बाजार में गिरावट थमी, सेंसेक्स 353 अंकों की उछाल के साथ बंद

मुद्रास्फीति के नरम होने से भी बाजार की धारणा पर सकारात्मक प्रभाव पड़ा, जिसके चलते सेंसेक्स 353.37 अंक बढ़त के साथ 37,311.53 अंक पर बंद हुआ.

News18Hindi
Updated: August 14, 2019, 5:31 PM IST
बाजार में गिरावट थमी, सेंसेक्स 353 अंकों की उछाल के साथ बंद
बाजार में गिरावट थमी, सेंसेक्स 353 अंकों की उछाल के बंद
News18Hindi
Updated: August 14, 2019, 5:31 PM IST
आईसीआईसीआई बैंक (ICICI Bank), रिलांयस इंडस्ट्रीज (RIL), एचडीएफसी (HDFC) और इन्फोसिस (Infosys) जैसी बड़ी कंपनियों के शेयरों में तेजी के दम पर बुधवार को सेंसेक्स और निफ्टी बढ़त के साथ बंद हुए. एशिया के अन्य बाजारों में सकारात्मक रुख का भी घरेलू बाजार पर असर पड़ा. कारोबारियों के अनुसार मुद्रास्फीति के नरम होने से भी बाजार की धारणा पर सकारात्मक प्रभाव पड़ा, जिसके चलते सेंसेक्स 353.37 अंक बढ़त के साथ 37,311.53 अंक पर बंद हुआ. वहीं निफ्टी 103.55 अंक की बढ़त के साथ 11,029.40 अंक पर बंद हुआ.

इन शेयरों में रही तेजी
सेंसेक्स के शेयरों में सर्वाधिक लाभ में रहने वालों में वेदांता, टाटा स्टील, येस बैंक, टेक महिंद्रा, हीरो मोटो कार्प, भारती एयरटेल, भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई), बजाज फाइनेंस और इंडसइंड बैंक शामिल हैं. इनमें 4.83 प्रतिशत तक की तेजी आयी.

हालांकि सन फार्मा, ओएनजीसी, कोटक बैंक, टाटा मोटर्स, एशियन पेंट्स, एचसीएल टेक तथा एनटीपीसी में 4.58 प्रतिशत तक की गिरावट आई.

ये भी पढ़ें: जल्द बढ़ेगी गाड़ियों की सेल, ये है मोदी सरकार का नया प्लान!

बाजार में तेजी की वजह
>> विशेषज्ञों के अनुसार एशिया के अन्य बाजारों में सकारात्मक रुख के अलावा खुदरा और थोक मुद्रास्फीति के नरम होने से निवेशकों की धारणा को बल मिला. महंगाई दर कम होने से रिजर्व बैंक के लिये अक्टूबर में नीतिगत दर में एक और कटौती की गुंजाइश बढ़ी है.
Loading...

>> सरकारी आंकड़े के अनुसार खुदरा मुद्रास्फीति जुलाई में मामूली घटकर 3.15 प्रतिशत पर जबकि थोक महंगाई दर दो साल से भी अधिक समय के न्यूनतम स्तर 1.08 प्रतिशत पर आ गयी.

>> एशिया के अन्य बाजारों में हांगकांग का हैंग सेंग, दक्षिण कोरिया का कोस्पी और चीन का शंघाई कंपोजिट सूचकांक में तेजी रही. अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के चीन से आयातित इलेक्ट्रानिक वस्तुओं पर शुल्क लगाने में देरी की घोषणा से दोनों देशों के बीच व्यापार युद्ध को लेकर निवेशकों की चिंता कम हुई है.
> वहीं दूसरी तरफ यूरोप के प्रमुख शेयर बाजारों में शुरुआती कारोबार में गिरावट का रुख रहा. जर्मनी की अर्थव्यवस्था में जून तिमाही में 0.1 प्रतिशत की गिरावट से मंदी की आशंका बढ़ी है. इससे यूरोपीय बाजारों पर असर पड़ा.

ये भी पढ़ें: अब असली-नकली दवाओं की पहचान होगी आसान, API पर QR कोड लगाना होगा अनिवार्य
First published: August 14, 2019, 5:31 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...