MDH के सांभर मसाले को लेकर बड़ा खुलासा, रिपोर्ट का दावा- जांच में मिले खतरनाक बैक्टीरिया

News18Hindi
Updated: September 11, 2019, 9:18 PM IST
MDH के सांभर मसाले को लेकर बड़ा खुलासा, रिपोर्ट का दावा- जांच में मिले खतरनाक बैक्टीरिया
MDH के सांभर मसालों में मिले खतरनाक बैक्टिरिया, अमेरिकी जांच में हुआ ये खुलासा: रिपोर्ट

अमेरिकी फूड रेग्युलेटर USFDA की जांच में MDH के मसालों में 'साल्मोनेला' नाम का बैक्टीरिया मिला है. आइए जानें पूरा मामला...

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 11, 2019, 9:18 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. अमेरिकी रिटेल मार्केट में एक डिस्ट्रीब्युटर को अपनी दुकान से MDH मसालों के तीन लॉट को पूरी तरह से हटाना पड़ा है. दरअसल, अमेरिकी फूड रेग्युलेटर ने MDH कंपनी के सांभर मसाले में 'साल्मोनेला' नाम का बैक्टीरिया पाया है. यूएस फूड एंड ड्रग अथॉरिटी (USFDA) ने अपने आधिकारिक बयान में कहा है कि MDH के इस प्रोडक्ट को सर्टिफाइड लैब में जांच किया गया, जिस दौरान साल्मोनेला नामक बैक्टीरिया होने के बारे में पता चला है. उन्होंने आगे कहा कि एफडीए ने इस बारे में तब जांच करनी शुरू की जब उसे पता चला कि बाजार में कुछ ऐसे प्रोडक्ट्स बेचे जा रहे हैं, जिसमें साल्मोनेला बैक्टीरिया हैं. रिपोर्ट में आगे लिखा गया कि इस बीमारी की शुरुआती लक्षण में डायरिया, पेट में मरोड़ समेत 12 से 72 घंटे के अंदर तेज बुखार भी हो सकता है. आपको बता दें कि पहले भी अमेरिकी में एमडीएच मसालों पर सवाल उठ चुके हैं.अभी तक इस बात की पुष्टि नहीं हो सकी है कि भारत में भी इस कंपनी के बेचे जाने वाले एमडीएच प्रोडक्ट्स में साल्मोनेला पाया जाता है या नहीं.

ये भी पढ़ें-SBI ग्राहकों को तोहफा! 1 अक्टूबर से सस्ती हो जाएंगी ATM समेत ये सर्विसेस

अब क्या होगा MDH मसालों का-अमेरिकी फूड नियामक ने इस बारे में जानकारी नहीं दी है कि कंपनी ने खुद संज्ञान लेते हुए प्रोडक्ट रिकॉल किया है. इंडियन एक्सप्रेस ने अपनी एक रिपोर्ट में कहा है कि एमडीएच कंपनी के ये प्रोडक्ट्स उत्तरी कैलिफोर्निया स्थित रिटेल स्टोर में बेचे जा रहे थे.

आपको यह भी बता दें कि यह ऐसा पहला मौका नहीं है जब एमडीएच के मसालों में अमेरिकी फूड नियामक ने साल्मोनेला होने की शिकायत की है. साल 2016 से 2018 के बीच में इस नियामक ने करीब 20 बार एमडीएच मसालों के प्रोडक्ट्स के आयात पर प्रतिबंध लगाया चुका है.



साल्मोनेला से गंभीर बीमारी होने का खतरा: इन प्रोडक्ट्स से होने वाले नुकसान के बारे में एफडीए ने अपने आधिकारिक साइट पर लिखा कि साल्मोनेला संक्रमित खाना खाने से इंसानों को 'साल्मोनेलोसिस' बीमारी हो सकती है.

ये भी पढ़ें-PM-किसान मानधन योजना: 8 लाख लोगों ने सुरक्षित किया अपना बुढ़ापा!
Loading...

इस बीमारी के शुरुआती लक्षण में डायरिया, पेट में मरोड़ व 12 से 72 घंटे के अंदर बुखार होता है. यह करीब 4 से 7 दिनों तक के लिए रहता है. बच्चों से लेकर बूढ़ों तक के लिए खतरा: एफडीए ने कहा कि अधिकतर मामलों में साल्मोनेलॉसिस के इलाज हो जाता है, लेकिन कुछ मामलों में डायरिया की वजह से हॉस्पिटल में भर्ती होने की नौबत आ सकती है.

इसके खतरनाक स्तर पर पहुंचने के बाद मरीज को तेजी बुखार, सिरदर्द, थकान, पेशाब में खून तक आता है. यह बीमारी बच्चे, व्यस्क या बूढ़ों को हो सकता है, जिनकी रोग प्रतिरोधाक क्षमता यानी इम्यून सिस्टम कमजोर होता है.

आर—प्योर एग्रो स्पेशैलिटीज के प्रोडक्ट्स: अमरीकी रिटेल से जिस प्रोडक्ट को सबसे अधिक रिकॉल किया गया, उसमें से सबसे अधिक आर—प्योर एग्रो स्पेशैलिटीज के थे. उत्तरी कैलिफोर्निया के रिटेल स्टोर्स में इन प्रोडक्ट्स को अमरीकी सप्लायर 'हाउस आफ स्पाइसेज' डिस्ट्रीब्यूट करती है.

ये भी पढ़ें-अगले 30 साल में दुनिया को चाहिए होगा 50% ज्यादा खाना, रिपोर्ट में हुए कई खुलासे

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 11, 2019, 6:06 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...