लाइव टीवी

मोदी सरकार का बयान- सरकारी बैंकों के विलय से नहीं जाएगी कोई नौकरी, साथ ही ग्राहकों को मिलेंगी बेहतर सुविधाएं

पीटीआई
Updated: December 4, 2019, 1:06 PM IST
मोदी सरकार का बयान- सरकारी बैंकों के विलय से नहीं जाएगी कोई नौकरी, साथ ही ग्राहकों को मिलेंगी बेहतर सुविधाएं
वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर ने कहा-सरकारी बैंकों के विलय से नहीं जाएगी कोई नौकरी

सरकार ने मंगलवार को राज्यसभा (Rajya Sabha) में एक बड़ा ऐलान किया है. सरकार ने सार्वजनिक क्षेत्रों के विभिन्न बैंकों के विलय से नौकरियां (Job Loss) जाने की आशंका को खारिज किया है.

  • Share this:
नई दिल्ली. सरकार ने मंगलवार को राज्यसभा (Rajya Sabha) में एक बड़ा ऐलान किया है. सरकार ने सार्वजनिक क्षेत्रों के विभिन्न बैंकों के विलय से नौकरियां (Job Loss) जाने की आशंका को खारिज किया है. वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर (Anurag Thakur) ने कहा है कि इससे किसी की नौकरी नहीं जाएगी बल्कि कर्मचारियों के हितों (Employee get benefits) की रक्षा होगी और ग्राहकों को बेहतर सुविधाएं मिल सकेंगी.

वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर ने उच्च सदन में प्रश्नकाल के दौरान पूरक सवालों के जवाब में कहा कि विभिन्न बैंकों के विलय से वे मजबूत और प्रतिस्पर्धी होंगे. उन्होंने कहा कि यह सुनिश्चित किया गया है कि किसी भी कर्मचारी की नौकरी नहीं खत्म हो.

ये भी पढ़ें: 50 हजार में शुरू करें ये खास बिजनेस, पैसा जुटाने में सरकार करेगी आपकी मदद

कर्मचारियों को होगा फायदा: ठाकुर

बैंकों के विलय से कर्मचारियों को अधिकतम लाभ होगा और विलय में उनके हितों को ध्यान में रखा रहा है. ठाकुर ने कहा कि विलय प्रक्रिया के दौरान सरकार ने पर्याप्त सावधानी बरती है. उन्होंने कहा कि 1998 में नरसिम्हन समिति और बाद में लीलाधर समिति आदि ने बैंकों के विलय की सिफारिश की थी. उन्होंने कहा कि सरकार ने सार्वजनिक क्षेत्र के 10 बैंकों (पीएसबी) का विलय कर उन्हें चार पीएसबी में बदलने को सैद्धांतिक मंजूरी दे दी है. इसका लक्ष्य मजबूत बैंक तैयार करना है जो अधिक सामर्थ्यवान और लाभकारी होंगे.

ये भी पढ़ें: GST काउंसिल की अगली बैठक में इन चीजों पर फिर से लग सकता है टैक्स

यूनाइटेड बैंक ऑफ इंडिया का PNB में विलयइस कदम के तहत यूनाइटेड बैंक ऑफ इंडिया (यूबीआई) का विलय पंजाब नेशनल बैंक में किया जाएगा जबकि इलाहाबाद बैंक का इंडियन बैंक के साथ विलय होगा. उन्होंने कहा कि यूबीआई का कुल कारोबार 2,08,000 करोड़ रुपये का है, जबकि पीएनबी का 11,82,224 करोड़ रुपये है. विलय के साथ, कुल कारोबार आकार 17,94,526 करोड़ रुपये होगा और यह देश का दूसरा सबसे बड़ा बैंक बन जाएगा.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Mumbai से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 4, 2019, 12:50 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर