Home /News /business /

बजट की प्रिटिंग शुरू, क्यों अगले 11 दिन घर नहीं जा सकते हैं यह 100 अधिकारी?

बजट की प्रिटिंग शुरू, क्यों अगले 11 दिन घर नहीं जा सकते हैं यह 100 अधिकारी?

PTI Photo/Atul Yadav

PTI Photo/Atul Yadav

वित्त राज्य मंत्रियों शिव प्रताप शुक्ला और पॉन राधाकृष्णन ने वित्त मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ मिलकर हलवा रस्म में भाग लिया.

    वित्त वर्ष 2019-20 के लिये अंतरिम बजट की छपाई का काम सोमवार को शुरू हो गया.  इस छपाई के काम से जुड़े 100 अधिकारी अब अपने घर नहीं जा सकते. वित्त मंत्रालय में परंपरागत हलवा रस्म के आयोजन के साथ बजट दस्तावेजों की छपाई की औपचारिक शुरुआत हो जाती है, जिसके इससे संबंधित अधिकारी बाहर की दुनिया से दूर रहेंगे. आखिर इसकी वजह क्या है?

    दरअसल, बजट छपाई का काम शुरू होने से पहले बजट तैयार करने की प्रक्रिया से प्रत्यक्ष तौर पर जुड़े मंत्रालय के अधिकारियों को हलवा समारोह के बाद मंत्रालय में ही रहना पड़ता है. ये अधिकारी संसद में बजट पेश होने तक मंत्रालय में ही रहते हैं और बाहरी दुनिया यहां तक कि परिजनों से भी इनका संपर्क नहीं होता है.

    यह भी पढ़ें:   जानिए साधुओं की समाधि के पीछे का सच, इस वजह से कभी नहीं होती उनकी मृत्यु

    अधिकारियों को फोन या ईमेल के जरिये भी किसी से संपर्क करने की इजाजत नहीं होती है. मंत्रालय के सिर्फ शीर्ष अधिकारियों को ही घर जाने की अनुमति होती है. सोमवार को वित्त राज्य मंत्रियों शिव प्रताप शुक्ला और पॉन राधाकृष्णन ने वित्त मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ मिलकर हलवा रस्म में भाग लिया हालांकि वित्त मंत्री अरुण जेटली फिलहाल इलाज के लिए अमेरिका में हैं ऐसे में वह इस रस्म में हिस्सा नहीं ले पाये.

    यह भी पढ़ें:  महाराष्ट्र की राजनीति में नये राजनीतिक दल की एंट्री, 47 सीटों पर लड़ेगी लोकसभा चुनाव

    नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व वाली केन्द्र सरकार एक फरवरी को अंतरिम बजट पेश करने वाली है. आम चुनाव के कारण अंतरिम बजट पेश किया जाएगा. अगले वित्त वर्ष का पूर्ण बजट आम चुनाव के बाद आने वाली नयी सरकार पेश करेगी.

    यह भी पढ़ें:   विश्‍व के सबसे विश्‍वसनीय देशों में शामिल हुआ भारत

    एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

    Tags: Arun Jaitely, Narendra modi, Trending news, Union Budget 2019

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर