कोरोना संकट के बीच लोगों को नौकरी दे रहा है कृषि मंत्रालय! जानें सच्‍चाई

कृषि मंत्रालय के तहत काम करने का दावा करने वाली किसान विकास मित्र समिति ने नौकरयां निकाली हैं.
कृषि मंत्रालय के तहत काम करने का दावा करने वाली किसान विकास मित्र समिति ने नौकरयां निकाली हैं.

कोरोना संकट के बीच सोशल मीडिया पर एक खबर वायरल हो रही है कि कृषि मंत्रालय (Ministry of Agriculture) लोगों को नौकरी (Job Opportunity) दे रहा है. आइए जानते हैं कि क्‍या वाकई ऐसा कुछ है या कोई आपको ठगने (Cheating) की कोशिश कर रहा है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 26, 2020, 10:07 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. कोरोना वायरस प्रकोप के कारण लगाए गए लॉकडाउन के दौरान देश में आर्थिक गतिविधियां (Economic Activities) करीब-करीब ठप हो गई थीं. कोविड-19 संकट के बीच लाखों युवाओं की नौकरी छिन (Job Loss) गई है तो करोड़ों लोगों का रोजगार (Employment) पूरी तरह ठप हो गया है. हालांकि, अब धीरे-धीरे देश की अर्थव्‍यवस्‍था (Indian Economy) और रोजगार की स्थिति दुरुस्‍त हो रही है. अप्रैल 2020 में जहां राष्‍ट्रीय बेरोजगारी दर 23 फीसदी के पार पहुंच गई थी. वहीं, सितंबर में घटकर 6 फीसदी के आसपास पहुंच गई है. इस बीच एक खबर वायरल हो रही है कि कृषि मंत्रालय (Ministry of Agriculture) लोगों को नौकरी दे रहा है. आइए जानते हैं कि क्‍या वाकई ऐसा कुछ है या कोई आपको ठगने की कोशिश कर रहा है.

अप्‍लाई करने से पहले नियोक्‍ता की करें पूरी पड़ताल
देश में इस समय बड़ी संख्‍या में लोग रोजगार की तलाश कर रहे हैं. इस बीच काफी लोग नौकरी दिलाने के नाम पर ठगी का धंधा चला रहे हैं. लिहाजा, किसी भी नौकरी के लिए अप्‍लाई करने से पहले नियोक्‍ता के बारे में हर पहलू से पड़ताल कर लें वरना आप भी ठगी का शिकार हो सकते हैं. केंद्र सरकार (Central Government) लगातार इस बारे में लोगों को जागरूक भी कर रही है. बता दें कि इन दिनों सोशल मीडिया पर किसान विकास मित्र समिति (KVMS) नाम की वेबसाइट दावा कर रही है कि वो कृषि मंत्रालय के तहत काम करती है. इस साइट पर अशोक स्तंभ वाली सील भी है. इससे ये असली सरकारी वेबसाइट जैसी दिख रही है.


ये भी पढ़ें- PM नरेंद्र मोदी ने बताया एनर्जी सेक्‍टर का रोडमैप, कहा-भारत का ऊर्जा क्षेत्र पूरी दुनिया को बनाएगा ऊर्जावान



कृषि मंत्रालय के तहत काम नहीं करती है केवीएमएस
केंद्र सरकार के प्रेस इंफॉर्मेशन ब्‍यूरो (PIB) की पड़ताल में पता वला है कि ये वेबसाइट फर्जी (Fake Website) है और अब तक काफी लोग इसके जाल में फंस चुके हैं. पीआईबी के मुताबिक, कृषि मंत्रालय के तहत इस तरह की कोई भी वेबसाइट काम नहीं कर रही है. पीआईबी ने इसको लेकर सोशल मीडिया में चेतावनी जारी कर दी है. साथ ही ऐसी वेबसाइटों से सतर्क रहने की सलाह भी दी है. ब्‍यूरो का कहना है कि ये वेबसाइट नौकरी के नाम पर लोगों को फंसा कर ठगी कर सकती है. बता दें कि पहले भी ऐसी ही कई खबरें फर्जी तरीके से वायरल की जा चुकी हैं, जिन पर संबंधित विभागों की ओर से लोगों को सच्‍चाई के बारे में बताया गया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज