अपना शहर चुनें

States

M&M ने नॉर्थ अमेरिकी प्लांट के आधे से ज्यादा कर्मचारियों को हटाया, जानें क्‍यों लेना पड़ा ये फैसला

महिंद्रा एंड महिंद्रा ने 2020 में भी नॉर्थ अमेरिका के प्‍लांट से दो तिहाई कर्मचारियों को नौकरी से निकाला था.
महिंद्रा एंड महिंद्रा ने 2020 में भी नॉर्थ अमेरिका के प्‍लांट से दो तिहाई कर्मचारियों को नौकरी से निकाला था.

भारतीय ऑटो कंपनी महिंद्रा एंड महिंद्रा (M&M) ने अपने अमेरिकी बिजनेस की समीक्षा के बाद कर्मचारियों की संख्या में कटौती (Layoffs) की है. इससे पहले कंपनी ने 2020 में भी रीस्‍ट्रक्‍चरिंग (Restructuring) के दौरान सैकड़ों कर्मचारियों को नौकरी से हटाया था.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 13, 2021, 9:02 PM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. भारत की ऑटो मैन्‍युफैक्‍चरर महिंद्रा एंड महिंद्रा लिमिटेड (M&M) ने अपनी नॉर्थ अमेरिकी यूनिट (North America) में आधे से ज्यादा कर्मचारियों को नौकरी से हटा (Layoffs) दिया है. कंपनी ने कोरोना वायरस महामारी (Coronavirus Pandemic) और इंटलेक्चुअल प्रॉपर्टी एक्‍ट (Intellectual Property Act) के उल्लंघन के मामले में चल रही लंबी कानूनी लड़ाई के कारण ये फैसला लिया है. हालांकि, अभी ये नहीं बताया गया कि कुल कितने कर्मचारियों को यूनिट से हटाया गया है. बता दें कि कंपनी की आधिकारी वेबसाइट के मुताबिक, 2020 की शुरुआत में कंपनी की इस यूनिट में 500 से ज्यादा कर्मचारी थे.

सिर्फ मुनाफा कमाने वाले कर्मचारियों को ही रखा साथ
महिंद्रा एंड महिंद्रा ने 2020 में रीस्ट्रक्चरिंग (Restructuring) के दौरान सैकड़ों कर्मचारियों को नौकरी से हटाया था. यह कटौती महिंद्रा ऑटोमोटिव नॉर्थ अमेरिका (MANA) के कुल स्टाफ की दो तिहाई थी. कंपनी ने इंजीनियर, मैन्युफैक्‍चरिंग और सेल्स एग्जीक्यूटिव पदों पर कटौती की. एमएंडएम की नॉर्थ अमेरिका की इस यूनिट में ऑफ-रोड व्हीकल रॉक्सर का निर्माण किया जाता है. कंपनी ने अपने बिजनेस की समीक्षा के बाद ये कटौती की है. सूत्रों के मुताबिक, कंपनी ने अपने साथ केवल उन कर्मचारियों को बनाए रखने का फैसला किया है, जो मुनाफा कमा (Profit Makers) कर दे सकते हैं.

ये भी पढ़ें- आयकर विभाग ने शुरू की फेसलेस पेनाल्‍टी स्‍कीम, जानें इसके नेशनल-रीजनल सेंटर की क्‍या होंगी जिम्‍मदारियां
एमएंडएम पर अमेरिका में रॉक्‍सर बेचने पर लगी है रोक


महिंद्रा ऑटोमोटिव नॉर्थ अमेरिका ने कहा है कि उन्होंने महामारी और एक अंतरराष्‍ट्रीय व्यापार आयोग के मुकदमे के कारण कुछ कर्मचारियों को निकाल दिया है. हालांकि, कंपनी ने निकाले गए लोगों की कुल संख्या नहीं बताई है. बता दें कि महिंद्रा और फिएट क्रिसलर ऑटोमोबाइल्स (FCA) के बीच इंटलेक्चुअल प्रॉपर्टी एक्‍ट के उल्लंघन के मामले में एक लंबी कानूनी लड़ाई चल रही है. इस वजह से भारतीय ऑटो मैन्‍युफैक्‍चरर कंपनी को अमेरिका में अपने रॉक्सर वाहन को बेचने से रोक दिया गया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज