Home /News /business /

कश्मीर पर मलेशिया ने दिया था पाक का साथ, भारत के तेवर दिखाते ही दोस्ती बढ़ाने के लिए करेगा ये काम

कश्मीर पर मलेशिया ने दिया था पाक का साथ, भारत के तेवर दिखाते ही दोस्ती बढ़ाने के लिए करेगा ये काम

महातिर मोहम्मद के प्रधानमंत्री बनने के बाद मलेशिया और पाकिस्तान एक दूसरे के करीब आए हैं. फाइल फोटो: PM Modi/twitter

महातिर मोहम्मद के प्रधानमंत्री बनने के बाद मलेशिया और पाकिस्तान एक दूसरे के करीब आए हैं. फाइल फोटो: PM Modi/twitter

मलेशिया (Malaysia) द्वारा पाकिस्तान का साथ दिए जाने के बाद से भारत द्वारा आयात किए जाने वाले पाम आयल (Palm oil) की मांग में खासी गिरावट देखी गई. देश के व्यापारियों ने साफ कहा है कि उनके लिए व्यापार से पहले देश है. भारत सबसे ज्यादा पाम ऑयल मलेशिया से मंगाता है. मलेशिया के बाद भारत में सबसे ज्यादा पाम ऑयल इंडोनेशिया करता है.

अधिक पढ़ें ...
    कुआलालंपुर: कश्मीर (Jammu and Kashmir) के मुद्दे पर पाकिस्तान (Pakistan) का राग अलापने वाला मलेशिया अब भारत से नजदीकी बढ़ाना चाहता है. मलेशिया (Malaysia) भारत से और ज्यादा मात्रा में शक्कर और मीट का आयात करना चाहता है. दरअसल कश्मीर पर मलेशिया ने पाकिस्तान का साथ दिया था, इसके बाद भारत की ओर से मंगाए जाने वाले पाम ऑयल (Palm oil) की मांग में खासी गिरावट देखी गई. देश के व्यापारियों ने साफ कहा है कि उनके लिए व्यापार से पहले देश है. भारत सबसे ज्यादा पाम ऑयल मलेशिया से मंगाता है. मलेशिया के बाद भारत में सबसे ज्यादा पाम ऑयल इंडोनेशिया करता है.

    भारत के तल्ख तेवर और पाम ऑयल के घटते निर्यात को देखते ही मलेशिया ने भारत से अपनी दोस्ती बढ़ाने के लिए भारत से निर्यात को बढ़ावा देने का फैसला किया है. मलेशिया अब कच्ची चीनी और भैंस का मांस और ज्यादा निर्यात करने की सोच रहा है. मलेशिया ने ये फैसला घटते पाम आयल की खबरों के बीच उठाने का फैसला किया है. मलेशिया दुनिया में इंडोनेशिया के बाद दूसरा सबसे बड़ा पाम ऑयल उत्पादक देश है.

    भारत दुनिया में चीनी के अलावा भैंस के मांस का सबसे बड़ा निर्यातक देश है. मलेशिया की जीडीपी में खाद्य तेलों के व्यापार का योगदान 2.8 प्रतिशत है. दक्षिण पूर्व एशिया में पाम ऑयल उद्योग सबसे बड़ा है. इससे 3.2 करोड़ लोगों को रोजगार मिला हुआ है.

    सितंबर में तेल का आयात 13 प्रतिशत घटा: एसईए
    उद्योगमंडल सॉल्वेंट एक्सट्रैक्टर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया (एसईए) ने बताया कि मलेशिया से होने वाले आयात पर रोक लगाये जाने के अनुमानों के बीच कई व्यापारी पाम तेल के आयात के लिए इंडोनेशिया का रुख कर रहे हैं. मलेशिया ने जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 को रद्द करने के भारत के फैसले पर संयुक्त राष्ट्र में सख्त शब्दों का इस्तेमाल किया था.

    एसोसिएशन ने कहा, ‘सरकार ने चार सितंबर से प्रभावी होने वाले मलेशियाई मूल के आरबीडी पामोलिन/पाम ऑयल पर 5 प्रतिशत का सुरक्षा शुल्क लगाया है. इसे देखते हुए, किसी भी स्थान से आने वाले कच्चे और परिष्कृत पाम तेल के बीच का शुल्क का अंतर 10 प्रतिशत तक बढ़ गया है.” इसमें कहा गया है हालांकि, आरबीडी पामोलिन का आयात सितंबर में लगभग पूर्व के स्तर पर ही रहा पर मलेशिया से आयात की मात्रा पिछले महीने के आयात से एक तिहाई कम हो गई है.

    भारत के खिलाफ उगला था जहर
    संयुक्त राष्ट्र में मलेशिया ने आरोप लगाया कि भारत ने जम्मू-कश्मीर पर हमला कर उस पर कब्जा कर लिया है। उसके इस बयान पर भारत की ओर से कुछ प्रतिक्रियात्मक कार्रवाई सामने आने की आशंका के कारण कई आयातक/प्रसंस्करण करने वाली कंपनियां नवंबर-दिसंबर खरीद खेप के लिए मलेशिया के स्थान पर इंडोनेशिया का रुख कर रही हैं.’ सितंबर के दौरान वनस्पति तेलों (खाद्य और अखाद्य तेल दोनों) का आयात 13 प्रतिशत घटकर 13,03,976 टन रहा. एक साल पहले इसी माह यह 14,91,174 टन था.

    Tags: India economy, Malaysia, Pakistan

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर