Home /News /business /

चुनाव से पहले मोदी सरकार का दाव, यहां पैसा लगाने वालों को होगा मोटा फायदा

चुनाव से पहले मोदी सरकार का दाव, यहां पैसा लगाने वालों को होगा मोटा फायदा

पीयूष गोयल ने एक ऐसी स्कीम की घोषणा की जो अनआर्गेनाइज्ड सेक्टर के कर्मचारियों को 60 साल की उम्र के बाद एक निश्चित पेंशन पाने में मदद करेगी. यह स्कीम है प्रधानमंत्री श्रम योगी मानधन योजना यानी PMSYM. आइए जानते हैं की इस घोषणा से आपको कैसे फायदा होगा..

पीयूष गोयल ने एक ऐसी स्कीम की घोषणा की जो अनआर्गेनाइज्ड सेक्टर के कर्मचारियों को 60 साल की उम्र के बाद एक निश्चित पेंशन पाने में मदद करेगी. यह स्कीम है प्रधानमंत्री श्रम योगी मानधन योजना यानी PMSYM. आइए जानते हैं की इस घोषणा से आपको कैसे फायदा होगा..

आगामी चुनाव से पहले मोदी सरकार वोटर्स को लुभाने के लिए छोटी बचत योजनाओं पर ब्याज दरें बढ़ा सकती हैं.

    आगामी चुनाव से पहले मोदी सरकार वोटर्स को लुभाने के लिए छोटी बचत योजनाओं पर ब्याज दरें बढ़ा सकती हैं. सरकार देश के ग्रामीण और अर्ध-शहरी क्षेत्रों में आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग (ईडब्ल्यूएस) और किसानों में लोकप्रिय कुछ छोटी बचत योजनाओं पर लागू ब्याज दरें बढ़ाने पर विचार कर रही है. सूत्रों के मुताबिक वित्त मंत्रालय ब्याज दरें बढ़ाने के लिए छोटी बचत योजनाओं का मूल्यांकन कर रही है. अगर इस संबंध में फैसला हुआ तो ब्याज दरों में परिवर्तन अगले वित्त वर्ष की पहली तिमाही में लागू हो सकता है.

    हाल ही में बढ़ाई गई थी PF की ब्याज दरें
    कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (ईपीएफओ) द्वारा 2018-19 के लिए भविष्य निधि जमा पर ब्याज दर 8.55 फीसदी से बढ़कार 8.65 फीसदी करने के प्रस्ताव की घोषणा किए जाने के बाद छोटी बचत योजनाओं पर ब्याज दरों में संशोधन करने पर विचार किया जा रहा है.

    ये भी पढ़ें: SBI ग्राहकों के लिए Alert! अगर मिला है ये मैसेज तो भूल कर भी नहीं करें ये गलती

    बाजार में जहां भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा प्रमुख ब्याज दरों में कटौती के बाद बैंकों द्वारा ब्याज दरों में कटौती की उम्मीद की जा रही है, वहां ईपीएफओ ने बाजार के रुख के बिल्कुल उलट अपने प्रस्ताव की घोषणा की.

    इन्हें होगा फायदा
    ब्याज दरों में बदलाव अमल में आने पर इससे पेंशनधारकों, बुजुर्गों, किसानों और मुख्य रूप से छोटी बचतों के ब्याज से प्राप्त आय पर निर्भर रहने वाले लोगों को फायदा होगा. सूत्र ने बताया कि ब्याज दरों में कितनी वृद्धि होगी और किन योजनाओं को इसमें शामिल किया जाएगा इस पर अभी विचार किया जा रहा है.

    ये भी पढ़ें: सिर्फ 20 रुपये में खोलें पोस्ट ऑफिस में बैंक अकाउंट, मिलेंगी सभी बैंकिंग सर्विस

    चुनाव की घोषणा से ठीक पहले ऐलान?
    उन्होंने बताया कि यह बदलाव चुनाव की तारीखों की घोषणा समीप आने पर किया जा सकता है क्योंकि इस कदम का मकसद देशभर में लाखों लघु बचतकर्ताओं को फायदा पहुंचाना है. चुनाव की तिथियों की घोषणा होने के बाद आदर्श आचार संहिता लागू हो जाने के कारण सरकार किसी कल्याणकारी योजना की घोषणा नहीं कर सकती है.

    सितंबर 2018 में भी हुई थी वृद्धि
    स्माल बचत योजनाओं पर ब्याज दरों की समय-समय पर समीक्षा की जाती है. पिछली बार सरकार ने तीसरी तिमाही (अक्टूबर-दिसंबर) के लिए सितंबर 2018 में ब्याज दरों में वृद्धि की घोषणा की थी. वित्त मंत्रालय द्वारा जारी सर्कलुर के अनुसार, सितंबर में विभिन्न लघु बचत योजनाओं में 30 से 40 आधार अंकों की वृद्धि की गई थी.

    ये भी पढ़ें: किसानों के खाते में पहुंची PM मोदी की भेजी 2000 रुपये की पहली किस्त, ये रहा सबूत!

    वृद्धि के बाद पीपीएफ और नैशनल सेविंग्स सर्टिफिकेट (एनएससी) पर ब्याज दर 8 फीसदी, सुकन्या समृद्धि योजना पर 8.5 फीसदी जबकि वरिष्ठ नागरिक बचत योजना पर 8.7 फीसदी हो गई. सिर्फ डाकघर लघु बचत योजना पर ब्याज दर को चार फीसदी पर स्थिर रखा गया.

    Tags: National Savings Certificate, Provident fund savings, Savings accounts, Small Savings Schemes

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर