अब जल्‍द मिलेगी कोरोना टेस्‍ट रिपोर्ट! प्रमुख 3 कंपनियां जांच सुविधाओं का कर रही हैं विस्तार

कोरोना जांच करने वाली प्रमुख कंपनियों ने क्षमता विस्‍तार का फैसला लिया है.

कोरोना जांच करने वाली प्रमुख कंपनियों ने क्षमता विस्‍तार का फैसला लिया है.

कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों के बीच कोविड-19 टेस्‍ट (Corona Test) करने वाली प्रमुख तीन कंपनियों ने अपने कार्यबल और लैब्‍स की संख्‍या में इजाफा करने का फैसला लिया है. इससे ज्‍यादा से ज्‍यादा लोगों की जांच की जा सकेगी. साथ ही कोरोना टेस्‍ट रिपोर्ट मिलने भी कम समय लगेगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 25, 2021, 9:15 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. देश में कोराना संक्रमण के तेजी से बढ़ते मामलों (Coronavirus Cases in India) के बीच कोविड-19 जांच करने वाली प्रमुख कंपनी एसआरएल डायग्‍नोस्टिक्‍स (SRL Diagnostics), डॉ. लाल पैथलैब्स (Dr. Lal Pathlabs) और थायरोकेयर टैक्नोलॉजीज अपनी जांच सुविधाओं व कार्यबल का विस्तार कर रही हैं. उम्‍मीद है कि इससे कोराना जांच (Corona Test) की बढ़ी मांग को पूरा किया जा सकेगा और रिपोर्ट भी जल्‍द उपलब्ध कराई जा सकेगी. गुरुग्राम स्थित एसआरएल डायग्‍नोस्टिक्‍स के सीईओ के. आनंद ने कहा कि कंपनी अधिक से अधिक कार्यबल को नेटवर्क में शामिल कर रही है. कार्यबल के साथ ही मशीनों और प्रौद्योगिकी को भी बढ़ाया जा रहा है ताकि रिपोर्ट आने में लगने वाला समय कम किया जा सके.

इन शहरों में लैब्‍स शुरू करेगी एसआरएल डायग्‍नोस्टिक्‍स

आनंद ने कहा कि हमारे पास पहले से ही 15 आरटी-पीसीआर लैब हैं. जल्द ही हम पांच ऐसी नई लैब शुरू करने जा रहे हैं. ये लैब्‍स कालिकट, जयपुर, सूरत, लखनऊ और हिमाचल प्रदेश में शुरू की जाएंगी. इसके साथ ही नमूने जुटाने के काम में भी तेजी लाई जाएगी. डॉ. लाल पैथ लैब ने कहा कि कोविड-19 के बढ़ते संक्रमण के बीच आरटी-पीसीआर जांच की मांग तेजी से बढ़ी है. इससे हमारी परीक्षण गतिविधियां भी बढ़ी हैं. देश में 13 जगह पर हमारी आरटी-पीसीआर लैब काम कर रही है. साथ ही हम पांच और स्थानों पर लैब्‍स लगाने की प्रक्रिया में हैं. हमारा अनुमान है कि नये स्थानों पर ये लैब्‍स तीन से चार सप्ताह में काम करना शुरू कर देंगी.

ये भी पढ़ें- कोरोना संकट के बीच सोशल मीडिया पर सरकार की सख्‍ती! Twitter ने 'भ्रामक जानकारी' देने वाले 50 ट्वीट हटाए
'सैंपल इकट्ठे करने वाले कर्मचारी लौट रहे हैं अपने-अपने गांव'

डॉ. लाल पैथ लैब ने कहा कि कंपनी अपनी मौजूदा सुविधाओं का भी विस्तार कर रही है. नवी मुंबई की थायरोकेयर टैक्नोलॉजीज के चेयरमैन व प्रबंध निदेशक ए. वेलुमणी ने कहा कि कोविड-19 संक्रमण मामलों के बढ़ने के साथ ही नमूना संग्रह करने वाले कुछ कर्मचारियों ने गांव लौटना शुरू किया है. इससे नमूनों को जुटाने के काम पर असर पड़ा है. नमूनों को जुटाने वाले प्रवासी कर्मचारियों में 50 फीसदी अपने गांवों जा चुके हैं. दिल्ली और मुंबई दोनों जगह पर यह स्थिति है. इसलिए लोगों के घर से कोरोना जांच के नमूने जुटाने का काम रुक सा गया है.

ये भी पढ़ें- कोरोना संकट के बीच HDFC बैंक ग्राहकों के लिए बड़ी राहत! आपके दरवाजे तक पहुंचेगी ATM वैन



'ज्‍यादा भुगतान के बाद भी नए कर्मचारी मिलने को तैयार नहीं'

थायरोकेयर टैक्नोलॉजीज जल्‍द अपना काम बढ़ाने पर ध्यान दे रही है. वेलूमणि ने कहा कि हमने मार्च 2021 में पांच हजार जांच बढ़ाईं. इसके बाद अप्रैल में भी 5,000 अधिक जांच कीं और इसी दर पर अगले छह माह में जांच को बढ़ाते जाएंगे. पिछले एक माह के दौरान देश में कोरोना वायरस संक्रमण तूफानी गति से बढ़ा है. ऐसे में इस काम में जोखिम ज्‍यादा होने को देखते हुये नए कर्मी भी काम करने को तैयार नहीं है. हालांकि हम उन्हें अधिक मेहनताना देने को भी तैयार हैं. जल्‍द ही इस स्थिति पर काबू पा लिया जाएगा और नए लोगों को इस काम के लिए रखा जाएगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज