लॉकडाउन का असर : मैक्रोटेक की कमजोर लिस्टिंग, 10 % डिस्काउंट के साथ लिस्ट हुए शेयर

IPO की वैल्यू फिस्कल ईयर 2020 की अर्निंग्स का 26.3 गुना है. इसी वजह से निवेशकों ने रुचि नहीं ली.

IPO की वैल्यू फिस्कल ईयर 2020 की अर्निंग्स का 26.3 गुना है. इसी वजह से निवेशकों ने रुचि नहीं ली.

लोढ़ा डेवलपर्स यानी माइक्रोटेक डेवलपर्स (MacroTech Developers) के आईपीओ (IPO) की नेगिटिव लिस्टिंग हुई है. बीएसई (BSE) पर इसका लिस्टिंग 439 रुपए पर हुई है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 19, 2021, 2:09 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. कोरोना काल में अर्थव्यवस्था में सुधार फिर डांवाडोल हो गया है. कोरोना की दूसरी लहर की वजह से आरंभिक सार्वजनिक निर्गम (IPO, आईपीओ) मार्केट सुस्त हो गया है. सोमवार को एनएसई (NSE) पर लोढ़ा डेवलपर्स यानी माइक्रोटेक डेवलपर्स (Macrotech Developers) का शेयर 10 फीसदी डिस्काउंट के साथ 436 के भाव पर लिस्ट हुआ है. वहीं, बीएसई (BSE) पर इसका लिस्टिंग 439 रुपए पर हुई है. MacroTech Developers ने इस IPO के लिए इश्यू प्राइस बैंड 486 रुप, तय किया था.

माइक्रोटेक डेवलपर्स के आईपीओ को निवेशकों से ठंडा रिस्पॉन्स मिला था. रियल एस्टेट कंपनी का यह IPO पूरी तरह सब्सक्राइब होने में तो कामयाब रहा, लेकिन बिडिंग के अंतिम दिन तक ये IPO केवल 1.36 गुना यानी 136 फीसदी ही सब्सक्राइब हुआ था. जबकि इस साल अब तक सभी IPOs को निवेशकों से अच्छा रिस्पॉन्स मिला है. लोढ़ा डेवलपर्स का आईपीओ वर्ष 2021 में अब तक सबसे कम सब्सक्राइब होने वाला पब्लिक इश्यू रहा.

यह भी पढ़ें : भारत की कंपनियां इस फार्मूले पर देती हैं जॉब, अच्छी नौकरी पाने के लिए जानें यह तरीका


9 अप्रैल को बंद हुआ था आईपीओ

कंपनी का IPO 7 अप्रैल को खुला था और 9 अप्रैल को बंद हुआ था. कंपनी ने इस IPO के लिए 3.64 करोड़ शेयर जारी किए थे, जबकि इसे 4,94,64,480 इक्विटी शेयर के लिए आवेदन मिले . लोढ़ा डेवलपर्स के IPO को रिटेल इनवेस्टर्स ने केवल 40 फीसदी सब्सक्राइब किया. कंपनी ने रिटेल इंवेस्टर्स के लिए 1,78,98,551 शेयर रिजर्व किया था, जबकि कंपनी को केवल 71,82,510 शेयर के लिए बोलियां मिलीं. इस IPO से कंपनी ने 2,500 करोड़ रुपए जुटाए हैं.

यह भी पढ़ें : नौकरी की बात :  इंटरव्यू में नई स्किल के बेहतर प्रदर्शन से मिलेगी जॉब की गारंटी, जानिए ऐसे ही अहम मंत्र





कर्मचारियों ने भी नहीं दिखाई थी रुचि

कंपनी के कर्मचारियों के लिए आरक्षित हिस्सा केवल 17 फीसदी सब्सक्राइब हुआ है. कंपनी के इश्यू को नॉन-इंस्टीट्यूशनल इंवेस्टर्स ने 1.44 गुना सब्सक्राइब किया. वहीं, सबसे अधिक बोली क्वालिफाइड इंस्टीटेयूशनल इंवेस्टर्स ने लगाई. इस IPO का QIB पोर्शन 3.05 गुना सब्सक्राइब हुआ. इश्यू जारी करने से पहले कंपनी एंकर इनवेस्टर्स से 741 करोड़ रुपए जुटा चुकी थी.

ट्रंप टॉवर्स और ग्रोसेवनर स्कॉयर के जाना जाता है लोढ़ा ग्रुप

लोढ़ा ग्रुप को मुंबई में ट्रंप टॉवर्स (Trump Towers) और लंदन में ग्रोसेवनर स्कॉयर (Grosvenor Square) जैसे लग्जरी प्रोजेक्टस के लिए जाना जाता है. 2020 तक कंपनी ने 7.72 करोड़ वर्गफुट में 91 प्रोजेक्ट्स पूरे कर लिए हैं. 36 प्रोजेक्ट पर काम चल रहा है जबकि 18 प्रोजेक्ट्स अभी प्लान में हैं.

यह भी पढ़ें :  कोरोना वैक्सीन बनाने वाली सीरम ने इस बड़ी कंपनी में किया निवेश, जानें सब कुछ 

कंपनी का टोटल रेवेन्यू 3,160.49 करोड़ रुपए, 264.30 करोड़ का नुकसान

दिसंबर, 2020 तक कंपनी पर 18,662.19 करोड़ रुपए का कुल कर्ज था. दिसंबर तिमाही में कंपनी का टोटल रेवेन्यू 3,160.49 करोड़ रुपए था, जबकि कंपनी को 264.30 करोड़ रुपए का नेट लॉस हुआ था. कंपनी की योजना आने वाली तिमाहियों में नेट डेट घटाकर 12,700 रुपए करने की है. अभिषेक मंगल प्रभात लोढ़ा, राजेंद्र नरपतमल लोढ़ा, संभवनाथ इंफ्राबिल्ड और संभवनाथ ट्रस्ट इस कंपनी के प्रमोटर्स हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज