प्रवासी मजदूर अब पहले से ज्‍यादा पैसे भेज रहे घर, EPFO रजिस्‍ट्रेशन में भी हुआ इजाफा

एसबीआई रिसर्च की रिपोर्ट के मुताबिक, अब प्रवासी मजदूर पहले के मुकाबले ज्‍यादा पैसे घर भेज रहे हैं.
एसबीआई रिसर्च की रिपोर्ट के मुताबिक, अब प्रवासी मजदूर पहले के मुकाबले ज्‍यादा पैसे घर भेज रहे हैं.

एसबीआई रिसर्च (SBI Research) की रिपोर्ट के मुताबिक, सितंबर 2020 में जनधन खातों (Jan Dhan Account) की संख्या 41 करोड़ के पार पहुंच चुकी है. प्रवासी मजदूरों (Migrant Workers) के घर भेजे जाने वाले पैसे में अप्रैल 2020 के दौरान लॉकडाउन (Lockdown) के समय गिरावट आई थी. इसके बाद जून और जुलाई 2020 से इसमें सुधार देखा गया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 27, 2020, 8:43 PM IST
  • Share this:
मुंबई. कोरोना संकट के बीच अब देश की अर्थव्यवस्था (Indian Economy) में तेजी से सुधार के संकेत मिलने लगे हैं. स्‍टेट बैंक ऑफ इंडिया रिसर्च (SBI Research) की रिपोर्ट के मुताबिक, सितंबर 2020 में प्रवासी श्रमिकों (Migrant Laborer) के घर पैसे भेजने में बढ़त दर्ज की गई है. यह फरवरी 2020 के स्तर से ऊपर पहुंच चुकी है. रिपोर्ट में कहा गया है कि कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (EPFO) में नए रजिस्‍ट्रेशन की संख्या मे भी बढ़त दर्ज की गई है.

जनधन खातों की संख्‍या में दर्ज की गई बड़ी बढ़ोतरी
एसबीआई रिसर्च की रिपोर्ट के मुताबिक, जनधन खातों (Jan Dhan Account) की संख्या में बड़ी वृद्धि दर्ज की गई है. इनकी संख्या अब 41 करोड़ के पार पहुंच चुकी है. प्रवासी मजदूरों के अपने घर भेजे जाने वाले पैसे में अप्रैल 2020 के दौरान लॉकडाउन (Lockdown) के समय भारी गिरावट आई थी. इसके बाद जून और जुलाई 2020 से इसमें सुधार देखा गया है. सितंबर के आंकड़े कोविड-19 महामारी (COVID-19) से पहले फरवरी के स्तर को भी पार कर गए हैं. इससे साफ है कि प्रवासी मजदूर रोजी-रोटी के जुगाड़ में काम पर लौटने लगे हैं.

ये भी पढ़ें- FM निर्मला सीतामरण ने कहा- अर्थव्‍यवस्‍था में सुधार के मिल रहे संकेत, लेकिन इस साल निगेटिव रहेगी जीडीपी ग्रोथ
अगस्‍त में कई जगह बारिश से काम हुआ प्रभावित


देश के कई इलाकों में अगस्त 2020 के दौरान भारी बारिश (Heavy Rain) के चलते काम बाधित रहा और मजदूरों के घर पैसे भेजने की दर में गिरावट दर्ज की गई. एसबीआई रिसर्च का प्रवासी मजदूरों के घर पैसे भेजने का सूचकांक (Index) फरवरी में 112 अंक था, जो आमतौर पर 100 के आसपास रहता है. वहीं, अप्रैल में यह गिरकर 85 अंक पर आ गया, लेकिन मई में इसमें सुधार दर्ज किया गया. मई में यह सूचकांक 94 अंक, जून में 105, जुलाई में 103 और अगस्त में 97 अंक रहा.

ये भी पढ़ें- आपके खाते में 5 नवंबर तक आ जाएगी ब्‍याज पर ब्‍याज से मिली छूट की रकम, RBI ने बैंकों को दिया आदेश

12.4 लाख नए लोगों का EPFO में रजिस्‍ट्रेशन
सितंबर में घर पैसे भेजने का सूचकांक फिर 115 अंक पर पहुंच गया. इसी तरह ईपीएफओ के अप्रैल-अगस्त 2020 के पेरोल आंकड़ों के अनुसार, उसके पास 25 लाख नए रजिस्‍ट्रेशन हुए हैं. इनमें से 12.4 लाख लोगों का रजिस्‍ट्रेशन पहली बार हुआ है. इसके अलावा 14 अक्टूबर 2020 तक कुल जनधन खातों की संख्या 41.05 करोड़ पहुंच गई है. इनमें कुल बकाया जमा 1.31 लाख करोड़ रुपये है. अप्रैल की शुरुआत से अब तक करीब तीन करोड़ नए जनधन खाते खोले गए, जबकि इनमें कुल जमा में 11,060 करोड़ रुपये की वृद्धि दर्ज की गई है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज