शादी-ब्याह के कारोबार से जुड़े लाखों लोगों को लग सकता है झटका

दिल्ली में शादी-ब्याह के कारोबार से जुड़े लाखों लोगों को लग सकता है झटका
दिल्ली में शादी-ब्याह के कारोबार से जुड़े लाखों लोगों को लग सकता है झटका

Marriage Gathering Rules in India 2020: शादी समारोह में मेहमानों की संख्या में छूट मिलने के बाद से शादी वाले घर के साथ ही कारोबारियों में भी खुशी छा गई थी. उन्हें उम्मीद जागी थी कि अब बहुत ज़्यादा नहीं तो थोड़ा बहुत कारोबार तो पटरी पर आ ही जाएगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 12, 2020, 6:05 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. मैरिज होम, होटल-रेस्टोरेंट, कैटरिंग और किराना कारोबारी हों या ड्राइ फ्रूट कारोबारी लगता है कि अभी किसी के अच्छे दिन नहीं चल रहे हैं. दिल्ली में शादी-ब्याह के सबसे बड़े सहलग देवोत्थान से पहले 10 कारोबारियों को बड़ा झटका लग सकता है. 12 दिन पहले दिल्ली सरकार (Delhi Government) ने शादी-ब्याह में आने वाले मेहमानों की संख्या में बड़ी छूट का फायदा दिया था. लेकिन अब दिल्ली में कोरोना (Corona) के बढ़ते केस को लेकर दिल्ली हाईकोर्ट (Delhi High court) ने सरकार को फटकार लगाते हुए कहा है, “जब दिल्ली में कोरोना के केस लगातार बढ़ रहे हैं तो आप पब्लिक प्लेस (Public Place) पर भीड़ की इजाज़त कैसे दे सकते हैं.” गौरतलब रहे आज कोरोना बेड को लेकर कोर्ट में सुनवाई भी है.

यह 10 कारोबारी सीधे तौर पर जुड़े हैं शादी-ब्याह के समारोह से

शादी समारोह में मेहमानों की संख्या में छूट मिलने के बाद से शादी वाले घर के साथ ही कारोबारियों में भी खुशी छा गई थी. उन्हें उम्मीद जागी थी कि अब बहुत ज़्यादा नहीं तो थोड़ा बहुत कारोबार तो पटरी पर आ ही जाएगा. ध्यान रहे कि दीवाली के बाद शादियों का एक बड़ा सहलग देवोत्थान शुरु हो जाता है. खासतौर से कपड़ा बाज़ार, फूल बाज़ार, इवेंट कंपनियां, आतिशबाजी वाले, मैरिज होम, होटल-रेस्टोरेंट, कैटरिंग, बैंडबाजा पार्टी, किराना और ड्राइ फ्रूट बाज़ार को दिल्ली सरकार के इस फैसले से बड़ी उम्मीद जागी थी.



यह भी पढ़ें- जनवरी से देश के 4 लाख गांवों में जाएंगी VHP से जुड़े साधुओं की टोलियां, राममंदिर के लिए जुटाएंगी चंदा
आतिशबाजी कारोबार पर पड़ी डबल मार

आतिशबाजी कारोबार पर तो डबल मार पड़ती दिख रही है. दिवाली और दूसरे खास मौकों के लिए तो आतिशबाजी को दिल्ली सरकार समेत नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल भी बैन कर चुका है. आतिशबाजी पर यह बैन दिल्ली ही नहीं यूपी, राजस्थान, ओडिशा समेत देश के कई शहरों में आतिशबाजी बैन की जा चुकी है.

शादी में लोगों को बुलाने से जुड़ी नई गाइडलाइंस-दिल्ली सरकार की ओर से आज जारी नई गाइडलाइंस के मुताबिक अगर किसी बंद जगह पर समारोह होता है तो उस बंद जगह की जो क्षमता है उसके 50 फीसदी लोग शामिल हो सकेंगे. लेकिन यह भीड़ 200 लोगों से ज़्यादा की नहीं होनी चाहिए. वहीं अगर समारोह खुले एरिया में हो रहा है तो मेहमानों के शामिल होने की कोई अधिकतम संख्या नहीं होगी.



शादी समारोह में मेहमानों की संख्या में छूट मिलने के बाद से लोगों में खुशी है. ध्यान रहे कि दीवाली के बाद शादियों का एक बड़ा सहलग देवोत्थान (Dev Uthavni Ekadasi) शुरू हो जाएगा. वैसे भी लोगों को शादी समारोह में शामिल होने का इंतज़ार था. कोरोना के बाद से लोगों का मिलना जुलना भी बंद हो गया है. लेकिन इससे ज़्यादा खुशी मैरिज होम, होटल-रेस्टोरेंट, कैटरिंग, किराना और ड्राइ फ्रूट बाज़ार, कपड़ा बाज़ार, फूल बाज़ार, इवेंट कंपनियां और आतिशबाजी वाले आदि कारोबारी सरकार के इस कदम को एक बड़ी राहत के रूप में देख रहे हैं.

इन नियमों का पालन करने पर दी थी छूट  
शादी समारोह में शामिल होने वाले हर एक मेहमान को मास्क पहनना होगा.
सभी मेहमानों के बीच तय दूरी का होना ज़रूरी होगा.
समारोह में आने वाले हर एक मेहमान की थर्मल स्कैनिंग करना ज़रूरी होगा.
शादी समारोह वाली जगह पर हैंड सैनिटाइजर की व्यवस्था करनी होगी.
गाइडलाइंस के मुताबिक यह सभी इंतज़ाम अनिवार्य रूप से करने होंगे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज