Home /News /business /

Opinion: मोदी सरकार के 25000 कि.मी. सड़क नेटवर्क से दो वर्षों में विकास को मिलेगी नई गति

Opinion: मोदी सरकार के 25000 कि.मी. सड़क नेटवर्क से दो वर्षों में विकास को मिलेगी नई गति

सात एक्‍सप्रेसवे का निर्माण किया जा रहा है. (सांकेतिक चित्र)

सात एक्‍सप्रेसवे का निर्माण किया जा रहा है. (सांकेतिक चित्र)

Ministry of Road Transport and Highways: अगले दो वर्षों में देश में करीब 25000 किलोमीटर का रोड नेटवर्क तैयार होगा. इसमें भारतमाला प्रोजेक्‍ट, ग्रीन कॉरिडोर, इकॉनोमिक कॉरिडोर और एक्‍सप्रेसवे शामिल हैं. भारतमाला परियोजना के तहत 3.3 लाख करोड़ रुपये की लागत से 13000 किलोमीटर से भी अधिक लंबी सड़कों के ठेके पहले ही दिए जा चुके हैं, मार्च 2022 तक 8500 किलोमीटर लंबी सड़कों के लिए भी ठेके दे दिए जाएंगे.

अधिक पढ़ें ...

नई दिल्‍ली. सड़क परिवहन मंत्रालय ( Ministry of Road Transport) अगले दो वर्षों में देशभर में करीब 25000 किलोमीटर का रोड नेवटर्क (road network) तैयार कर देगा. नेशनल हाईवे अथारिटी ऑफ इंडिया (National Highway Authority of India) ही करीब 9000 किलोमीटर रोड तैयार कर देगा. इसमें भारतमाला प्रोजेक्‍ट, ग्रीन कॉरिडोर, इकॉनोमिक कॉरिडोर और एक्‍सप्रेसवे शामिल हैं. इसके अलावा करीब 16000 किलोमीटर रोड नेटवर्क स्‍वयं सड़क परिवहन मंत्रालय तैयार कराएगा. सड़क परिवहन मंत्रालय ने पिछले वित्‍तीय वर्ष (2020-21) में करीब 12500 रोड का निर्माण कराया था. रोजाना औसतन 37 किमी रोड का निर्माण किया जा रहा है.

देश के 550 जिलों को बेहतर कनेक्‍टीविटी के लिए भारतमाला प्रोजेक्‍ट चलाया जा रहा है. इसके 5 ग्रीनफील्‍ड एक्‍सप्रेस वे और 17 हाईवे का निर्माण किया जाएगा. सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी के अनुसार भारतमाला परियोजना के सभी कार्य को वर्ष 2023 तक अवार्ड करने और वर्ष 2025 तक पूरा करने का लक्ष्य रखा गया है.

भारतमाला परियोजना 
अब तक 5,984 किलोमीटर पर काम पूरा किया जा चुका है. 5.35 लाख करोड़ रुपये की लागत वाली भारतमाला परियोजना के तहत 3.3 लाख करोड़ रुपये की लागत से 13000 किलोमीटर से भी अधिक लंबी सड़कों के ठेके पहले ही दिए जा चुके हैं, मार्च 2022 तक सरकार 8500 किलोमीटर लंबी सड़कों के लिए भी ठेके दे देगी. इसके अलावा एनएचएआई वर्ष 2021-22 में करीब 4500 किलोमीटर और 2022-23 में भी 4500 किलोमीटर सड़क बनाने का लक्ष्‍य रखा है.

इस वित्‍तीय वर्ष में सड़क हाईवे निर्माण को सर्वाधिक बजट
देशभर में सड़क निर्माण के लिए इस वित्‍तीय वर्ष में एक लाख करोड़ रुपये से अधिक का बजट आवंटित किया गया है. सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय के लिए 1,18,101 लाख करोड़ रुपये का विस्‍तारित परिव्‍यय प्रदान किया है, जिसमें से 1,08,230 करोड़ रुपये संबंधित पूंजी के लिए है और जो अब तक का सर्वाधिक है.

2507 किलोमीटर के 7 एक्‍सप्रेसवे 2024-25 तक होंगे पूरे
सड़क मार्ग से आवाजाही आसान बनाने के लिए देशभर में 2507 किलोमीटर के सात एक्‍सप्रेसवे का निर्माण चल रहा है. इन सभी का काम 2024-25 तक पूरा कर लिया जाएगा. निर्माणाधीन एक्‍सप्रेसवे में दिल्ली-मुंबई एक्सप्रेसवे, दिल्ली- अमृतसर-कटरा एक्सप्रेसवे, अहमदाबाद-धोलेरा एक्सप्रेसवे,बंगलुरु-चेन्नई एक्सप्रेसवे ,कानपुर-लखनऊ एक्सप्रेसवे, द्वारका एक्सप्रेसवे दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेसवे शामिल हैं.

उत्‍तर प्रदेश का पूर्वांचल एक्‍सप्रेसवे से विकास का मार्ग खुला
पूर्वांचल एक्‍सप्रेसवे से पूर्वांचल के विकास का रास्‍ता खुल गया है. 340.824 किमी लंबा ये एक्सप्रेस-वे पूर्वी और पश्चिमी यूपी को जोड़ेगा. 42 हजार करोड़ की लागत से बने पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे लखनऊ के चांद सराय गांव से शुरू होगा. इससे लोग लखनऊ से बाराबंकी, अमेठी, सुलतानपुर, अयोध्या, अम्बेडकरनगर, आजमगढ़ व मऊ से गाजीपुर तक जा सकेंगे.

पूर्वांचल एक्सप्रेसवे लखनऊ में सुल्तानपुर रोड (एनएच-731) से प्रारंभ होकर यूपी-बिहार सीमा से 18 किलोमीटर पहले राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 31 पर स्थित गाजीपुर के ग्राम हैदरिया पर समाप्त होगा. पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे के निर्माण से प्रदेश का पूर्वी क्षेत्र राजधानी और आगरा-लखनऊ एक्सप्रेसवे व यमुना एक्सप्रेसवे के माध्यम से देश की राजधानी के कॉरिडोर से जुड़ गया है.

Tags: Ministry of Railways, National Highways Authority of India, NHAI, Nitin gadkari, Roads

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर