तरफ़ दो कृत्रिम द्वीप हैं. ये दोनों 10 लाख वर्ग फ़ुट के ज़्यादा इलाक़े में बने हैं.

यह भी पढ़ें: केंद्र की पहाड़ी राज्यों के लिए बड़ी घोषणा! हवाई परिवहन पर मिलेगी 50 फीसदी सब्सिडी



ब्रिज 2026-27 तक बनकर तैयार होने की संभावना- L&T का यह प्रोजेक्टर 2026-27 तक पूरा होने की संभावना है. इस पुल के बनने से धुबरी और फुलबारी के बीच सड़क मार्ग से दूरी 203 किमी कम हो जाएगी. अभी लोगों को नरनारायण पुल से होकर जाना पड़ता है जो 60 किमी दूर है. लोग छोटी-छोटी नावों के सहारे भी नदी पार करते हैं जिसमें ढाई घंटा लगता हैं.
यह भी पढ़ें: FASTag की बड़ी सफलता! 1 साल में 2 करोड़ से ज्‍यादा व्‍हीकल्‍स में लगा स्‍टीकर, दर्ज हुई 400 फीसदी ग्रोथ

L&T ने लगाई ब्रिज के निर्माण के लिए सबसे कम बोली- L&T ने इस ब्रिज के निर्माण के लिए सबसे कम 3,166 करोड़ की बोली लगाई थी. जिसके बाद सरकार ने ब्रिज के निर्माण की जिम्मेदारी L&T को दी. आपको बता दें L&T देश में कई अहम प्रोजेक्ट को भी बनाने का काम कर रही हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज