आप भी इस कंपनी के हैं यूजर्स तो सतर्क रहें, चीन कर सकता है साइबर अटैक

माइक्रोसॉफ्ट (Microsoft) ने अपने ग्राहकों को एक नए सोफिस्केटेड नेशन-स्टेट साइबर हमले के खिलाफ आगाह किया है.

माइक्रोसॉफ्ट (Microsoft) ने अपने ग्राहकों को एक नए सोफिस्केटेड नेशन-स्टेट साइबर हमले के खिलाफ आगाह किया है.

माइक्रोसॉफ्ट (Microsoft) ने चीन के साइबर अटैक से यूजर्स को आगाह किया है. कंपनी के मुताबिक चीनी हमलावरों ने एक्सचेंज सर्वर सॉफ्टवेयर को निशाना बनाया है.

  • Share this:
नई दिल्ली. दिग्गज टेक कंपनी माइक्रोसॉफ्ट (Microsoft) ने अपने यूजर्स को एक नए सोफिस्केटेड नेशन-स्टेट साइबर हमले के खिलाफ आगाह किया है. इस हमले का मूल चीन में है. यह मुख्य रूप से कंपनी के "एक्सचेंज सर्वर" सॉफ्टवेयर को निशाना बना रहा है. कंपनी ने इससे बचने के लिए अपने ग्राहकों से सॉफ्टवेयर पैच डाउनलोड करने के लिए भी कहा है.

माइक्रोसॉफ्ट के ऑफिसियल ब्लॉग के मुताबिक, अटैक को हाफनियम (Hafnium) कहा जा रहा है और यह चीन से ऑपरेट होता है. हाफनियम एक्सफिलट्रेटिंग की जानकारी के लिए अमेरिका में एनजीओ (NGO), संक्रामक रोग शोधकर्ताओं, कानून फर्मों, उच्च शिक्षा संस्थानों, डिफेंस कॉन्ट्रैक्टर्स और पॉलिसी थिंक टैंकों पर हमला कर रहा है.

यह भी पढ़ें : इस स्टार्टअप्स से बाहर निकल रहे हैं रतन टाटा, यह मिलेगा फायदा


एक्सचेंज सर्वर ग्राहकों तुरंत करें अपडेट

माइक्रोसॉफ्ट के कॉर्पोरेट वाइस प्रेसीडेंट (कस्टमर सिक्योरिटी, ट्रस्ट) टॉम बर्ट ने कहा कि हाफनियम चीन से है. ये मुख्य रूप से अमेरिका में लीज्ड वर्चुअल प्राइवेट सर्वर (VPS) से अपने ऑपरेशन का संचालन करता है. कंपनी ने एक्सचेंज सर्वर चलाने वाले कस्टमर्स की सुरक्षा के लिए सिक्योरिटी अपडेट जारी किए हैं. इसलिए माइक्रासॉफ्ट सभी एक्सचेंज सर्वर ग्राहकों से इन अपडेट को तुरंत लागू करने के लिए अपील करती है.

यह भी पढ़ें : हिटलर की मूंछ और फेस की तरह लग रहा था अमेजन का नया लोगो, यूजर्स ने किया ट्रोल तो बदलना पड़ा



एक साल में आठवीं बार कंपनी ने नेशन-स्टेट ग्रुप्स का किया खुलासा

पिछले 12 महीनों में यह आठवीं बार है जब माइक्रोसॉफ्ट ने सार्वजनिक रूप से सिविल सोसाइटी के लिए महत्वपूर्ण संस्थानों को निशाना बनाने वाले नेशन-स्टेट ग्रुप्स का खुलासा किया है. बर्ट ने कहा कि हमने जो दूसरी गतिविधि का खुलासा किया है, उसमें कोविड-19 (Covid-19) से लड़ने वाले स्वास्थ्य संगठनों, राजनीतिक अभियानों और 2020 के चुनावों में शामिल दूसरे और प्रमुख नीति निर्धारक सम्मेलनों में शामिल होने वाले हाईप्रोफाइल लोगों को निशाना बनाए जाने के बारे में है.

यह भी पढ़ें :  News18 Special : भगोड़े माल्या और मोदी को भारत लाने में क्यों हो रही है देर, एक्सपर्ट से जानिए वजह
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज