Home /News /business /

रियल एस्टेट कंपनियों ने मॉनेटरी पॉलिसी का किया स्वागत, कहा- Home Loan पर सस्ता कर्ज मिलना जारी रहेगा

रियल एस्टेट कंपनियों ने मॉनेटरी पॉलिसी का किया स्वागत, कहा- Home Loan पर सस्ता कर्ज मिलना जारी रहेगा

आरबीआई ने मॉनेटरी पॉलिसी में ब्याज दरों में किसी तरह का बदलाव नहीं किया है.

आरबीआई ने मॉनेटरी पॉलिसी में ब्याज दरों में किसी तरह का बदलाव नहीं किया है.

Monetary Policy: कोरोना वायरस के नए वैरिएंट ओमिक्रॉन (Omicron) की चिंता के बीच आरबीआई की मॉनेटरी पॉलिसी कमिटि यानी एमपीसी (MPC) ने पॉलिसी दरों में कोई बदलाव नहीं किया है. रियल एस्टेट कंपनियों ने एमपीसी के फैसलों का स्वागत किया है.

अधिक पढ़ें ...

    नई दिल्ली. रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) के गवर्नर शक्तिकांत दास (Shaktikant Das) ने बुधवार को मॉनिटरी पॉलिसी का ऐलान किया. मॉनेटरी पॉलिसी कमिटि यानी एमपीसी (MPC) ने पॉलिसी दरों में कोई बदलाव नहीं किया है. रेपो रेट (Repo Rate) 4 फीसदी पर बरकरार है. वहीं, रियल एस्टेट कंपनियों का मानना है कि आरबीआई द्वारा पॉलिसी दरों को जस का तस रखने के फैसले से होम लोन (Home Loan) पर निचली ब्याज दरें जारी रहेंगी और घरों की मांग में सुधार होगा.

    घर खरीदारों में भरोसा पैदा होगा
    रिजर्व बैंक के नीतिगत फैसले का स्वागत करते हुए क्रेडाई (CREDAI) के अध्यक्ष हर्षवर्धन पटोदिया ने कहा, ”रेपो और रिवर्स रेपो रेट को जस का तस रखने का रिजर्व बैंक का उदार रुख निश्चित रूप से एक प्रगतिशील और सतर्क कदम है, खासकर ऐसे समय में जब पूरा उद्योग नई ओमिक्रॉन लहर के संभावित प्रभाव का आकलन कर रहा है. होम लोन पर निचली ब्याज दर व्यवस्था जारी रहने से घर खरीदारों में भरोसा पैदा होगा और इससे मौजूदा आर्थिक रिकवरी में भी मदद मिलेगी.”

    रियल एस्टेट क्षेत्र को निचली ब्याज दरों से फायदा 
    नारेडको (NAREDCO) के वाइस चेयरमैन और हीरानंदानी ग्रुप के एमडी निरंजन हीरानंदानी ने कहा कि रियल एस्टेट क्षेत्र को निचली ब्याज दरों से फायदा होगा. घर खरीदार इस ऐतिहासिक निचली ब्याज दरों का सबसे अधिक लाभ उठाना चाहेंगे.

    ये भी पढ़ें- एक बार 50 हजार रुपये लगाकर शुरू करें ये कारोबार, 1 लाख से ज्यादा होगी कमाई, सरकार करेगी मदद

    हाउसिंग मार्केट की मांग में और सुधार
    इंडिया सूथबी इंटरनेशनल रियल्टी (India Sotheby’s International Realty) के सीईओ अमित गोयल ने कहा, ”होम लोन पर ब्याज दर 7 फीसदी सालाना पर बनी रहेगी. हम उम्मीद करते हैं कि हाउसिंग मार्केट की मांग में और सुधार होगा. सभी की निगाहें अब आगामी बजट पर है. यदि सरकार बजट में होम लोन पर ‘कटौती’ को बढ़ाती है, तो यह रियल एस्टेट क्षेत्र को बढ़ावा देने वाला कदम होगा.”

    अर्थव्यवस्था की ग्रोथ को प्रोत्साहन
    नारेडको-महाराष्ट्र (NAREDCO-Maharashtra) के अध्यक्ष संदीप रनवाल ने कहा कि होम लोन पर निचली ब्याज दरें कम से कम इस साल के अंत तक जारी रहेंगी. इससे रियल एस्टेट इंडस्ट्री के साथ-साथ अर्थव्यवस्था की वृद्धि को प्रोत्साहन मिलेगा.”

    हाउसिंग.कॉम, मकान.कॉम और प्रॉपटाइगर.कॉम के समूह सीईओ ध्रुव अग्रवाल ने कहा, ”प्रमुख नीतिगत दरों को अपरिवर्तित रखने का आरबीआई का निर्णय उम्मीदों के अनुरूप है. अगर पिछली कुछ तिमाहियों में घरों की बिक्री में लगातार सुधार हुआ है, तो इसकी मुख्य वजह कम ब्याज दर है.”

    भारतीय अर्बन (Bhartiya Urban) के सीईओ रेसिडेंशियल अशविंदर आर सिंह ने कहा कि रिजर्व बैंक के इस कदम से निकट भविष्य में कम ब्याज दरों का दौर जारी रहेगा और इससे घरों की बिक्री को प्रोत्साहन मिलेगा.

    ये भी पढ़ें- नौकरी छोड़ शुरू करें ये बिजनेस, हर महीने होगी आराम से 5 से 10 लाख तक की कमाई, जानें कैसे? 

    एनारॉक (Anarock) के चेयरमैन अनुज पुरी ने कहा कि ब्याज दरों में बदलाव नहीं करने के केंद्रीय बैंक के फैसले से कुछ समय तक निचली ब्याज दरों के मामले में यथास्थिति कायम रखने में मदद मिलेगी.

    नाइट फ्रैंक इंडिया (Knight Frank India) के चेयरमैन और प्रबंध निदेशक शिशिर बैजल ने कहा कि कम ब्याज दर व्यवस्था ने पिछली छह तिमाहियों में रियल एस्टेट क्षेत्र को खड़ा करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है.

    रियल एस्टेट सेक्टर की सेंटिमेंट में और सुधार
    कोलियर्स इंडिया (Colliers India) के सीईओ रमेश नायर ने कहा कि रेपो दर में बदलाव नहीं होने से रियल एस्टेट सेक्टर की सेंटिमेंट में और सुधार होगा.

    Tags: RBI, Real estate, Reserve bank of india, Taking a home loan

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर