मई में गोल्ड बॉन्ड की रिकॉर्ड बिक्री, 54 हजार रुपये तक जा सकता है भाव, आपके पास भी कमाई का मौका

मई में गोल्ड बॉन्ड की रिकॉर्ड बिक्री, 54 हजार रुपये तक जा सकता है भाव, आपके पास भी कमाई का मौका
मई महीने में गोल्ड बॉन्ड का रिकॉर्ड सब्सक्रिप्शन

मई महीने में गोल्ड बॉन्ड (Gold Bond) का रिकॉर्ड सब्सक्रिप्शन हुआ. गोल्ड बॉन्ड में इन्वेस्टमेंट से न सिर्फ भाव बढ़ने का फायदा मिलता है, बल्कि सालाना 2.5 फीसदी का ​गारंटीड ब्याज भी मिलता है. 8 जून से गोल्ड बॉन्ड का अगला सब्सक्रिप्शन खुलेगा.

  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
नई दिल्ली. सरकार ने मई महीने में गोल्ड बॉन्ड्स के जरिये 25 लाख यूनिट बेचकर 1,168 करोड़ रुपये की कमाई की है. भारतीय रिज़र्व बैंक (Reserve Bank of India) द्वारा जारी आंकड़ों से पता चलता है कि सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड (Sovereign Gold Bond) के जरिए होने वाली यह अब तक की सबसे बड़ी कमाई है. इस गोल्ड बॉन्ड को 11 से 15 मई के बीच सब्स​क्रिप्शन के ​लिए खोला गया था, जिसमें एक यूनिट गोल्ड का भाव 4,590 रुपये था. गोल्ड बॉन्ड के एक यूनिट में एक ग्राम होता है.

अप्रैल में हुई थी 822 करोड़ रुपये की कमाई
अब तक सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड के 39 सब्सक्रिप्शन जारी किये जा चुके है. इसके मई के पहले गोल्ड बॉन्ड के ​जरिये सबसे अधिक कमाई अक्टूबर 2016 में हुई थी. अक्टूबर 2016 में कुल 1,082 करोड़ रुपये का सब्सक्रिप्शन हुआ था, जिसमें कुल 35.98 लाख यूनिट बेचे गए थे. अप्रैल 2020 में इन्वेस्टर्स ने 17.73 लाख यूनिट्स खरीदे जिसकी कुल कीमत 822 करोड़ रुपये थी.

गोल्ड इन्वेस्टमेंट में जबरदस्त तेजी



दरअसल, किसी भी वित्तीय संकट या ऐसे समय बाजार में जब उथल-पुथल सबसे ज्यादा दिखाई देती है, उस दौरान गोल्ड में निवेश (Investment in Gold) करना सबसे बेहतर विकल्प माना जाता है क्योंकि इसमें जोखिम कम और रिटर्न अच्छा होता है. पिछले एक साल में गोल्ड पर 40 फीसदी का रिटर्न (Return on Gold) मिला है. वर्ल्ड गोल्ड काउंसिल (World Gold Council) की एक रिपोर्ट के अनुसार 2020 के पहले तिमाही के दौरान गोल्ड में जबरदस्त इन्वेस्टमेंट डिमांड देखने को मिली है. इस रिपोर्ट में कहा गया, 'साल-दर-साल के आधार पर इस दौरान गोल्ड डिमांड 80 फीसदी बढ़करर 539.6 टन रहा.'



यह भी पढ़ें: कोलकाता की 118 साल पुरानी मसाला कंपनी को ₹2 हजार करोड़ में खरीदेगी ITC!

कोरोना वायरस महामारी के आर्थिक प्रभाव को लेकर अनिश्चितता बनी हुई है. अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष, ऑर्गेनाइजेशनन फॉर इकोनॉमिक को-ऑपरेशन एंड डेवलपमेंट, मूडीज और विश्व बैंक जैसी संस्थाओं ने वैश्विक ग्रोथ के अनुमान में भारी कमी किया है. यही कारण है कि गोल्ड में निवेश करने को सबसे सुरक्षित विकल्प माना जा रहा है.

54,000 तक जा सकता है सोने का भाव
गोल्ड के भाव की बात करें तो एक बार फिर यह 47,000 रुपये प्रति 10 ग्राम के उपर जा चुका है. निकट भविष्य में इसका आउटलुक भी पॉजिटिव है. कुछ जानकार इस बात की उम्मीद कर रहे हैं कि अगले 12 महीने में गोल्ड का भाव 54,000 रुपये प्रति 10 ग्राम के स्तर को छू सकता है.

यह भी पढ़ें:- चंद पैसों में शुरू कर सकते हैं दाल मिल का बिजनेस, हर महीने होगी 50000 की कमाई!

बात दें कि गोल्ड में लंबे समय तक इन्वेस्ट करने के लिए गोल्ड बॉन्ड सबसे प्रचलित इन्वेस्टमेंट टूल माना जाता है. इसकी सबसे खास बात होती है कि निवेशक को सोने के भाव बढ़ने का लाभ तो मिलता ही है. साथ ही उन्हें इन्वेस्टमेंट रकम पर 2.5 फीसदी का गारंटीड फिक्स्ड ​इंटरेस्ट (Fixed Interest on Gold Bond) भी मिलता है.

कब खुलेगा अगला सब्सक्रिप्शन?
ऐसे में अगर आप भी गोल्ड में इन्वेस्ट करने की सोच रहे हैं तो यह एक बेहतर विकल्प साबित हो सकता है. लेकिन यह भी जानना जरूरी है कि इन बॉन्ड्स की अवधि 8 साल की होती है और 5वें साल के बाद ही प्रीमैच्योर विड्रॉल किया जा सकता है. आरबीआई ने जानकारी दी है 8 जून से गोल्ड बॉन्ड का अगला सब्सक्रिप्शन खुलेगा.

यह भी पढ़ें:- सस्ते में AC और फ्रिज खरीदने का मौका, यहां मिल रहा शानदार डिस्काउंट
First published: May 25, 2020, 3:41 PM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading