होम /न्यूज /व्यवसाय /सरकार के इस कदम से गरीबों के घर भी मनेगी दिवाली, सिर्फ 100 रुपये में मिलेगा ग्रॉसरी पैकेज

सरकार के इस कदम से गरीबों के घर भी मनेगी दिवाली, सिर्फ 100 रुपये में मिलेगा ग्रॉसरी पैकेज

सौ रुपये के पैकेट में एक किलो रवा, मूंगफली, खाद्य तेल और पीली दाल होगी.

सौ रुपये के पैकेट में एक किलो रवा, मूंगफली, खाद्य तेल और पीली दाल होगी.

महाराष्ट्र ने राज्य के राशनकार्ड धारकों को दिवाली का तोहफा दिया है. सरकार ने मंगलवार को कहा जिन लोगों के पास राशन कार्ड ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

100 रुपये के राशन में सूजी, मूंगफली, खाद्य तेल और पीली दाल होगी.
सरकार के अनुसार, राज्य में 7 करोड़ लोगों के पास राशन कार्ड है.
महाराष्ट्र में हाल ही में ट्रांसजेडर्स के लिए राशन कार्ड बनवाने की प्रक्रिया सरल की गई थी.

नई दिल्ली. महाराष्ट्र मंत्रिमंडल ने मंगलवार को राज्य में राशन कार्डधारकों को आगामी दिवाली त्योहार के लिए 100 रुपये में किराने का सामान देने का फैसला किया. इस सौ रुपये के पैकेट में एक किलो रवा (सूजी), मूंगफली, खाद्य तेल और पीली दाल होगी. यह प्रस्ताव खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता संरक्षण विभाग द्वारा लाया गया था.मंत्रिमंडल के बयान में कहा गया है, ”राज्य में ऐसे 1.70 करोड़ परिवार या सात करोड़ लोग हैं, जिनके पास राशन कार्ड की सुविधा है. वे राज्य द्वारा संचालित राशन की दुकानों से खाद्यान्न खरीदने के पात्र हैं.’’

इसमें कहा गया है कि भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) के उपभोक्ता मूल्य सूचकांक के अनुसार, देश की खुदरा मुद्रास्फीति दर सात प्रतिशत है. इसे देखते हुए राज्य सरकार इस फैसले से आर्थिक रूप से कमजोर वर्गों को किराने के सामान के पैकेज का उपयोग करके दिवाली के लिए नाश्ता और मिठाई तैयार करने में मदद मिलेगी. बता दें कि राज्य में बीएमसी समेत कई नागरिक निकायों के चुनाव होने हैं.

ये भी पढ़ें- महिला एंटरप्रेन्योर्स को इंडस्‍ट्री से जोड़ेगा स्‍टार्टअप प्‍लेटफॉर्म herSTART, राष्‍ट्रपति ने किया लॉन्‍च

महाराष्ट्र में ट्रांसजेडर्स के लिए राशन कार्ड बनवाना हुआ आसान
राज्य ने ट्रांसजेडर्स के पक्ष में फैसला लेते हुए उनके लिए राशन कार्ड बनवाने की प्रकिया को और आसान कर दिया है. सरकार ने एक आदेश जारी कर कहा है कि थर्ड जेंडर समुदाय के जिन भी लोगों के नाम राज्य एड्स नियंत्रण समिति में पंजीकृत हैं, वह राशन कार्ड के लिए आवेदन कर सकते हैं. उन्हें आवासीय प्रमाण या पहचान प्रमाण देने की आवश्यकता नहीं है. साथ ही अगर उनके पास मतदाता पहचान पत्र है और उसमें उनकी पहचान थर्ड जेंडर के रूप में है तो वे उसे भी पहचान पत्र बनाकर राशन कार्ड के लिए आवेदन कर सकते हैं.

क्यों उठाया सरकार ने ये कदम
दरअसल, कोविड-19 महामारी के चरम पर जब काम ठप हो गया था तो ट्रांसजेंडर समाज के लोगों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ा था. वहीं, उनके पास राशन कार्ड नहीं होने के कारण वे सरकार की गरीब कल्याण योजना का लाभ नहीं ले पा रहे थे जिसके तहत गरीबी रेखा से नीचे रह रहे लोगों को मुफ्त अनाज बांटा जा रहा था. उस समय यह बात सामने आई थी कि महाराष्ट्र में करीब 50 फीसदी ट्रांसजेंडर्स के पास राशन कार्ड नहीं है.

Tags: Business news in hindi, Free Ration, Maharashtra, Ration card, Ration Cardholders

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें