लाइव टीवी

मनमोहन सिंह ने बताई आर्थिक स्थिति बिगड़ने की वजह, सरकार को उबरने के उपाय बताए

News18Hindi
Updated: November 18, 2019, 11:53 AM IST
मनमोहन सिंह ने बताई आर्थिक स्थिति बिगड़ने की वजह, सरकार को उबरने के उपाय बताए
भारतीय की अर्थव्यवस्था की हालत बेहद चिंताजनक: सिंह

भारत के पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह (Manmohan Singh) ने इकॉनमी ग्रोथ (Economy Growth) पर चिंता व्यक्त करते हुए 'द हिंदू' में भारतीय अर्थव्यवस्था (Indian Economy) में बेचैनी पर केंद्रित एक लेख लिखा है. जानिए इस लेख से जुड़ी जरूरी बातें...

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 18, 2019, 11:53 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह (Manmohan Singh) ने इकॉनमी ग्रोथ (Economy Growth) पर चिंता व्यक्त करते हुए 'द हिंदू' में भारतीय अर्थव्यवस्था (Indian Economy) में बेचैनी पर केंद्रित एक लेख लिखा है. अपने इस लेख में सिंह ने भारत की अर्थव्यवस्था को चिंताजनक बताते हुए इसके कारण और उपाय पर चर्चा की है. मनमोहन सिंह ने कहा कि सरकार और संस्थाओं में नागरिकों के भरोसे की कमी की वजह से अर्थव्यवस्था में सुस्ती आई है. प्रसिद्ध अर्थशास्त्री ने साथ ही लिखा कि भारत की अर्थव्यवस्था की हालत बेहद चिंताजनक है.

मनमोहन सिंह ने लिखा, 'अब कुछ बातें स्पष्ट हो चुकी हैं- जीडीपी वृद्धि दर 15 साल में सबसे निचले स्तर पर है, घरेलू उपभोग पिछले चार दशक में सबसे नीचे पहुंच गया है और बेरोज़गारी 45 साल के सबसे ऊंचे स्तर पर है. बैंकों के कर्ज़ डूबने के मामले सबसे ऊंचे स्तर पर हैं और बिजली उत्पादन 15 साल के सबसे निचले स्तर पर गिर गया है.'

ये भी पढ़ें: 18 नवंबर से चलेगी रामायण एक्सप्रेस, इन स्टेशनों से होकर गुजरेगी ट्रेन

नए उद्योगपति डरे हुए हैं

मनमोहन सिंह ने लिखा है कि उनकी कई उद्योगपतियों से मुलाक़ात हुई. इन मुलाक़ातों में उद्योगपती बताते हैं कि वो सरकारी अधिकारियों के हाथ परेशान किए जाने के डर में जी रहे हैं. बैंक नए कर्ज़ नहीं देना चाहते, क्योंकि उन्हे कर्ज़ डूबने का ख़तरा लगता है. लोग नए उद्योग लगाने से डर रहे हैं कि कुछ लोगों की ख़राब नियत के चलते वो डूब सकते हैं.

मनमोहन सिंह ने साथ ही कहा, 'लोग खुद को असहाय महसूस कर रहे हैं. लोगों को लगता है कि उनको सुनने वाला कोई नहीं है. इस अविश्वास और डर के लिए मोदी सरकार पूरी तरह से ज़िम्मेदार है.'


 ये भी पढ़ें: सैलरी पर नहीं लगेगा GST, इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने रिपोर्ट को गलत बतायासरकार अर्थव्यवस्था को बढ़ाने वाले लोगों को शक की नज़र से देखती है
पूर्व प्रधानमंत्री ने कहा कि मोदी सरकार अर्थव्यवस्था को बढ़ाने वाले लोगों को शक की नज़र से देखती है. उन्होंने कहा कि नरेंद्र मोदी सरकार का पॉलिसी फ्रेमवर्क कुछ इस तरह का है कि सभी उद्योगपति, बैंक अधिकारी, रेगुलेटर और नागरिक फ्रॉड हैं, धोखेबाज़ हैं.

मांग बढ़ाने के लिए नीतियां बनानी जरूरी
विश्व के प्रसिद्ध अर्थशास्त्रियों में शुमार सिंह ने कहा है कि रिटेल इंफलेशन के जो आंकडे सामने आए हैं उनसे इसी तरफ़ इशारा मिलता है. मनमोहन सिंह ने कहा है सरकार को तुरंत ऐसी नीतियां बनानी चाहिएं जिससे मांग बढ़े.

चीन की इकॉनमी का फायदा उठाकर बढ़ाता अपना व्यापार
मनमोहन सिंह ने सरकार को आगाह किया है कि भारत आज दुनिया की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्थाओं में से एक है और आप इससे मनमुताबिक खेल नहीं सकते. उन्होंने कहा कि यह वो समय है जब भारत के पास अंतरराष्ट्रीय बाज़ार में बड़े अवसर मौजूद हैं. उन्होंने कहा है कि चीन की अर्थव्यवस्था में फ़िलहाल मंदी चल रही है और भारत के पास मौक़ा था कि वो अपना कारोबार दुनिया भर में बढ़ाता.

ये भी पढ़ें: बिना डॉक्यूमेंट के कराएं अपने आधार कार्ड में बदलाव! यहां जाने इससे जुड़ी बातें

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 18, 2019, 10:55 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर