अगले 3 महीने में नई नौकरियों के चांस कम, 19% कंपनियां ही करेंगी नए लोगों की भर्ती

भाषा
Updated: September 10, 2019, 5:36 PM IST
अगले 3 महीने में नई नौकरियों के चांस कम, 19% कंपनियां ही करेंगी नए लोगों की भर्ती
अगले 3 महीने में नई नौकरियों के चांस कम

आर्थिक सुस्ती (Economic Slowdown) के बीच भारत (India) में आने वाली तीसरी तिमाही (अक्टूबर-दिसंबर) के दौरान 19 फीसदी कंपनियां ही नए लोगों को नौकरी देने की योजना बना रहे हैं.

  • भाषा
  • Last Updated: September 10, 2019, 5:36 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. देश-दुनिया में आर्थिक सुस्ती (Economic Slowdown) के बीच भारत (India) में आने वाली तीसरी तिमाही (अक्टूबर-दिसंबर) के दौरान 19 फीसदी कंपनियां ही नए लोगों को नौकरी देने की योजना बना रही हैं. 52 फीसदी को अपने वर्क फोर्स में किसी तरह के बदलाव की उम्मीद नहीं है. एक वैश्विक अध्ययन में यह रुझान सामने आया है. वैश्विक संस्था 'मैनपावर ग्रुप एम्पलॉयमेंट आउटलुक' (ManpowerGroup Employment Outlook Survey) का यह सर्वे मंगलवार को जारी किया गया. इस सर्वे में देशभर में 5,131 नियोक्ताओं (Employers) से अक्टूबर-दिसंबर की तीसरी तिमाही के दौरान आर्थिक परिवेश और नई नौकरियों की संभावना को लेकर बातचीत की गई.

19% कंपनियां ही बढ़ाएगी वर्क फोर्स
केवल 19 प्रतिशत ने ही कहा कि उन्हें अपने वर्क फोर्स में बढ़ोतरी की उम्मीद है, जबकि 52 प्रतिशत ने कहा कि उनके कर्मचारियों की संख्या में किसी तरह का बदलाव होने की उम्मीद नहीं है. इसके अलावा 28 प्रतिशत ऐसे नियोक्ता भी थे, जिन्होंने कहा कि मौजूदा कर्मचारियों की संख्या में वृद्धि के बारे में वह कुछ नहीं कह सकते हैं. ये भी पढ़ें: बिक गई बैटरी बनाने वाली 114 साल पुरानी कंपनी एवरेडी, जानें कितने में हुआ सौदा?



नई नौकरियों के मामले में भारत चौथे नंबर पर: सर्वे
नई नौकरियों की योजना के बारे में अपेक्षाकृत हल्के आंकड़ों के बावजूद अगले तीन महीनों के दौरान नई नौकरियों के सृजन को लेकर भारत के दुनिया में चौथे नंबर पर रहने का अनुमान है. अगली तिमाही में नई नौकरियों की योजना के मामले में जापान पहले, ताइवान दूसरे और अमेरिका के तीसरे नंबर पर रहने की उम्मीद है, जबकि भारत का स्थान चौथा स्थान पर रह सकता है. जापान में 26 प्रतिशत नियोक्ताओं ने अक्टूबर- दिसंबर तिमाही में नए लोगों को नौकरी देने की अपनी योजना के बारे में बताया. इसके बाद ताइवान में 21 प्रतिशत, अमेरिका में 20 प्रतिशत ने कहा कि उनकी अगली तिमाही के दौरान नए लोगों को नौकरी पर रखने की योजना है.

इन देशों में संकट में नई नौकरियां
Loading...

मैनपावर समूह के चेयरमैन एवं सीईओ जोनास प्राइसिंग ने कहा, ‘दुनियाभर के देशों में नई नौकरियों को लेकर योजना में अलग-अलग रुझान दिखाई दिए हैं. कई बड़ी अर्थव्यवस्थाओं में स्थिति अच्छी रही है, जबकि ब्रेक्जिट और शुल्कों को लेकर चल रही खींचतान से अन्य देशों में नई नौकरियों को लेकर मंशा कुछ कमजोर दिखाई देती है.’

ये भी पढ़ें: जम्मू-कश्मीर के लाखों किसानों के लिए मोदी सरकार ने शुरू की नई योजना, अब सीधे खाते में आएगा पैसा

44 देशों के 59 हजार नियोक्ताओं से बात कर किया गया सर्वे
मैनपावर ने दुनियाभर में 44 देशों में 59,000 नियोक्ताओं के साथ बातचीत की है. अध्ययन में यह बात सामने आई है कि आने वाले तीन महीनों के दौरान 43-44 देशों में नियोक्ताओं को अपने कर्मचारियों की संख्या बढ़ने की उम्मीद है. इससे पिछली तिमाही की यदि बात की जाए तो तब 44 देशों और प्रदेशों में से 15 देशों के नियोक्ताओं ने नई नौकरियों के बारे में मजबूत योजना का खुलासा किया था. जबकि 23 देशों के नियोक्ताओं ने कमजोर रोजगार सृजन की बात कही थी. चीन के उद्योग मालिकों ने आने वाली तिमाही में नये रोजगार को लेकर सतर्क रुख अपनाने की बात कही. चीन के केवल चार प्रतिशत नियोक्ताओं ने ही रोजगार बढ़ने की बात कही है. पिछले दो साल में यह चीन के मामले में सबसे कमजोर परिदृश्य रहा है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 10, 2019, 5:06 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...