जीडीपी में 8 प्रतिशत की गिरावट का अनुमान उम्मीद से बेहतर होगा: वित्त मंत्रालय

वित्त मंत्रालय चालू वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही में आर्थिक वृद्धि दर सकारात्मक रहेगी

वित्त मंत्रालय चालू वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही में आर्थिक वृद्धि दर सकारात्मक रहेगी

चालू वित्त वर्ष की तीसरी तिमाही में महामारी के बाद पहली बार सकल जीडीपी की वृद्धि दर सकारात्मक हुई है. इससे धारणा बेहतर हुई है. ऐसे में चालू वित्त वर्ष के अंत तक गतिविधियां बेहतर रहेंगी.

  • Share this:
नई दिल्ली. चालू वित्त वर्ष 2020-21 में भारतीय अर्थव्यवस्था (Indian Economy)का प्रदर्शन जीडीपी (GDP) में आठ प्रतिशत की गिरावट के अनुमान से बेहतर रहेगा. वित्त मंत्रालय (Ministry of Finance) ने शुक्रवार को यह उम्मीद जताई है.
वित्त मंत्रालय ने कहा कि कोरोनावायरस महामारी (Coronavirus Epidemic) के रुख में ठकराव तथा टीकाकरण (Vaccination) शुरू होने के बाद अब आर्थिक गतिविधियां रफ्तार पकड़ रही हैं. मंत्रालय के आर्थिक मामलों के विभाग ने अपनी मासिक रिपोर्ट में कहा कि विकसित देशों में कोविड-19 की नई लहर और संक्रमण के नए प्रकार के बाद नए सिरे से लॉकडाउन लगाया गया है. इससे वैश्विक उत्पादन में सुधार की रफ्तार कम हुई है.लेकिन इसके उलट भारत में कोविड-19 के संक्रमण में गिराट के ग्राफ में हल्के ठहराव के बाद भी गतिविधियों ने रफ्तार पकड़ी है और उपभोक्ताओं के आत्मविश्वास में सुधार नहीं डिगा है . टीकाकरण अभियान के बाद उपभोक्ताओं की धारणा सुधरी है.
यह भी पढ़ें : नौकरी की बात : अगले पांच साल में इस क्षेत्र में होंगे 7.5 करोड़ जॉब्स, बस करनी होगी यह तैयारी

इसलिए बेहतर होगी अर्थव्यवस्था
रिपोर्ट में कहा गया है कि चालू वित्त वर्ष की तीसरी तिमाही में महामारी के बाद पहली बार सकल घरेलू उत्पाद (GDP, जीडीपी) की वृद्धि दर सकारात्मक हुई है. इससे धारणा बेहतर हुई है. ऐसे में चालू वित्त वर्ष के अंत तक गतिविधियां जीडीपी के दूसरे अग्रिम अनुमान के आकलन की तुलना में बेहतर रहेंगी. इसमें कहा गया है कि रिजर्व बैंक के तीसरी तिमाही के औद्योगिक परिदृश्य सर्वे से भी इस धारणा की पुष्टि होती है. रिपोर्ट में कहा गया है कि चालू वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही में आर्थिक वृद्धि दर सकारात्मक रहेगी.
यह भी पढ़ें : बदलती तस्वीर : 77% महिलाओं का भराेसा म्युच्युल फंड पर, एफडी सिर्फ 31% को पसंद



वैक्सीन के बाद सोशल डिस्टेंसिंग का पालन जरूरी
रिपोर्ट में कहा गया है कि सामाजिक दूरी (Social Distancing) एक सामाजिक टीके (social vaccines) की तरह है. भारत और दुनिया में तेजी से पुनरुद्धार के लिए इसपर लगातार ध्यान दिया जाना चाहिए. कोविड-19 टीके के विकास के बाद कई बार इसे नजरअंदाज किया जाता है. लेकिन कोविड-19 के टीके के साथ सामाजिक टीका भी जरूरी है. भारत हालांकि महामारी की दूसरी लहर से बचा हुआ है, लेकिन आठ राज्यों....महाराष्ट्र, केरल, पंजाब, तमिलनाडु, गुजरात, मध्य प्रदेश, कर्नाटक और हरियाणा में संक्रमण के मामले बढ़े हैं. इससे एक बार फिर सामाजिक दूरी का महत्व सामने आया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज