खेती पर मंडराया खतरा! विदेश से आ रहे संदिग्ध बीज पार्सल, अलर्ट जारी

खेती पर मंडराया खतरा! विदेश से आ रहे संदिग्ध बीज पार्सल, अलर्ट जारी
रहस्यमय बीज पार्सल को लेकर केन्द्र ने राज्यों, उद्योगों को सतर्क किया

पिछले कुछ महीनों में दुनिया भर में हजारों संदिग्ध बीज खेप को भेजे जाने की सूचना प्राप्त हुई है. इसे कहा है, 'अज्ञात स्रोतों से भ्रामक पैकेज के साथ अनचाहे / संदिग्ध बीज पार्सल' का खतरा अमेरिका, कनाडा, ब्रिटेन, न्यूजीलैंड, जापान और कुछ यूरोपीय देशों में पाया गया है.

  • Share this:
नई दिल्ली. केंद्र ने राज्य सरकारों के साथ-साथ बीज उद्योग और अनुसंधान निकायों को अज्ञात स्रोत से भारत में आने वाले ‘संदिग्ध या अवांछित बीज पार्सल’ (mystery seed parcels) के बारे में सतर्क किया है, जो देश की जैव विविधता के लिए खतरा हो सकते हैं. कृषि मंत्रालय (Agriculture Ministry) ने कहा है कि इस संबंध में एक निर्देश जारी किया गया है. पिछले कुछ महीनों में दुनिया भर में हजारों संदिग्ध बीज खेप को भेजे जाने की सूचना प्राप्त हुई है. इसे कहा है, 'अज्ञात स्रोतों से भ्रामक पैकेज के साथ अनचाहे / संदिग्ध बीज पार्सल' का खतरा अमेरिका, कनाडा, ब्रिटेन, न्यूजीलैंड, जापान और कुछ यूरोपीय देशों में पाया गया है.

मंत्रालय ने यह भी उल्लेख किया कि अमेरिकी कृषि विभाग (USDA) ने इसे बीज बिक्री के फर्जी आंकड़े दिखाने का घोटाला (ब्रशिंग स्कैम) और कृषि तस्करी करार दिया है. USDA ने यह भी बताया है कि अनचाहे बीज पार्सल में विदेशी आक्रामक प्रजाति के बीज या रोगजनकों या रोग को पेश करने का प्रयास हो सकता है, जो पर्यावरण, कृषि पारिस्थितिकी तंत्र और राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए गंभीर खतरा पैदा कर सकते हैं.

यह भी पढ़ें- सावधान! कोरोना के इस संकट में ऐसे हो रही है लोगों के खातों से पैसों की चोरी



देश की जैव विविधता के लिए खतरा
कृषि मंत्रालय ने कहा कि अनचाही या रहस्यमय सीड पार्सल भारत की जैव विविधता के लिए खतरा हो सकता है. इसने कहा कि इसलिए, सभी राज्यों के कृषि विभाग, राज्य कृषि विश्वविद्यालयों, बीज संघों, राज्य बीज प्रमाणन एजेंसियों, बीज निगमों, भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद के साथ साथ उनके अपने फसल आधारित शोध संस्थानों को ‘संदिग्ध बीज पार्सल’ के बारे में सतर्क रहने का निर्देश दिया गया है.

निर्देश पर टिप्पणी करते हुए फेडरेशन ऑफ सीड इंडस्ट्री ऑफ इंडिया के महानिदेशक राम कौंडिन्य ने एक बयान में कहा, अभी यह केवल बिना ऑर्डर के अनधिकृत स्रोतों से आने वाले बीजों के माध्यम से पौधों के रोगों के संभावित प्रसार के लिए एक चेतावनी है. इसे बीज आतंकवाद बताना अभी जायज नहीं होगा. बीज कौन सी बीमारियां ला सकती हैं, इसकी एक सीमा है. लेकिन फिर भी, यह एक खतरा है. उन्होंने कहा कि ये बीज एक आक्रामक प्रजाति या खरपतवार हो सकते हैं, जो भारतीय वातावरण में स्थापित होने पर देशी प्रजातियों का मुकाबला या उनका विस्थापन कर सकते हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज