होम /न्यूज /व्यवसाय /

Milk Price Hike : फिर बढ़ेंगे दूध के दाम, Amul के प्रबंध निदेशक ने बताई वजह, जानिए डिटेल

Milk Price Hike : फिर बढ़ेंगे दूध के दाम, Amul के प्रबंध निदेशक ने बताई वजह, जानिए डिटेल

इससे पहले जुलाई 2021 में कंपनी ने दूध की कीमत बढ़ाई थी.

इससे पहले जुलाई 2021 में कंपनी ने दूध की कीमत बढ़ाई थी.

Milk Price Hike : अमूल एमडी आर एस सोढ़ी ( RS Sodhi) ने मीडिया से बातचीत में कहा कि यहां से दूध की कीमतें कम नहीं हो सकती है बल्कि ऊपर ही जाएंगी. एनर्जी, रसद और पैकेजिंग लागत बढ़ने की वजह से अमूल दूध की कीमतें बढ़ सकती है. हालांकि उन्होंने ये कहा कि वे बताने की स्थिति में नहीं है कि कितना रेट बढ़ेगा.

अधिक पढ़ें ...

Milk Price Hike : Amul दूध के दाम फिर से बढ़ सकते हैं. अधिकारियों ने मंगलवार को बताया कि एनर्जी, रसद और पैकेजिंग लागत बढ़ने की वजह से अमूल दूध की कीमतें बढ़ सकती है. हालांकि उन्होंने ये कहा कि वे बताने की स्थिति में नहीं है कि कितना रेट बढ़ेगा.

अमूल एमडी आर एस सोढ़ी ( RS Sodhi) ने मीडिया से बातचीत में कहा कि यहां से कीमतें कम नहीं हो सकती है बल्कि ऊपर ही जाएंगी. सोढ़ी ने कहा कि सहकारी ने पिछले दो वर्षों में कीमतों में 8 प्रतिशत की बढ़ोतरी की है, जिसमें पिछले महीने दूध की कीमतों में प्रति लीटर 2 रुपये की बढ़ोतरी भी शामिल है.

यह भी पढ़ें- ई-केवाईसी नहीं करवा पाने वाले किसानों को मिलेगी या नहीं पीएम किसान योजना की 11वीं किस्त?

किसानों को हो रहा फायदा
उन्होंने आगे कहा कि उनके उद्योग में मुद्रास्फीति चिंता का कारण नहीं है क्योंकि किसानों को उपज के लिए उच्च कीमतों से लाभ हो रहा है. सोढ़ी ने कहा, “अमूल और डेयरी क्षेत्र द्वारा की गई बढ़ोतरी दूसरों की तुलना में या इनपुट लागत में वृद्धि की तुलना में बहुत सीमित है”.

लागत बढ़ी
उन्होंने कहा कि एनर्जी की कीमतें एक तिहाई से अधिक बढ़ गई हैं. यह जो कोल्ड स्टोरेज खर्च को प्रभावित करती हैं. रसद लागत भी इसी तरह बढ़ी है और पैकेजिंग के मामले में भी ऐसा ही है. इन दबावों के कारण दूध में 1.20 रुपए प्रति लीटर की वृद्धि हुई है.

यह भी पढ़ें- 7th Pay Commission: सरकारी कर्मचारियों को मोदी सरकार देगी एक और तोहफा, डीए के बाद अब ये भत्ता भी बढ़ेगा

उन्होंने कहा कि महामारी के दौरान किसानों की प्रति लीटर आय भी ₹ 4 प्रति लीटर तक बढ़ गई है. सोढ़ी ने कहा कि कई तरह की दिक्कतों की वजह से कंपनी के लाभ में कमी आई है. लेकिन अमूल इस तरह के दबावों से बेफिक्र है क्योंकि मुनाफावसूली सहकारिता का मुख्य उद्देश्य नहीं है. Amul द्वारा कमाए गए एक रुपए में से 85 पैसा किसानों को जाता है.

Tags: Amul, Inflation, Milk, Synthetic milk

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर