सावधान रहें! माचिस की तीली से हो रहा ATM फ्रॉड

एटीएम से फ्रॉड के लिए माचिस की तीली, ग्लू स्टिक, थर्मो कैम, स्कीमर, शोल्डर सर्फिंग, स्लीक ट्रिक एट पाउच और स्लीक ट्रिक कैश डिस्पेंसर आदि तरीकों का इस्तेमाल हो रहा है.

News18Hindi
Updated: December 8, 2018, 1:07 PM IST
सावधान रहें! माचिस की तीली से हो रहा ATM फ्रॉड
सांकेतिक तस्वीर
News18Hindi
Updated: December 8, 2018, 1:07 PM IST
दिनों-दिन पैसा निकालने के लिए ATM का यूज बढ़ रहा है. ATM से चूना लगाने वाले लोग चोरी के नए-नए तरीके तलाश रहे हैं. शातिर अपराधियों के गिरोह एटीएम फ्रॉड के जरिए लोगों को चूना लगा रहे हैं. देश के कई हिस्सों में इस तरह के अपराध हो रहे हैं. राजधानी दिल्ली एटीएम से जुड़े फ्रॉड की घटनाएं लगातार बढ़ रही हैं.

माचिस की तीली के जरिए की जा रही है जालसाज़ी 
जानकारों के मुताबिक एटीएम से पैसों की लूट के लिए माचिस की तीली, ग्लू स्टिक, थर्मो कैम, स्कीमर, शोल्डर सर्फिंग (पीछे से खड़े होकर यूजर का पिन जान लेना), स्लीक ट्रिक एट पाउच और स्लीक ट्रिक कैश डिस्पेंसर आदि तरीकों का इस्तेमाल हो रहा है.

ये भी पढ़ें: LIC की बेस्ट पॉलिसी! रोजाना सिर्फ 9 रुपये खर्च कर मिलेंगे 4.56 लाख रुपये

ऐसे दिया जाता है धोखा
एक्सपर्ट्स का मानना है कि एटीएम क्लोनिंग कार्ड पर निर्भर करता है कि वह कैसा है. यदि आप किसी को फ्रेश एटीएम देते हो और मेरे पास ब्लैंक कार्ड है तो आसानी से क्लोनिंग कर सकता हूं. उसके लिए एक डिवाइस होती है, जिससे उसे स्कैन करके ब्लैंक कार्ड पर डाल दिया जाता है. उसके बाद जरूरत पड़ती है, एटीएम पिन की जिसे फ्रॉड कॉल्स के जरिए यूजर से फोन पर भी लिया जा सकता है और एटीएम में खड़े होकर पीछे से पिन को नोट करके भी.

ये भी पढ़ें: भूल जाइए कार्ड, अब मोबाइल दिखाकर ATM से निकाल सकेंगे पैसे
Loading...

बरतें ये सावधानियां
कई बार यूजर एटीएम मशीन पर ट्रांजेक्शन के लिए जाता है. कार्ड स्वाइप भी करता है लेकिन पिन डालने के बाद एरर या ट्रांजेक्शन फेल देखकर लौट आता है. कुछ देर बाद उसे ट्रांजेक्शन सक्सेस होने का मेसेज मिलता है. ये सारी चीजें एक स्कीमर डिवाइस के जरिए होती हैं. इस डिवाइस से एटीएम क्लोन हो जाता है और जो नंबर पैड है उसमें एक फेक नंबर पैड लगा दिया जाता है और फेक नंबर पैड पिन कलेक्ट करता रहता है.
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर