Plasmabot: कोविड-19 का इलाज ढूंढने में जुटी Microsoft, कर रही बड़ी तैयारी

Plasmabot: कोविड-19 का इलाज ढूंढने में जुटी Microsoft, कर रही बड़ी तैयारी
कोविड-19 का इलाज ढूंढने के लिए प्लाज्मा कलेक्ट करने में जुटी माइक्रोसॉफ्ट.

आईटी सेक्टर की दिग्गज कंपनी माइक्रोसॉफ्ट कोविड-19 का इलाज ढूंढने के लिए प्लाज्मा जुटाने की तैयारी में है. कंपनी इसके लिए एक खास चैटबॉट को लॉन्च करने वाली है, जिसका नाम प्लाज्माबॉट रखा गया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 19, 2020, 7:48 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. माइक्रोसॉफ्ट (Microsoft) अब फार्मा कंपनियों की कंसॉर्टियम के साथ मिलकर काम कर रही है ताकि जो मरीज कोविड-19 से रिकवर हो चुके हैं, उनका प्लाज्मा (Convalescent Plasma) डोनेट किया जा सके. इस प्लाज्मा का इस्तेमाल कोरोना वायरस (Coronavirus) के लिए इलाज ढंढने में इस्तेमाल किया जाएगा. इसके लिए माइक्रोसॉफ्ट एक चैटबॉट लॉन्च कर रही है, जिसे 'प्लाज्माबॉट' कहा जा रहा है.

कैसे काम करेगा प्लाज्माबॉट?
इस चैटबॉट के ​जरिए रिकवर हो चुके लोगों से कुछ सवाल पूछे जाएंगे कि ताकि वो अपना प्लाज्मा डोनेट कर सकें. इस प्लाज्माबॉट (Plasmabot) के ​जरिए पूरी प्रक्रिया के बारे में जानकारी दी जाएगी और नजदीकी साइट पर भेजा जाएगा ताकि कोविड-19 से रिकवर हो चुके मरीज अपना प्लाज्मा डोनेट कर सकें.

यह भी पढ़ें:  गृह मंत्रालय ने जारी किया दिशानिर्देश, ऑफिस आते-जाते समय की जाएगी स्क्रीनिंग
इलाज ढूंढने में कैसे मदद कर सकता है प्लाज्मा?


इंसान के प्लाज्मा की मदद से कई बीमारियों का इलाज ढूंढा जाता है. जब कोई मरीज किसी बीमारी से रिकवरी हो जाता हे तो उनके खून में कुछ ऐसे एंटीबॉडी बन चुके होते हैं जो उस बीमारी वाले एंटीजेन से लड़ने सक्षम होते हैं. मरीज के खून में यह एंटीबॉडी कुछ महीनों तक रहते हैं.

दो तरीकों से हो सकता है इलाज
हालांकि, अभी तक किसी ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन ने प्लाज्मा के जरिए इलाज की मंजूरी नहीं दी है लेकिन, इन्वेस्टिगेशन प्रोडक्ट के तौर पर रेग्युलेट किया जा रहा है. माइक्रोसॉफ्ट ने एक ब्लॉग के में लिखा कि प्लाज्म कलेक्ट के बाद संभावित रास्ते हैं. पहला तो यह कि इन प्लाज्म को कोरोना वायरस से लड़ रहे मरीजों के बॉडी में डाला जाए. जबकि दूसरा रास्ता है कि इन एंटीबॉडीज का इस्तेमाल दवांए बनाने के लिए इस्तेमाल किया जाए.

यह भी पढ़ें: लॉकडाउन खुलने पर ट्रेन चलने की उम्मीद कम, हवाई टिकट की बुकिंग पर भी रोक

बिल एंड मिलिंडा गेट्स फाउंडेशन भी जुटा
माइक्रोसॉफ्ट के हेड ऑफ रिसर्च पीटर ली ने कहा कि लक्ष्य है कि अधिक से अधिक प्लाज्म जुटाया जाए. दुनियाभर के कई शहरों में लगातार कोविड-19 संक्रमण के मामले बढ़ रहे हैं. प्लाज्मा कलेक्ट करने की प्रक्रिया को मार्च में ही शुरू कर दिया गया था, जिसे बिल एंड मिलिंडा गेट्स फाउंडेशन भी सलाहकार के तौर पर काम कर रहा है.

इन्फ्रास्ट्रक्चर तैयार करी माइक्रोसॉफ्ट
अपने रिसर्च के आधार पर ली ने कहा कि संभव है कि प्लाज्मा के ​जरिए जान बताई जा सके. इसी को ध्यान में रखते हुए कंपनी अपने रिसोर्स और इन्फ्रास्ट्रक्चर को तैयार कर रही है. प्लाज्माबॉट को वेबसाइट्स के जरिए भी प्रोमोट किया जा रहा है.

यह भी पढ़ें: कोरोना के इस बड़े संकट में अमेरिका ने की भारत की मदद, दिए 448 करोड़ रुपये
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज